अखबारों के रंग : एक ने गोवा बंद किया दूसरे ने खोल दिया

E-mail Print PDF

नमिता शांति और खूबसूरती के लिए जाना जाने वाला गोवा 6 जून को दहक उठा.  मुद्दा था सरकारी अनुदान सिर्फ अंग्रेजी माध्यम के प्राइमरी स्कूलों को न मिले बल्कि मराठी और कोकनी भाषा के स्कूलों को भी मिले. बीबीएसएम यानी भारतीय भाषा सुरक्षा मंच ने कामथ सरकार के उठाये इस कदम का विरोध करते हुए 6 जून को गोवा बंद का आहवान किया.

पेरने से लेकर मप्सा, पणजी, वास्को, मार्गो और कनकोना तक इसका असर दिखा. ज्यादातर दुकान और स्कूल बंद रहे. हालाँकि कुछ जगहों पर बंद का असर कम भी दिखा. कई रास्ते सुनसान थे तो कई जगहों पर आगजनी भी देखने को मिली.  प्रशासन ने भारी तादाद में पुलिस की व्यवस्था की थी और आरएएफ़ के जवान भी तैनात थे. ये सब जिक्र करना जरूरी है क्योंकि 7 जून को गोवा के सभी अखबारों का प्रथम पृष्ठ इसी खबर से पटा हुआ था,  जो स्वाभाविक भी है, लेकिन जो अस्वाभाविक चीज़ देखने में आयी वो ये कि सभी अख़बारों ने अपने-अपने हिसाब से 6 जून की गोवा बंद की तस्वीर खींच डाली है.

गोवा

गोवा का एक बेहद प्रतिष्ठित अखबार अपने फोटो और आलेखों के जरिये ये दर्शाने की कोशिश कर रहा था कि बंद बिलकुल असफल रहा. वहीं दूसरी तरफ एक और अखबार ये बताने में जुटा था कि बंद पूरी तरह से सफल रहा. एक तीसरे अखबार ने संतुलन बनाये रखने की कोशिश की कि बंद का असर फिफ्टी-फिफ्टी रहा. गोवा कि ये सभी अखबार मुख्यधारा के अखबार हैं, ना कि किसी जाति या धर्म के मुखपत्र. ऐसे में इस गंभीर विषय, जो बच्चों के भविष्य से जुड़ी है, पर गंभीरता से विचार करने की बजाये अगंरेजी बनाम क्षेत्रीय भाषा ( कोंकणी, मराठी ) की लड़ाई में फँस कर रह गयी लगती है.

मुख्यधारा के एक अखबार की या पत्रकारिता क़ी जो गरिमा या जिम्मेदारी दिखनी चाहिए, वो 7 जून को प्रकाशित होने वाले अख़बारों में देखने को नहीं मिला. हर जगह भटकाव देखने को मिला, जो बेहद दुःखदाई है. मीडिया का काम व्यकितगत विचारों से परे उठ कर तथ्यों को सामने लाना है और वो भी पूरी पारदर्शिता के साथ, परन्‍तु गोवा के बड़े अखबार पूरी तरह से असफल दिखे.

नमिता शरण

एडिटर, गोवासमाचार.कॉम


AddThis
Comments (0)Add Comment

Write comment

busy