भोपाल वाले एनके सिंह ने भी जगजीत को उसी समय मार दिया था

E-mail Print PDF

मैंने पीपुल्स समाचार, इंदौर संस्करण के स्थानीय संपादक पद से त्यागपत्र के साथ ऐलान किया था कि मैं पीपुल्स समाचार के संपादक एनके सिंह की कारगुजारियों को उजागर करुंगा. कुछ खबरों को लेकर कथित वरिष्ठ पत्रकार एनके सिंह के बयान को सार्वजनिक कर रहा हूं. इससे आप स्वयं अंदाज लगा सकते हैं कि ऐसे कृत्‍य करने वाले शख्स ने नई दुनिया, इंडियन एक्सप्रेस, इंडिया टुडे, हिंदुस्तान टाइम्स में क्या गुल खिलाए होंगे.

एनके सिंह ने दिनांक 24 सितंबर 2011 को इंदौर, भोपाल, ग्वालियर, जबलपुर के स्थानीय संपादक को एक मेल भेजा. मेल में एनके सिंह ने जानकारी दी कि प्रसिद्ध गजल गायक जगजीत सिंह नहीं रहे. उन्होंने बताया कि पीपुल्स समाचार जगजीत सिंह पर विशेष पेज निकालने जा रहा है. इस पेज के लिए चारों संस्करण से सामग्री चाही गई. निर्देश दिए गए कि अपने-अपने शहर के संगीतकार-गीतकार और गजल गायकों से जगजीत सिंह के निधन पर इंटरव्यू किए जाएं और दो घंटे के भीतर सामग्री भोपाल भेज दी जाए. सभी संस्करणों ने एनके सिंह का मेल मिलते ही तत्काल प्रतिक्रियाएं जुटाना शुरू कर दी. थोड़ी ही देर में एक स्थानीय संपादक ने मुंबई फोन लगाया तो पता चला कि जगजीत सिंह आईसीयू में भर्ती हैं और उनका इलाज जारी है.

एक स्थानीय संपादक ने जब इस बात की जानकारी एनके सिंह को दी तो उन्होंने कहा कि आप लोगों को नहीं पता थोड़ी देर में जगजीत सिंह की मौत की खबर घोषणा कर दी जाएगी. पीपुल्स समाचार के जिन संवाददाताओं ने एनके सिंह के निर्देश पर संगीत जगत से जुड़े कलाकारों को फोन लगाए, वे मृत्यु का समाचार सुनकर अवाक रह गए. थोड़ी ही देर बाद  संवाददाताओं के पास नाराजगी भरे फोन आना चालू हो गए कि पीपुल्स समाचार इतने बड़े कलाकार के साथ ऐसा भद्दा मजाक क्यों कर रहा है.

छोटी-छोटी गल्तियों पर स्टाफ को नौकरी से हटाने और नोटिस देने वाले एनके सिंह को इस जबर्दस्त भूल पर कोई ग्लानि नहीं हुई. उन्होंने न तो इस गलती के लिए खेद व्यक्त किया और न ही नया ई-मेल भेजकर स्थानीय संपादकों को अपडेट किया. आप स्वयं अंदाजा लगा सकते हैं कि यदि ऐसी गंभीर त्रुटि एनके सिंह के राज में किसी और ने की होती तो उसे कितना गंभीर दंड मिलता. जिम्मेदार पत्रकारिता और नैतिकता का ढोल पीटने वाले एनके सिंह इस घटनाक्रम से तनिक भी लज्जित नहीं हुए. एनके सिंह के इस ई-मेल की मूल प्रति भी संलग्न की है.

जारी...

लेखक प्रवीण खारीवाल पीपुल्स समाचार, इंदौर के स्थानीय संपादक रहे हैं. वे कई अखबारों में वरिष्ठ पदों पर रह चुके हैं. इन दिनों वे इंदौर प्रेस क्लब के अध्यक्ष हैं.


AddThis