मीडिया की मंडी बनने जा रहा है आगरा, लालाओं की चलेगी दुकानदारी

E-mail Print PDF

अब आगरा बनेगा मीडिया की मंडी। पहले आमतौर पर इंदौर को मीडिया की मंडी कहा जाता था। इंदौर शहर छोटा बाम्‍बे के नाम से भी मशहूर है, परन्‍तु अब जल्द ही आगरा मीडिया की मंडी बन जाएगा क्योंकि आगरा में जल्द ही कई नए अखबार लांच होने जा रहे हैं। अगर आगरा में खुलने वाले अखबारों पर एक नज़र घुमायी जाए तो जल्द ही आगरा में चार नए अखबार आ रहे हैं।

सबसे पहला अखबार आ रहा है एनसीआर इंडिया। उसके बाद है तस्वीर भारत और उसके बाद है नवलोक टाइम्स। दूसरी ओर अमी आधार निडर भी बीपीएन टाइम्‍स से इस्‍तीफा देकर नया अखबार लाने की तैयारी में जुटे हुए हैं, क्योंकि अमी आधार निडर के बारे में कहा जाता है कि निडर एक ऐसे पत्रकार हैं जो कभी भी हार नहीं मानता है और आगरा में धड़ाधड़ संस्‍करण लॉंच कराता है। इस सब मामले में सबसे बड़ी बात यह है कि अगर कोई संस्‍करण फ़ेल हो जाए तो भी अमी आधार निडर की सेहत पर कोई फर्क नहीं पड़ता, वो झट से दूसरा अखबार लेकर आ जाते हैं। अक्सर कहा जाता है कि अमी आधार निडर के राधा स्वामी मत के एक ऐसे गुरु जी अच्छे संबंध हैं जो कि जरूरत पड़ने पर आगरा के सारे अखबारों को खरीद सकता है।

एनसीआर इंडिया दिल्‍ली से छपकर आगरा आएगा, वहीं तस्वीर भारत आगरा के ही शराब कारोबारी का अखबार है जो कि अभी हाल में ही निशा नरेश नाम का अखबार निकालता रहा हैं। अगर बात की जाए नवलोक टाइम्स की तो नवलोक टाइम्स एक ऐसे आदमी का अखबार बताया जा रहा है जो कि पेशेवर पत्रकार है। कहा जा रहा है कि उसके बाप परदादा भी पत्रकार थे। अमी आधार निडर भी अखबार किसी भी कीमत पर लॉंच करना चाहते हैं। दूसरी और नए अखबारों के साथ-साथ आगरा में जल्द ही तीन नए केबल भी लॉंच होने वाले हैं, जिसमें दो केबल डेन और डब्‍ल्‍यूडब्‍ल्‍यूआईएल का दफ्तर आगरा में खुल चुका है, जबकि अभी हाल में इन्न केबल भी आगरा में घुसने की तैयारी में जोरशोर से जुटा हुआ है।

अगर मीडिया की बात की जाए तो आज यहां के हालात बहुत बुरे हैं। वर्तमान में भी आगरा में बहुत सारे अखबार हैं जिसमें दैनिक जागरण, अमर उजाला , हिंदुस्तान, अमर भारती, कल्पतरु, आई-नेक्‍स्‍ट, काम्‍पैक्‍ट, उजाला, सच का उजाला, बीपीएन टाइम्‍स आदि प्रमुख  अखबार हैं। इसके साथ साथ फ़ाइल कॉपी पर चलने वाले तमाम अखबार भी हैं। कुछ पत्रकारों के लिए नए मीडिया के दुकानों से फायदा है तो ज्‍यादातर के लिए परेशानी। अब नए खुलने जा रही मीडिया की दुकानों में तमाम लाला लोग अपनी दुकान चलाएंगे।

एक पत्रकार द्वारा भेजा गया पत्र.


AddThis