डंके की चोट पर हो गयी महान कविताओं की चोरी

E-mail Print PDF

भागलपुर में जुटी चोर कवि को सराहने वाले कवियों की जमात. उत्तर प्रदेश के गोंडा निवासी जनकवि अदम गोंडवी तीस साल पहले लिख चुके थे ये लाइनें- ''काजू भुने प्‍लेट में ह्विस्‍की गिलास में, उतरा है रामराज विधायक निवास में'' पर कवि सम्मेलन में इसे शंकर कैमूरी ने अपनी कविता बता कर बटोरी जोरदार तालियां.

भागलपुर में सबौर के छोटी बाजार वाले सामुदायिक केंद्र पर हुआ कवि सम्‍मेलन. कई और कवियों की लाइनों पर भी चोरी की खुसपुसाहट शुरू. मंच पर थे आजमगढ, गाजीपुर समेत यूपी के कई जिलों के कवि. हिंदुस्तान अखबार के काबिल रिपोर्टरों व संपादकों को भी अकल नहीं. अदम गोंडवी की मशहूर लाइनों को शंकर कैमूरी की कविता बनाकर खबर का भी प्रकाशन कर दिया. धन्य है पत्रकारों का आईक्यू लेवल व ज्ञान, धन्य हैं देश के आजकल के कवि. देखिए, हिंदुस्तान, भागलपुर की कटिंग और पढ़िए इस चोरी की महाखबर को.


AddThis