स्ट्रिंगर ने पैसा बना लिया और कर्मचारियों ने नौकरी बचा ली...

E-mail Print PDF

अलीगढ़ का एक टीवी जर्नलिस्ट, जो दो राष्ट्रीय न्यूज चैनलों का स्ट्रिंगर है, अलीगढ़ में मीडिया वालों के बीच इन दिनों चर्चा का विषय बना हुआ है. जानकारी के मुताबिक 20 मई 2010 को शाम साढ़े पांच बजे टीवी जर्नलिस्ट शिक्षा विभाग के कार्यालय पहुंचा. वहां मौके पर शिक्षा विभाग के कर्मचारियों को बीयर पीते पाया. इस पर वह तुरंत हरकत में आते हुए अपने मोबाइल से वीडियो क्लिप बनाने लगा. इसे देख बीयर पीते कर्मचारी भड़क गए और विवाद हो गया. बात मारपीट तक पहुंच गई.

पुलिस को सूचना दी गयी. पुलिस ने मौके से दो आरोपी कर्मचारियों को पकड़ लिया. जब तहरीर देने का नम्बर आया तो पत्रकार महोदय पुलिस में कैमरा लूट लिए जाने की तहरीर देने लगे. इस पर पुलिस वालों ने रिपोर्टर को यह कहते हुए बुरा-भला सुनाया कि मौके पर जब मोबाइल से क्लिप बना रहे थे तो वहां कैमरा कहां से आ गया जिसकी लूट हो गई. आखिरकार दोनों पक्ष समझौते पर राजी हुए. तहरीर न लिखे जाने के लिए कर्मचारियों ने रिपोर्टर को पैसे दे दिए. इस तरह कर्मचारी अपने निलम्बन से बच गए और रिपोर्टर के भी पैसे बन गए. पुलिस के कुछ अधिकारियों ने इस घटनाक्रम की पुष्टि की.


AddThis