महुआ से जाने वाली है कुमार सौवीर की नौकरी!

E-mail Print PDF

यशवंत राणा और भूपेंद्र नारायण भुप्पी की जोड़ी महुआ में पूरी तेजी से बैटिंग कर रही है. ताजी सूचना के मुताबिक लखनऊ में महुआ के आफिस के सारे साजो-सामान को भुप्पी ने सील कराकर दिल्ली भिजवा दिया है. इस तरह अब यूपी हेड कुमार सौवीर बिना आफिस और बिना कंप्यूटर-कैमरा के पत्रकारिता कर रहे हैं और चर्चा ये है कि संभवतः कुमार सौवीर को हटाकर किसी नए व्यक्ति को महुआ, यूपी की जिम्मेदारी दी जाएगी.

हालांकि कुमार सौवीर महुआ के पुराने और निष्ठावान लोगों में से हैं लेकिन जिस तरह महुआ में पुरानों और निष्ठावानों का क्रियाकर्म हो रहा है उससे अंदाजा यही लग रहा है कि कुमार सौवीर भी न बचेंगे. हालांकि खबर लिखे जाने तक कुमार सौवीर महुआ के हिस्से बने हुए हैं. वहीं एक चर्चा ये भी है कि महुआ प्रबंधन कुमार सौवीर की ही अगुवाई में महुआ के यूपी चैनल को लांच करेगा. लेकिन इसकी संभावना इसलिए कम लग रही है क्योंकि जिस तरह से भुप्पी ने पिछले दिनों लखनऊ और कानपुर की यात्रा के दौरान कुमार सौवीर को भरोसे में न लेते हुए आफिस से सामान समेटने का एकतरफा फरमान सुना दिया वह लखनऊ की मीडिया सर्किल में चर्चा का विषय है.

और इसका अर्थ कुमार सौवीर से किनारा करने के रूप में निकाला जा रहा है. यूपी की पत्रकारिता में कुमार सौवीर बेदाग और ईमानदार पत्रकारों में शुमार किए जाते हैं. बेहद जुझारू और साहसी इस पत्रकार ने महुआ से पहले हिंदुस्तान, दैनिक जागरण समेत कई बड़े अखबारों में विभिन्न शहरों में नौकरियां की. अपने स्वाभिमानी और आक्रामक स्वभाव के कारण दलाल व बेईमान किस्म के पत्रकार व अधिकारी कुमार सौवीर के सामने पड़ने से बचते हैं. देखना है कि कुमार सौवीर से मुक्ति पाने के बाद महुआ कितने दिन चैन की बंसी बजा पाता है.


AddThis