पत्रकार श्‍याम माथुर की पुस्‍तक 'वेब पत्रकारिता' को राजभाषा प्रोत्‍साहन पुरस्‍कार

E-mail Print PDF

जयपुर। केंद्रीय गृह मंत्रालय के राजभाषा विभाग ने जयपुर के वरिष्ठ पत्रकार श्याम माथुर को राजीव गाँधी राष्ट्रीय ज्ञान-विज्ञान मौलिक पुस्तक लेखन पुरस्कार योजना के तहत प्रोत्साहन पुरस्कार के लिए चुना है। उन्हें यह पुरस्कार उनकी पुस्तक ‘वेब पत्रकारिता’ के लिए दिया जाएगा। इस पुस्तक को राजस्थान हिंदी ग्रंथ अकादमी ने प्रकाशित किया है।

हिंदी दिवस (14 सितंबर) के अवसर पर नई दिल्ली के विज्ञान भवन में आयोजित होने वाले एक समारोह में राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल श्याम माथुर को यह पुरस्कार प्रदान करेंगी। उन्हें दस हजार रुपए नकद, प्रशस्ति पत्र और स्मृति चिन्ह से सम्मानित किया जाएगा। यह पुरस्कार तकनीकी और विज्ञान की विभिन्न विधाओं से संबंधित विषयों पर उच्च स्तर के मौलिक हिंदी लेखन को बढ़ावा देने के लिए दिया जाता है। इससे पहले श्याम माथुर को उनकी पुस्तक ‘सिने पत्रकारिता’ के लिए दो वर्ष पूर्व भारतेंदु हरिश्चंद्र पुरस्कार योजना में प्रथम पुरस्कार भी मिल चुका है।

जयपुर के संघर्षशील पत्रकारों में शामिल श्याम माथुर ने हाल ही ‘राजस्थान पत्रिका’ में समाचार संपादक का पद छोडक़र स्वतंत्र पत्रकारिता की दुनिया में कदम रखा है। अजमेर के दैनिक ‘न्याय’ से पत्रकारिता की शुरुआत करने वाले श्याम माथुर ने ‘नवभारत टाइम्स’ के जयपुर संस्करण में दस वर्ष तक उप संपादक के पद पर कार्य किया है। वे समाचार वाचक के तौर पर आकाशवाणी जयपुर से भी जुड़े रहे हैं और गेस्ट फेकल्टी के रूप में वे राजस्थान विश्वविद्यालय के जन संचार केंद्र में भी पत्रकारिता के विद्यार्थियों से नियमित संवाद करते हैं। फिल्म पत्रकारिता में उनकी विशेष दिलचस्पी है और उन्होंने कई राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोहों को कवर किया है। अमिताभ बच्चन पर उनका मोनोग्राफ ‘अमिताभ तुझे सलाम’ बहुत चर्चित रहा है।


AddThis