'नईदुनिया' में सलमान का फर्जी इंटरव्यू

E-mail Print PDF

अखबारों में फर्जीवाड़ा किस तरह किया जाता है, यह देखना हो तो किसी भी दिन का इंदौर के 'नईदुनिया'  को देखा जा सकता है। संपादक को कमजोर और अक्षम समझकर संपादकीय के चालू टाइप के लोग किस तरह के खेल करते हैं, यह इन दिनों खूब हो रहा है। ताजा मामला है सलमान खान के इंटरव्यू का! बुधवार को सलमान खान अपनी नई फिल्म 'बॉडीगार्ड" के प्रचार के लिए इंदौर आए थे।

पहले सभी अखबारों को सूचना दी गई थी कि सलमान की प्रेस काँफ्रेंस होगी, पर दो घंटे पहले इसे निरस्त कर दिया गया। लेकिन, नईदुनिया के एक रिपोर्टर (बाद में पता चला कि वे तो अखबार के पोर्टल में काम करते हैं) समय ताम्रकर ने सलमान का फर्जी इंटरव्यू छाप दिया। वह भी प्रश्न-उत्तर के रूप में, ऐसा कि जैसे सलमान ने आराम से बैठकर समय ताम्रकार से बातचीत की हो! महत्वपूर्ण बात यह कि यह इंटरव्यू कहाँ हुआ, इस बात का कहीं जिक्र नहीं है।

दरअसल, सलमान खान 'पत्रिका" अखबार के लिए भी इंदौर आए थे और उनके ऑफिस भी गए। उन्होंने भी इस तरह का इंटरव्यू नहीं छापा, जैसा नईदुनिया ने। गुरुवार को जब यह इंटरव्यू छपा तो इंदौर के मीडिया में इसी बात की चर्चा थी, कि नईदुनिया को ये क्या हो गया? क्या संपादक को इंटरव्यू पढ़कर भी इस बात का अहसास नहीं हुआ कि मामला गड़बड़ है। समय ताम्रकर को खुद को तो कुछ नहीं आता, पर उनके पिता श्रीराम ताम्रकर फिल्मों पर लिखते रहे हैं। उनकी फिल्म पत्रकारिता भी डेस्क तक सीमित थी। वे भी बरसों तक फर्जी इंटरव्यू छापते रहे हैं, वही आदत उनके बेटे को लगा दी। बाप-बेटे दोनों मिलकर दो अखबारों को चूना लगा रहे हैं.

अभी श्रीराम ताम्रकर 'दबंग दुनिया" में फिल्म का पूरा पेज निकालते हैं, जिसमें इसी तरह की खबरें होती हैं। इंदौर मे बैठे-बैठे ही वो भी कंगना रानावत और करीना कपूर का इंटरव्यू ले लेते हैं। 'दबंग दुनिया' मे तो ये सब चलता है पर 'नईदुनिया' मे इस तरह के फर्जीवाड़े कम ही होते है, पता चला है कि सलमान से जुड़े कुछ लोगो ने इसे गंभीरता से लिया हैं। वैसे 'नईदुनिया' में यह अकसर होता रहता है, कमजोर संपादक जयदीप कर्णिक ने अपने आसपास ऐसे लोगों की फौज खड़ी कर ली है, जो उसकी हाँ में हाँ मिलाते रहते हैं, और ऐसा फर्जीवाड़ा करते रहते हैं।

नईदुनिया में प्रकाशित सलमान खान का इंटरव्यू  ठीक ढंग से पढ़ने के लिए नीचे दिए गए सलमान के फोटो पर क्लिक करें.

एक पत्रकार द्वारा भेजे गए पत्र पर आधारित.


AddThis