महासमुंद का जनसंपर्क विभाग और पत्रकार : अंधा पीसे- कुत्‍ता खाय

E-mail Print PDF

छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर से नजदीक का जिला है महासमुंद। जहां पत्रकारिता में इन दिनों 'अंधा पीसे, कुत्ता खाए'  वाली कहावत चरितार्थ हो रही है। यहां जनसंपर्क विभाग के द्वारा जारी खबरों में रोज-रोज गलती कोई नई बात नहीं। लंबे अर्से से जनसंपर्क विभाग द्वारा जारी खबरों में गलती पर गलती देखी जा रही है। अब तो महागलती होने लगी है।

शासन-प्रशासन और मीडिया के बीच की सेतु जनसंपर्क विभाग के जिम्मेदार अधिकारी-कर्मचारी जब गलती पर गलती करेंगे तो लोक कल्याणकारी योजनाओं की जानकारी आम आदमी को कितना सही-सही मिल पाएगा। इसका अंदाजा सहज ही लगाया जा सकता है। यहां हम पत्रकारों की कार्यप्रणाली पर आखिरी में प्रकाश डालेंगे। पहले बात करते हैं, जनसंपर्क विभाग की गलतियों की। नीचे संलग्न जनसंपर्क विभाग के समाचार-पूर्व सरपंचों से राशि वसूली जारी पर जरा गौर करें। आप पाएंगे कि पूर्व सरपंचों से वसूली गई है 11 लाख 8 हजार 68 रुपए मात्र। और जनसंपर्क विभाग का गणित इतना कमजोर है कि एक करोड़ दस लाख आठ हजार 68 रुपए वसूली होना बता दिया गया। अनेक अखबारों में यह गलत समाचार अक्षरशः प्रकाशित भी हो गया।

दरअसल माजरा यह है कि एसडीएम ने पूर्व सरपंचों से बकाया वसूली अभियान चला रखा है। इस क्रम में बागबाहरा जनपद क्षेत्र के पूर्व सरपंचों से सात लाख 83 हजार 68 रूपए और महासमुंद जनपद क्षेत्र के पूर्व सरपंचों से तीन लाख पच्चीस हजार वसूल किया गया है। इस प्रकार कुल राशि हुई 11 लाख 08 हजार 68 रुपए। इसे अंकों में हम लिखेंगे 1108068 रुपए। इसे जनसंपर्क विभाग के जिम्मेदार अधिकारी-कर्मचारियों ने पढ़ा एक करोड़ दस लाख आठ हजार 68 रुपए। और समाचार बनाकर समाचार पत्रों में 8 जुलाई को भेजा। भेजे गए समाचार का मूल नीचे अक्षरशः प्रकाशित है। ये तो हुआ जनसंपर्क विभाग की महागलती। महागलती इसलिए कह रहे हैं कि इसके पहले जनसंपर्क विभाग ने अनेकों ऐसी गलतियां की है, जिसे पढ़कर आप दांतों तले ऊंगली दबा लेंगे। इस साल ग्राम सुराज अभियान के दौरान कलेक्टर का सरनेम ही बदल दिया। हमारे पत्रकार साथी भी इतनी मदहोशी में रहते हैं कि कलेक्टर का सरनेम बदला हुआ समाचार को भी अक्षरशः प्रकाशित कर डाले।

कुष्ठ मुक्ति महाअभियान के प्रचार के नाम पर पत्रकारों को एक-एक हजार रुपए कथित तौर पर जनसंपर्क अधिकारी द्वारा दिए जाने का मामला भी सुर्खियों में रहा। प्रत्यक्षदर्शी तो यहां तक बताते हैं कि महासमुंद के जनसंपर्क अधिकारी के रवैये से सख्त नाराज जनसंपर्क संचालनालय के आयुक्त व प्रमुख सचिव एन बैजेंद्र कुमार ने महासमुंद के जनसंपर्क अधिकारी को तत्काल हटाने का निर्देश दिया था। प्रशासन की छवि धूमिल करने वाले कृत्य के लिए कड़ी फटकार भी लगाई थी। महासमुंद प्रेस क्लब ने जनसंपर्क अधिकारी के रवैये से नाराज होकर निंदा प्रस्ताव भी पारित किया था। बावजूद रवैये में कोई सुधार नहीं आया और गलती पर गली और महागलती का दौर जारी है। ये तो हुआ जनसंपर्क विभाग की अंधेरगर्दी और अब बात करते हैं मीडिया के कर्णधारों की। अपने को ब्यूरो चीफ, वरिष्ठ पत्रकार और न जाने क्या-क्या कहने वाले साथी पत्रकार सबकुछ जानते हुए भी जनसंपर्क विभाग की खबरें अक्षरशः प्रकाशित कर पाठकों के कोप भाजन का पात्र बन रहे हैं। ऐसे में यह कहना गलत नहीं होगा- अंधा पीसे, कुत्ता खाए।

ये है जनसंपर्क विभाग की खबर -


जनसंपर्क कार्यालय, महासमुंद

समाचार

पूर्व सरपंचों से राशि वसूली जारी

महासमुन्द, आठ जुलाई 2011/ जिले में महासमुंद और बागबाहरा विकासखण्ड के अंतर्गत ऐसे भूतपूर्व सरपंच जिन्होंने निर्माण कार्य की राशि आहरण कर निर्माण कार्य पुरा नहीं कराया, उनसे बकाया राशि वसूली की कार्रवाई की जा रही है। इसके तहत महासमुंद अनुविभाग में अब तक 97 भूतपूर्व सरपंचों/पंचायत पदाधिकारियों से एक करोड़ दस लाख आठ हजार 68 रूपए की राशि वसूली की जा चुकी है।

अनुविभागीय अधिकारी (राजस्व) कार्यालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार जिन भूतपूर्व संरपचों ने निर्माण कार्यों हेतु राशि का आहरण कर निर्माण कार्य पुरा नहीं कराया, उनके विरूद्ध पंचायत राज अधिनियम 1993 की धारा 92 के तहत कार्रवाई की जा रही है। इसके तहत अब तक जनपद पंचायत बागबाहरा के भूतपूर्व सरपंचों से सात लाख 83 हजार 68 रुपए और महासमुंद के भूतपूर्व सरपंचों से तीन लाख 25 हजार रुपए वसूल किया गया है। बताया गया वसूली कार्रवाई के तहत आज ग्राम पंचायत अछोला के भूतपूर्व सरपंच श्री बिसहत राम धु्रव से 15 हजार, ओंकारबंद के श्री नीरज चंद्राकर से 25 हजार रुपए, कुलिया की भूतपूर्व सरपंच श्रीमती डूमेश्वरी सिन्हा से 36 हजार 539 और कुर्रूभाठा के भूतपूर्व सरंपच श्री हिम्मतलाल से 20 हजार रुपए वसूल किया गया। इस तरह कुल 96 हजार 539 रुपए इस कार्रवाई में वसूल किए गए।

क्र/26

लेखक आनंद साहू महासमुंद में पत्रिका के ब्‍यूरोचीफ हैं.


AddThis