हैप्पी न्यू ईयर

E-mail Print PDF

मुझे मालूम था
पैण्डुलम की तरह हाथ हिलाते हुए
यही कहेंगे आप

बावजूद इसके कि
साल दर साल
मजबूत होते गये आपके पाये
और इधर भरभराती रही हमारी नींव

दायां बाजू बढ़ाकर
लपक लीजिये हाथों को
संवेदनशील मुद्दों की तरह
जैसे दायें बाजू के मुस्टंड पहलवान
संस्कृति के अखाड़े में
विचारों को धोबीपाट देने के करतब में मस्त हैं
और हर नयी सोच को
सोलहवीं सदी के जंग लगे औजारों से
ऑपरेट करने की
हो चुकी है पूरी व्यवस्था

भेजिये आर्चीज के
रंग-बिरंगे चिकने चकमक कार्ड
जो होली-दीवाली से लेकर
तीज-छठ तक के ग्लोबलाइजेशन में
पूरी ईमानदारी से व्यस्त है
ताकि मुटल्ले डॉलर के मुकाबले
मरघिल्ले रूपये की सेहत
थोड़ी और गिर सके

मुबारकबाद की चाशनी में पेश कीजिये
मिठाई के टुकड़े
जिसके लिये ई-तकनीक का इस्तेमाल करते हुए
मुद्रा के ई-विनिमय से मंगायी गयी है विदेशी चीनी
और उधर आंध्र या विदर्भ में कहीं
गन्ने के किसी किसान ने
कर ली है आत्महत्या
जिसका सूचना तकनीक के क्षेत्र में
कोई खास महत्व नहीं है

लाशों के ढेर में
कहकहे लगाने की तंत्र-साधना में
जब हासिल कर ही ली है आपने सिद्धि
तो बकौल सर्वेश्वर दयाल सक्सेना
''मुझे तुमसे कुछ नहीं कहना है।''


AddThis