पत्रकार देव श्रीमाली और डॉ केशव पांडे का सम्मान

E-mail Print PDF

ग्वालियर : राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने देव ऋषि नारद की जयंती पर ग्वालियर में एक संगोष्ठी का आयोजन किया गया. इस संगोष्ठी के मुख्य वक्ता राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य और विचारक श्री कान्त जोशी थे. विशिष्ठ वक्ता के रूप में वरिष्ठ पत्रकार और ग्रामीण पत्रकारिता विकास संस्थान के अध्यक्ष श्री देव श्रीमाली और डॉ केशव पांडे थे. कार्यक्रम के प्रारम्भ में स्वदेश के संपादक श्री अतुल तारे ने परिसंवाद के विषय -भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई में मीडिया की भूमिका विषय- पर विषय प्रवर्तन किया.

परिसंवाद के मुख्य वक्ता श्रीयुत जोशी ने कहा कि भ्रष्टाचार एक मानवीय विकार का रूप ले चुका है और इसको समाप्त करने के लिए मानवीय व्यवहार में परिवर्तन करना लाजिमी है. इसके अलावा एक बड़े जन आन्दोलन की भी महती आवश्यकता है जिसमें मीडिया महती भूमिका निभा सकता है. उन्होंने यह भी कहा कि इस समस्या के निराकरण में मीडिया को देव ऋषि नारद की तरह निर्भीकता का प्रदर्शन भी करना पड़ेगा.

वरिष्ठ पत्रकार और ग्रामीण पत्रकारिता विकास संस्थान के अध्यक्ष श्री देव श्रीमाली ने कहा कि भ्रष्टाचार एक सामाजिक बुराई है और इसका निराकरण सिर्फ राजनीतिक और कानूनी उपायों के ज़रिये संभव नहीं है. इसमें मीडिया की भूमिका सीमित है क्योंकि मीडिया कोई विकल्प प्रस्तुत नहीं करता. अगर समाज में कोई अच्छा विकल्प मौजूद है तो उसका साथ दे सकता है. उन्होंने कहा कि पहले देश में सिर्फ एक परिवार की सरकार चलती थी गाँधी परिवार की, लेकिन १९७७ के बाद दो परिवारों की सरकारें आई. दूसरा संघ परिवार है. यदि संघ इनके ज़रिये कांग्रेस से बेहतर इमानदार विकल्प प्रस्तुत करे तो कुछ ठीक हों सकता है लेकिन ऐसा अभी तक हुआ नहीं. इस बात पर संघ परिवार को गंभीरता से चिंतन करना चाहिए. यह सच है कि बेईमानी के दानव को इमानदारी का विकल्प ही मार सकता है. वेहतर विकल्प होने के कारण ही ममता वनर्जी पश्चिम बंगाल से बामपंथी सरकार हों उखाड़ पायी क्योंकि वे सादगी और इमानदारी का वेहतर विकल्प प्रस्तुत कर सकीं. इस परिसंवाद के मौके पर तीनो अतिथियों को अंग वस्त्र देकर सम्मानित किया गया. कार्यक्रम का संचालन पत्रकार प्रवीद दुबे और आभार प्रदर्शन दिनेश चाकणकर ने किया. प्रेस विज्ञप्ति


AddThis