चौदह साल का वनवास बीता, सफर अब भी जारी है

E-mail Print PDF

अमर आंनद: चलती रही ज़िंदगी : कहां से शुरुआत करूं मैं। रुकावटें कई रही हैं, लेकिन ज़िंदगी फिर भी चलती रही है, बढ़ती रही है। कभी खुशी के जज़्बात, तो कभी ग़म के हालात। डाल्टनगंज से दिल्ली आए 14 साल हो गए। लेकिन सफर जारी है। न जाने कैसे-कैसे जतन करने पड़े हाथ-पांव जमाने के लिए, और अब भी जारी है ये सब। निराशाएं भी मिली हैं और नतीजे भी।

कहते हैं कि हसरतों का कोई अंत नहीं होता, लेकिन सच पूछिए कोई ऐसी हसरत रही ही नहीं अपनी, जो मेरी औकात से बड़ी हो या फिर अपने सपनों में उसे जगह न दी जा सके। बस हमेशा से यह रहा कि में भी भूखा न रहूं और साधु भी भूखा न जाए। यानी खुद भी मजबूत रहूं और मिलने वाले ज़रूरतमंदों के लिए भी कुछ किया जा सके। पहले अखबार और फिर टीवी की नौकरी। धीरे-धीरे बढ़ने की चाहत रही अपनी। ये सोचते हुए भी कि अचानक उड़ने के बाद आदमी जब गिरता है, तो फिर दोबारा उठकर खड़ा होना उसके लिए मुश्किल हो जाता है।

करियर के मामले मे शुरू से ही मुश्किलें रही हैं। शायद कोई कोर्स नहीं किया था, इस वजह से भी ऐसा माना जा सकता है। लेकिन, कहते हैं कि एक अनुभव के बाद कोर्स कोई मायने नही रखता, तो ऐसा मेरे साथ भी हुआ। लेकिन दिक्कत तब ज्यादा होती थी, जब कोर्स किए हुए किसी जूनियर को मेरे ऊपर या मेरे बराबर बैठा दिया जाता था। पर प्राइवेट नौकरी करने वाले समझदार लोगों का ये मानना है कि नौकरी तभी निभती है, जब बॉस की हर इच्छा को आदेश मान लिया जाता है। यानी नौकरी में ना करने की गुंजाइश बिल्कुल नहीं रह जाती। अगर असहमतियां हैं तो उसे पूरी तरह नज़रअंदाज़ करना होगा। कई संस्थानों में ऐसे अवसर आए, जब लगा कि अब बहुत हो गया। मगर ऐसे वक्त में शुभचिंतकों की नसीहतें काम आईं और घर-परिवार की सुविधा को जेहन में रखते हुए सब कुछ झेलता चला गया। हर नया दिन ऐसा होता, जैसे पिछले दिन कुछ हुआ ही नहीं।

अगर आप प्राइवेट नौकरी में हैं, तब आप भी सहमत होंगे इस बात से। कभी-कभार बॉस को किसी बात के लिए राज़ी करने लेना या अपने तर्कों से सहमत कर लेना एवरेस्ट चढ़ने से भी ज्यादा मेहनत है। कई दफा तो यह भी होता है कि आप जान न्योछावर कर देने जितनी मेहनत अपने काम में कर देते हैं, पर बॉस खुश नहीं होते। दरअसल हर बात के लिए बॉस के अपने तर्क होते हैं और वो मान कर चलता है कि यह आखिरी है। इसके बाद किसी की कोई गुंजाइश नहीं होती। कई बार तो बॉस अपने सहयोगियों की बात सुने बिना फैसले पर आ जाता है। आपको साफ लगता है कि यह सही नहीं है, लेकिन इसको स्वीकार करने के लिए विवश होते हैं क्योंकि आप मुलाज़िम हैं।

बाबूजी की इच्छा के खिलाफ चुने गए जर्नलिज्म की फील्ड ने 14 साल में बहुत कुछ दिया। रोजी, रोटी और दिल्ली जैसी जगह के पास अपना घर, एक अच्छे से स्‍कूल में पढ़ाई करने वाली दस साल की बेटी। ब्यूटी पार्लर के ज़रिए बीवी ने भी अपना रोज़गार तलाश ही लिया है। लेकिन यकीन मानिए मंज़िल से अभी भी अपनी दूरियां बरकरार है। चाहता हूं कि और मेहनत करूं। ताकत हासिल करूं। कम से कम इतनी की समाज में एक रसूख हो, पकड़ हो और मजबूर लोगों के लिए कुछ करूं। वो लोग जिनसे जुड़ कर बेपनाह ताकत का अहसास होता रहा, वो मेरे मित्र हैं, शुभ चिंतक हैं और इनमें से कई तो बेहद असरदार भी हैं। ज़िंदगी में कई मोर्चो पर जब हारता हुआ सा महसूस होता है, तो ताकत बनकर खड़े होते हैं यही लोग।

खुशियां भी मिली हैं और गम भी। गम का क्या है, कोई भी दे जाता है। अपने भी और पराए भी। मन मसोस कर रह जाता हूं और कभी-कभी तो रो उठता है मन। लेकिन  ज़िंदगी से जब कभी मायूसी या ऊब महसूस होती है तो समान सोच वाले दोस्तों का ही सहारा मिलता है या फिर संगीत का। पुराने गायकों के गीत बेहद पसंद आते हैं खास तौर से जज़्बात के हर पहलू को छूते हुए मुकेश के गीतों से ज़िंदगी के गमों को ताकत बनाने में बेहद मदद मिलती है। थोड़ी-बहुत निराशा, उसके बाद फिर आशा। चलता रहा जीवन का सफर।

क्योंकि जीवन चलने का नाम है। ऐसा मुकेश ने अपने गीत में कहा है। मेरा मन इस फलसफे पर यकीन करता है कि जो भी करो दिल से करो और सिर्फ अपने लिए नहीं दूसरों के लिए भी करो। उस धरती के लिए करो, जहां की मिट्टी ने पैदा होने से लेकर पनपने तक के मौके दिए। हमेशा मेरा मन ऐसे लोगों को ढूंढता है, जो मेरी तरह के भी हों और मेरी तड़प के भी। मेरी तड़प यानी कुछ ऐसा करन की तड़प, जिससे जीवन सार्थक हो जाए।

हां, मुझे शिकायत भी रही है, दो तरह के लोगों से। एक वो जो अपनी समस्याओं के लिए संज़ीदगी से नहीं लड़ते। कई बार तो उनके साथ खड़ा व्यक्ति उनसे ज्यादा संज़ीदा हो जाता है, और वो अपनी ही समस्याओं को हल्के में लेने लगते हैं। दूसरे वो लोग जो अपनी वक्त की कद्र नहीं करते हैं। जहां भी जाना है हमेशा देर से पहुंचते हैं।

लेखक अमर आनंद टीवी पत्रकार हैं। उनका ये लेख बिंदिया पत्रिका के दिसंबर अंक से साभार लिया गया है।


AddThis