वरिष्‍ठ पत्रकार राधेश्‍याम शर्मा माणिकचंद वाजपेयी राष्‍ट्रीय पुरस्‍कार से सम्‍मानित

E-mail Print PDF

वरिष्ठ पत्रकार और दैनिक ट्रिब्यून के पूर्व संपादक राधेश्याम शर्मा को भोपाल (मध्यप्रदेश) में आयोजित राज्य स्तरीय कार्यक्रम में ध्येयनिष्ठ, मूल्याधारित, उद्देश्यपूर्ण एवं विकास पत्रकारिता के लिए मध्य प्रदेश सरकार द्वारा माणिक चंद वाजपेयी राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित किया गया। उन्हें यह सम्मान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदान किया। सम्मान में दो लाख रुपए की नकद राशि, एक शाल और प्रशस्ति पत्र दिया गया।

श्री शर्मा ने अपनी पत्रकारिता यात्रा वर्ष 1952 में काशी हिंदी विश्वविद्यालय के छात्र रहते हुए बनारस से प्रकाशित - दैनिक जनसत्ता- के संवाददाता के रूप में की थी। उसके बाद वह छह साल तक जबलपुर (मध्यप्रदेश) से प्रकाशित- दैनिक युगधर्म- के संपादक रहे। वर्ष 1978  में श्री शर्मा दैनिक ट्रिब्यून, चंडीगढ़ से जुड़ गए और 1982 से 90 तक उन्होंने यहां संपादक के रूप में काम किया और पत्रकारिता के नए आयाम स्थापित किए।

वर्ष 1990 में उन्हें देश के एक मात्र पत्रकारिता विवि माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता विश्वविद्यालय, भोपाल का संस्थापक कुलपति नियुक्त किया गया। उन्होंने चार वर्ष के अपने कार्यकाल में इस विवि को पूरे भारत में नई पहचान दिलाई। वर्ष 1997 में चंडीगढ़ और धर्मशाला से प्रकाशित दैनिक समाचार पत्र दिव्य हिमाचल के संपादकीय सलाहकार रहे और कुछ समय तक उन्होंने दैनिक  भास्कर चंडीगढ़ को भी सलाहकार के रूप में अपनी सेवाएं दीं।

साहित्यिक अभिरूचि और पत्रकारिता जगत में उनकी प्रतिष्ठा को देखते हुए हरियाणा सरकार ने वर्ष 2005 में उनको हरियाणा साहित्य अकादमी का निदेशक नियुक्त किया। अपने दो साल के सेवाकाल में उन्होंने अकादमी की गतिविधियों को न केवल राज्य के दूरदराज इलाकों तक पहुंचाया वरन नए युवा साहित्यकारों, कवियों और लेखोंकों को भी अकादमी से जोड़ा।

पंजाब यूनिवर्सिटी चंडीगढ़, पंजाबी विश्‍वविद्यालय पटियाला, रानी दुर्गावती यूनिवर्सिटी जबलपुर, रानी अहिल्‍याबाई यूनिवर्सिटी इंदौर, गुरु घासीदास यूनिवर्सिटी बिलासपुर में पत्रकारिता के अध्‍यापन का कार्य भी किया। इन्‍होंने पश्चिम जर्मनी, पेरिस, रोम और पूर्वी जर्मनी, पाकिस्‍तान और रूस की यात्राएं भी की। इन्‍हें बलराज साहनी पुरस्‍कार, मातुश्री पुरस्‍कार, राज बदलेव सम्‍मान, हरियाणा सरकार का बाबू बालमुकुंद गुप्‍त पत्रकारिता पुरस्‍कार,  गणेश शंकर विद्यार्थी पत्रकारिता पुरस्‍कार से भी सम्‍मानित किया जा चुका है।

महेंद्र सिंह राठौड़ की रिपोर्ट.


AddThis