राष्ट्रीय सहारा, गोरखपुर के संपादक और ब्यूरो चीफ आपस में भिड़े

E-mail Print PDF

राष्ट्रीय सहारा, गोरखपुर से खबर है कि कल मुख्यमंत्री मायावती के दौरे के बाद खबर लिखे जाने को लेकर स्थानीय संपादक मनोज तिवारी और ब्यूरो चीफ दीप्त भानु डे के बीच जमकर कहासुनी हो गई. सूत्रों के मुताबिक संपादक मनोज तिवारी जल्दी से जल्दी खबर लिखे जाने की बात कह रहे थे तो ब्यूरो चीफ दीप्त भानु डे ने पर्याप्त सूचनाएं न आ पाने की बात कहकर खबर लिखे जाने में देरी होने की संभावना व्यक्त कर रहे थे.

संपादक का कहना था कि यूपी के अन्य सेंटरों के लिहाज से सीएम के दौरे की खबर महत्वपूर्ण है, इसलिए इसे जल्दी लिखकर सभी के पास भेजा जाना चाहिए. पर ब्यूरो चीफ का कहना था कि आधी-अधूरी सूचनाएं पर तुरंत खबर कैसे बन सकती है, हर जगह से खबरें आ रही हैं और उसे जल्द ही तैयार करा दिया जाएगा. कुल मिलाकर इसी मुद्दे पर करीब डेढ़ दो घंटे सहारा के गोरखपुर आफिस में किचकिच होती रही. कुछ लोगों को कहना है कि दोनों में से एक ने गाली-गलौज की भाषा का इस्तेमाल किया तो दूसरे ने असंसदीय भाषा न बकने की चेतावनी दी. इस कारण मामला और बिगड़ गया. एक दूसरे से निपट लेने की धमकियां भी दी गईं.  वरिष्ठों के बीच इस तरह की बहसा-बहसी के कारण कनिष्ठों ने भी दो घंटे तक कामकाज करने की जगह इस सीन का आनंद उठाया.

कानाफूसी कैटगरी की इस खबर के बारे में अगर किसी को कुछ कहना है तो वह नीचे दिए गए कमेंट बाक्स का सहारा ले सकता है.


AddThis