लाडली एवार्ड से नवाजी गईं महिला पत्रकार

E-mail Print PDF

शिवराज के हाथों अवार्ड लेतीं गीताश्रीलैंगिक संवदेनशीलता के लिए यूएनएफपीए लाडली मीडिया पुरस्कार 2009-10 : लैंगिक संवेदनशीलता पर उत्कृष्ट मीडिया कवरेज के लिए कई पत्रकारों को उत्तरी क्षेत्र का यूनाइटेड नेशंस पापुलेशन फंड (यूएनएफपीए) - लाडली मीडिया पुरस्कार प्रदान किया गया.

भोपाल के समन्वय भवन में आयोजित समारोह में उत्तर क्षेत्र के राज्यों से विभिन्न श्रेणियों में 22 विजेताओं को सम्मानित किया गया. इलेक्ट्रानिक मीडिया वर्ग में सुतापा देब (एनडीटीवी, दिल्ली), हेमंत पाणिग्रही (जी 24 घंटे छत्तीसगढ़), दिव्या शाह (सीएनएन आईबीएन, दिल्ली), अर्चना शर्मा (लोकसभा टेलीविजन, दिल्ली) और ऋचा अनिरूद्ध (आईबीएन7, दिल्ली) को यूएनएफपीए-लाडली मीडिया पुरस्कार दिए गए.

प्रिंट मीडिया वर्ग में पत्रकारिता की विभिन्न श्रेणियों में नुसरत आरा (उर्दू), एकाधिक प्रकाशनों की श्रेणी में मोहम्मद अनिसुर रहमान खान (उर्दू), जगतार सिंह भुल्लर (पंजाबी, दि रोजाना स्पोक्समैन, चंडीगढ़), सुखबीर सिवाच (अंग्रेजी, टाइम्स ऑफ इंडिया, चंडीगढ़), अन्नपूर्णा झा (अंग्रेजी, यूएनआई, दिल्ली), सुरैया नियाजी (अंग्रेजी, गल्फ न्यूज), गीतांजलि गायत्री (अंग्रेजी, ट्रिब्यून, चंडीगढ़), नेहा दीक्षित (तहलका, दिल्ली, चरखा फीचर्स, बहुभाषीय), रेणुका नैयर (हिन्दी, दैनिक ट्रिब्यून, चंडीगढ़), राजेश माली (हिन्दी, दैनिक भास्कर, भोपाल) और गीताश्री, (आउटलुक हिन्दी, दिल्ली) को लाडली पुरस्कारों से नवाजा गया. गीताश्री को बेस्ट इनवेस्टीगेशन न्यूज फीचर के लिए लाडली मीडिया एवार्ड दिया गया.

इनके अलावा वेब श्रेणी भी थी, जिसके तहत वेबदुनिया डॉट कॉम से जुड़ी स्मृति जोशी, छम्मकछल्लो की विभा रानी और दिविप डॉट कॉम की अफसाना रशीद को भी लाडली अवार्ड दिया गया. जनसांखकीय मुद्दों पर जनवकालत के लिए एक विशेष पुरस्कार शैलजा चन्द्रा को दिया गया. पुरस्कार विजेताओं को एक ज्यूरी पैनल द्वारा चुना गया था, जिसमें विभिन्न रचनात्मक क्षेत्रों से प्रतिष्ठित लोग शामिल रहे.

लाडली अवार्ड के ज्यूरी पैनल में उषा राय (वरिष्ठ पत्रकार), फरहत एहसास (वयोवृद्ध पत्रकार, उर्दू), राजी श्रीवास्तव (लैंगिक मुद्दों पर कार्यरत आईएएस अधिकारी, चंडीगढ़), अभिलाष खाण्डेकर (दैनिक भास्कर समूह के राज्य संपादकीय प्रमुख, भोपाल), एन.के.सिंह (स्थानीय संपादक, हिन्दुस्तान टाइम्स, भोपाल), निर्मला बुच (सामाजिक कार्यकता, पूर्व मुख्य सचिव, मध्यप्रदेश), ओ.आर. नियाजी (उप संचालक ए.आई.आर.), माइक पाण्डेय (प्रसिद्ध डॉक्यूमेंट्री फिल्म निर्माता), अन्नू आनंद (वरिष्ठ पत्रकार) और पुष्पेन्द्र पाल सिंह (अध्यक्ष, पत्रकारिता विभाग, माखन लाल पत्रकारिता और संचार विश्वविद्यालय) शामिल थे।

पुरस्कार मुख्यमंत्री मध्यप्रदेश शिवराज सिंह चौहान द्वारा प्रदान किये गये. इस अवसर पर मुख्य अतिथि के तौर पर स्वास्थ्य मंत्री अनूप मिश्रा भी मौजूद थे. इस अवसर पर भोपाल की भरतनाट्यम नृत्यांगना डॉ. लता सिंह मुंशी और उनकी मंडली द्वारा निर्देशित 'स्त्री तत्व' की प्रस्तुति की गयी. शहरी स्लम बस्तियों की लड़कियों के उत्थान हेतु कार्यरत भोपाल के गैर सरकारी संगठन सरोकार की ओर से लैंगिक भेदभाव पर केन्द्रित एक गीत भी प्रस्तुत किया गया.

यूएनएफपीए के बारे में : संयुक्त राष्ट्र जनसंख्या कोष यूएनएफपीए की भारत इकाई भारतीय आबादी के स्वास्थ्य में सुधार की दिशा में कार्यरत है. यह अपनी पहल के लिए आधार के रूप में जनसंख्या और शोध डाटा का उपयोग करता है. यूएनएफपीए का भारत में सबसे बड़ा कार्यक्रम है जो नीति निर्माताओं, सरकारी संस्थाओं, गैर सरकारी संगठनों और समुदाय के साथ मिलकर बड़े पैमाने पर काम करता है. यूएनएफपीए नागरिकों और विशेष रूप से महिलाओं को प्रजनन स्वास्थ्य एवं मातृ स्वास्थ्य के बारे में सूचित विकल्प को सशक्त बनाने के लिए प्रतिबद्ध है.


AddThis