हवाला में लिप्‍त भास्‍कर कर्मियों के लाखों रुपये डूबे!

E-mail Print PDF

जयपुर में इनदिनों दैनिक भास्‍कर के कई कर्मचारी काफी बौखलाए हुए हैं. कारण है इन लोगों का लाखों रुपये कमोडिटी, शेयर और हवाला में डूब जाना. चार-पांच दिनों पूर्व बैठक कर इस मामले को सुलझाने की भी कोशिश की गई परन्‍तु कोई बात नहीं बनी. नाराज लोगों ने पैसा लगाने वाले तथा उसके परिवार के कुछ सदस्‍यों को जमकर मारापीटा. मामला अभी पुलिस तक नहीं पहुंचा है.

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार जयपुर शहर में अखबार के हॉकर गजानन शर्मा के बेटे सूजर शर्मा के मार्फत भास्‍कर के लगभग एक दर्जन कर्मचारियों समेत दर्जनों हॉकरों ने लगभग डेढ़ करोड़ रुपए कमोडिटी, हवाला और शेयर मार्केट में लगाए थे. फायदा होने की बजाय इन लोगों का पूरा पैसा डूब गया. ये लोग पैसा वापस पाने के लिए हॉकर गजानन तथा उनके लड़के सूरज पर दबाव बनाने लगे. पर उसने टालमटोल करना शुरू कर दिया.

सूत्रों ने बताया कि इसी मामले को लेकर बीते 25 अप्रैल को भास्‍कर के कर्मचारियों समेत जिन लोगों का पैसा इस कारोबार में लगा था, सभी ने एक मीटिंग गुलाब बाग सेंटर लिंक रोड पर रखी थी. इसमें भास्‍कर के कुछ वरिष्‍ठ लोग भी मौजूद थे. इन लोगों ने गजानन शर्मा से अपने लगाए रुपये वापस मांग तो गजानन ने जवाब दिया कि जब इन लोगों ने रुपये लगाए थे या उनके पुत्र को दिए थे तो उनसे पूछा था, इस पर नाराज लोगों ने गजानन और उनके छोटे बेटे की जमकर धुनाई कर दी.

सूत्रों ने बताया कि अब गजानन ने पत्रिका में विधिवत विज्ञापन देकर अपने पुत्र से संबंध विच्‍छेद की घोषण कर डाली है. यानी अब उनसे उनके पुत्र का कोई मतलब नहीं रहा. हालांकि सूत्रों ने बताया कि इन धंधे में जो भी पैसा सूरज को मिला वो गजानंद की गुडविल और क्रेडिबिलिटी के चलते ही मिला. अब पैसा डूबने से भास्‍कर कर्मी परेशान हैं. मामला सीधा-साधा न होने के चलते वे पुलिस के पास भी नहीं गए हैं. शिकायत दर्ज कराने पर खुद की गर्दन भी फंसने की संभावना है.

सूत्र ने बताया कि भास्‍कर के कई कर्मचारी लॉटरी के धंधे से भी जुड़े हुए हैं. इन लोगों के पैसे लॉटरी के व्‍यवसाय में लगा हुआ है, जिसका संचालन ब्‍याज पर पैसा देने वाला एक व्‍यक्ति करता है. लिंक रोड पर अवैध लॉटरियों के धंधे में भी कई भास्‍करकर्मी और हॉकर संलिप्‍त बताए जाते हैं. खबर है कि इसी व्‍यवसाय से हुए लाभ के पैसे को कमोडिटी और हवाला में झोका गया था. अब इस मामले में पूरी सच्‍चाई क्‍या है यह तो जांच के बाद ही पता चलेगा. पर पैसे डूबने से भास्‍कर कर्मी और हॉकर परेशान हैं.

इस संदर्भ में जब पूरे मामले की जानकारी के लिए गजानन शर्मा से बात की तो उन्‍होंने व्‍यस्‍तता का बहाना बनाकर पहले बाद में फोन करने को कहा. जब उनके पास दुबारा फोन किया गया तो उन्‍होंने कॉल ही रिसीव नहीं किया. बताया जा रहा है कि इस मामले की अगर गहराई से जांच की जाए तो एक बड़े रैकेट का खुलासा हो सकता है. सूत्रों का कहना है कि इसमें सिर्फ भास्‍कर से जुड़े लोग ही नहीं कई अन्‍य अखबारों के लोग भी शामिल हैं.

इस बारे में जो कोई कुछ कहना चाहता हो या जिसको इस मामले की और अधिक जानकारी हो वो अपनी बात नीचे कमेंट बॉक्‍स लिख सकता है या This e-mail address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it पर मेल कर सकता है.


AddThis