जज ज्ञान सुधा की टिप्पणी पर हंगामा क्यों!

E-mail Print PDF

विनयजीमुझे आश्चर्य हो रहा है कि सुप्रीम कोर्ट की जज ज्ञान सुधा मिश्र की टिप्पणी पर इतना हंगामा क्यों हो रहा है। उन्होंने ठीक ही लिखा है कि बेटियां उनके लिए एक जिम्मेदारी हैं। जिस भारतीय मध्य वर्ग समाज में हम रहते हैं वहां यूं ही बेटियों की शादी नहीं हो जाती। आप बेटी की शादी के लिए किसी बेटे वाले के घर जाते हैं तो आपसे भारी दहेज की मांग की जाती है। जो लोग हाय तौबा मचा रहे हैं, वे शायद किसी दूसरी दुनिया में रहते हैं या उनके समाज में बेटी की शादी समस्या नहीं होगी।

एक अंग्रेजी अखबार ने तो यहां तक लिख दिया है कि जिस देश में लड़कियां बड़े- बड़े पदों पर हैं, वहां लड़कियों को जिम्मेदारी क्यों माना जाए। ऐसा लिखने वाले हमारे मित्रों को समाज की हकीकत नहीं मालूम। या तो वे बेटियों के पिता नहीं हैं या फिर वे राजा- महाराजा या बड़े औद्योगिक घराने के परिवार के हैं। मैं मध्यवर्गीय परिवार का व्यक्ति हूं। इसलिए कह सकता हूं कि हमारे समाज में दहेज न लेने वाले गिने- चुने लोग ही हैं। बेटी की शादी यानी पैसे का खेल। जी हां। तो सुप्रीम कोर्ट की जज ज्ञान सुधा मिश्र जी ने जो लिखा है, वह शत- प्रतिशत सच है।

मध्यवित्त समाज में निकलिए और बेटी की शादी तय करने की कोशिश कीजिए। असली मामला समझ में आएगा। सिद्धांत बघारना अलग चीज है और सच्चाई से रू-ब-रू होना दूसरी चीज। जो लोग दहेज के खिलाफ बड़ी- बड़ी बातें करते हैं उनके बेटे की शादी होती है तो दहेज के लिए लालायित हो जाते हैं। कथनी और करनी में भारी अंतर मैंने एक नहीं अनेक जगहों पर देखा है। आप देश के किसी कोने में चले जाइए, बेटी की शादी करनी है तो दहेज देना ही पड़ेगा। जब प्रेम विवाह होते हैं तो वहां बेटे वालों की मजबूरी हो जाती है। मैं पश्चिम बंगाल में रहता हूं। यहां मैंने कुछ जेनुइन लोगों को देखा है जो शादी को पवित्र रिश्ता मानते हैं। व्यापार नहीं।

मैंने ऐसे बेटे वालों को भी देखा है जो शादी में गाड़ी, बेटे की नौकरी, सोने के भारी गहने, लाखों रुपए कैश और कम से कम दस लाख रुपए के लक्जरी सामान की मांग की है। उनका बेटा एक स्कूल में लेक्चरर है। उसी की शादी के लिए इतनी मांग की गई थी। भाई साहब, हम ऐसे देश में रहते हैं कि फूल से प्यारी बेटियां, जिनमें करुणा, प्रेम और सेवा के साथ उच्च शिक्षा और इंटेलिजेंस है, की शादी करने में नाकों चने चबाने पड़ते हैं। जो लोग ज्ञान सुधा मिश्र के बयान की निंदा कर रहे हैं, उनसे मेरा निवेदन है कि वे सच्चाई जानें। सिद्धांत बघारना और सच्चाई से रू-ब- रू होना परस्पर विरोधी स्थितियां हैं। लड़की का पिता बेचारा बन कर शादी के लिए घूमता है भाई साहब। वह कभी अपनी जेब टटोलता है तो कभी मोल भाव करता है। अगर वह भाग्यवान हुआ तो शादी हो गई वरना वर खोजने का सिलसिला जारी रहता है।

लेखक विनय बिहारी सिंह कोलकाता के वरिष्ठ पत्रकार हैं और हिंदी ब्लाग दिव्य प्रकाश के माडरेटर भी। उनसे संपर्क करने के लिए This e-mail address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it का सहारा ले सकते हैं।


AddThis