पत्रकारों का खून चूसकर तिजोरी भरते हैं नईदुनिया वाले

E-mail Print PDF

श्‍यामआजकल बड़े मीडिया ग्रुप में संवाददाता, ब्यूरो को नाम मात्र का वेतन दिया जाता है। जिसमें गुजारा करना बेहद मुश्किल है। कई बार इस बारे में आवाज उठाई जाती है, लेकिन प्रबंधन द्वारा ऐसी आवाज को दफन कर दिया जाता है। दिल्ली में नईदुनिया के प्रधान संपादक आलोक मेहता लाखों रुपए प्रतिमाह वेतन लेते हैं।

ठीक इसके विपरित दिनभर सड़कों पर नईदुनिया के लिए खबर लिखने वाले संवाददाता को नाम मात्र की राशि प्रतिमाह दी जाती है। जो उँट के मुँह में जीरे के समान है। ऐसी स्थिति में नाम बड़े और दर्शन छोटे वाली कहावत चरितार्थ होती है। इस अखबार के संपादकीय बोर्ड के अध्यक्ष अभय छजलानी के पोता-पोती की शादी होती है तो करोड़ों रुपए खर्च किए जाते हैं।

जबकि अखबार में काम करने वाले रिपार्टर को तीन से चार अंकों का वेतन दिया जाता है। ऐसे में यह पदमश्री किस काम का है। जिनके अखबार में फोटोग्राफर, रिपोर्टर का शोषण होता है। दूसरी तरफ किसी न किसी संस्करण को निकालने के नाम पर विज्ञापन की मांग की जाती है। जब वेतन का मामला रखा जाता है तो इस संस्था में कार्यरत डेस्क प्रभारी हो या स्थानीय संपादक अपनी नौकरी बचाने के लिए आश्वासन देते हैं।

यह समाचार पत्र पिछले 68 वर्षों से इंदौर समेत कई शहरों से प्रकाशित हो रहा है। ग्रामीण संवाददाताओं की हालत काफी दयनीय है। उन्हें किराया, लेटरहेड, फैक्स, मेल आदि भेजने के नाम पर ठेंगा दिखाया जाता है।

श्‍याम जाटव

नीमच

This e-mail address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it

मो. 9407145299


AddThis
Comments (6)Add Comment
...
written by prakash, April 03, 2011
ye baat utni hi sach hai, jitna khara sona. naidunia se lekar jitne bade media house hain, ve sirf young blood ko chooste hain. inke dumchhalle, swarthi or mulya aadharit patrkarita ki duhaaai dene wale sampadak (liasoner) sirf badi baaton se pet bharna jante hain or manch par badi nasihaten dete hain. tabhi to ye sansthan bujurgon ke liye hai, jo sirf pake aam jaise logon ko rakhna or dalai karwana pasand karta hai. joining me aise time lagate hain jaise 'newyork times' ho, or baad me youth ko thenga dikhakar chand rupyon par barson tak marwaane ke liye kahte hain. umesh trivedi ke liye madan mohan joshi, rajesh badal jaise log dalal ki category me aate hain unse puchiye ki indore ke dhande paani me kis-kis neta or adhikari ki chatte hain. usi tarah girish upadhyay hain, pake aam ki tarah uni se aaye or umesh ji ka ghar kachuna karne me lag gaye. khair jo bhi ho ye sansthaan boodhon, nikrashton or lobbying karne walon ke liye hai. in hukmarano or brand ke hi-fi dalal alok mehta or baniya abhay chajlani ke karmon ko ro raha hai. bhagwaan hi malik hai in chootiyon ka. aage bahut kuch hai, lekin kishton me marne me mujhe zyada maza aati hai...... aage bataunga inki oukaat ke baare me.
tab tak ke liye. gd. bye!
prakash
...
written by बिल्‍लू, April 02, 2011
हिंदी सहित भाषाई समाचार पत्रों में इस तरह का शोषण आम है। संपादकों की हैसियत संपादक जैसी है ही नहीं, वे केवल चाटुकार हैं जो मालिकों के आगे पीछे कुत्ते की तरह दुम हिलाते रहते हैं। यही वजह है कि उन्‍हें मोटा वेतन मिलता है और दिन भर खबरें लिखने वाला एवं डांट खाने वाला पत्रकार तंगहाली में मरता है।
...
written by dharmenra, April 01, 2011
naidunia ke aal edition ka yahi hal hai. charan sewak malai kha rahe hai-mall peet rahi hai. jameen ke sode kar rahye hai. bildars ke dalal hai. 50-50 lakh ke makan khareed rahye hai. yah sab naiduina ke DALAL SAMPADAK nahi to aur kya hai. malik jago aur jach karao. yahi mooka hai dalal sampadko se mukti pane ka barna no-5 par sarak jaooge.
...
written by kapil sharma, March 31, 2011
sahi kaha yadavji. is akhbaar ke ek editer umesh trivedi medikal collage ke malik ban gaye. jibhan bhar sirf netao ke taluye chate hai.
...
written by Bijender Sharma, March 31, 2011
yahi hal punjab kesri ka bhi hai
...
written by sudarshan, March 31, 2011
bilkul sahi lika bhai. poore naidunia namak kuye me bhang ghulee hai. sampadak apne nookre-tabadla bachane ke liye chamcha giri karte hai. sallo ek he sthan par tike rahkar apna ghar bhar rahe hai aur msr raha hai reporter. malik me dam hai to ek bhe sampadak ka tabadla karke dikhai.

Write comment

busy