डा. पल्लव को मिला 'कथा संवाद सम्मान'

E-mail Print PDF

पल्लवचित्तौड़गढ़ के युवा लेखक और साहित्य संस्कृति की विशिष्ट पत्रिका ‘बनास’ के सम्पादक डा. पल्लव को भारतेन्दु समिति, कोटा का प्रतिष्ठित ‘कथा संवाद सम्मान’ प्रदान किया गया है। पल्लव को यह सम्मान कथा आलोचना में सार्थक योगदान के लिए दिया गया है। कोटा में हुए एक समारोह में वरिष्ठ कवि बशीर अहमद मयूख और दैनिक जागरण समूह की पत्रिका पुनर्नवा के सम्पादक राजेन्द्र राव ने उन्हें.यह सम्मान प्रदान.किया। समारोह में प्रसिद्ध पत्रिका ‘पाखी’ के सम्पादक अपूर्व जोशी सहित कई साहित्यकार उपस्थित थे।

सम्भावना के अध्यक्ष डा. के.सी. शर्मा ने बताया कि वर्तमान में जनार्दनराय नागर राजस्थान विद्यापीठ विश्वविद्यालय, उदयपुर के हिन्दी विभाग में कार्यरत पल्लव समकालीन रचना परिदृश्य में अपनी पहचान बना चुके हैं। उनकी पुस्तक ‘मीरा: एक पुनर्मूल्यांकन’ नयी आलोचना दृष्टि के कारण चर्चा में रही है। भारतेन्दु समिति के इस सम्मान के अतिरिक्त उनकी रचनाएं ‘हंस’, ‘कथादेश’, ‘आलोचना’,‘समयान्तर’, ‘इंडिया टुडे’, समकालीन भारतीय साहित्य’, ‘वसुधा’, समकालीन जनमत’ सहित अनेक महत्वपूर्ण पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुकी हैं। उन्होंने बताया कि राष्ट्रीय स्तर के इस पुरस्कार द्वारा पल्लव ने चित्तौड़गढ़ जिले का गौरव बढ़ाया है।


AddThis