हिंदुस्‍तान के पत्रकार सुबोध कुमार को मिला राहुल सांकृत्‍यायन पुरस्‍कार

E-mail Print PDF

बिहार के युवा पत्रकार सुबोध कुमार नंदन को उनके पुस्‍तक 'बिहार के पर्यटन स्‍थल और सांस्‍कृतिक धरोहर' को पर्यटन मंत्रालय की ओर से राहुल सांकृत्‍यायन पर्यटन पुरस्‍कार योजना 2009-10 के तहत प्रथम पुरस्‍कार मिला है. पिछले वर्ष यह पुरस्‍कार उत्‍तराखंड के मुख्‍यमंत्री रमेश पोखरियाल निशंक को उनकी पुस्‍तक  'हिमालय का महाकुम्‍भ नन्‍दा राजजात' को प्रथम पुरस्‍कार मिला था. नंदन की पुस्‍तक का प्रकाशन प्रभात प्रकाशन नई दिल्‍ली ने किया है.

पुरस्‍कार के रूप में सुबोध कुमार नंदन को बीस हजार रुपये का चेक और प्रमाण पत्र प्रदान किया गया है. उल्‍लेखनीय है कि पिछले वर्ष (दस दिसम्‍बर) को पटना में आयोजित 'पुस्‍तक मेला' में इस पुस्‍तक का लोकार्पण मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार ने किया था. सुबोध कुमार नंदन की यह पहली पुस्‍तक है.  इसके पूर्व पर्यटन क्षेत्र में बढ़ावा व जागरुकता पैदा करने के लिए 2008 में श्री नंदन को बिहार सरकार ने पर्यटन सम्‍मान प्रदान किया था. वर्तमान में सुबोध कुमार नंदन हिंदुस्‍तान (भागलपुर) में संपादकीय विभाग में कार्यरत हैं.

श्री नंदन पिछले 15 वर्षों से पत्रकारिता में हैं.  देश के सभी प्रतिष्ठित समाचार पत्रों में उनके आलेख विशेषकर पर्यटन व पुरातत्‍व पर प्रकाशित हो चुके हैं. इसके अलावा भारतीय रेल, सेल अर्पण, कादम्‍बनी, बिहार आदि पत्रिकाओं में भी आलेख का प्रकाशन होता रहता है. ज्ञातव्‍य है कि पर्यटन मंत्रालय की ओर से पर्यटन से संबंधित विषयों पर मूल रूप से हिंदी में लिखी गई पुस्‍तकों को पुरस्‍कृत करने के लिए 'राहुल सांकृत्‍यायन पर्यटन पुरस्‍कार योजना' चलाई जा रही है. इस योजना का मुख्‍य उद्देश्‍य भारतीय पर्यटन से संबंधित विषयों पर हिंदी में मौलिक पुस्‍तक लेखन को बढ़ावा देना है.


AddThis