धनबाद में बसंत झा संभालेंगे भास्‍कर, राघवेंद्र छुट्टी पर

E-mail Print PDF

दैनिक भास्‍कर अपने धनबाद एडिशन के लांचिंग की तैयारियों में जुटा हुआ है. यहां से जानकारी मिली है कि इस एडिशन के संपादक को बदल दिया गया है. पहले धनबाद एडिशन के एडिटर के रूप में राघवेंद्र का नाम तय किया गया था, जो रांची दैनिक भास्‍कर में इस समय पॉलिटिकल एडिटर के रूप में अपनी सेवाएं दे रहे हैं. अब नई खबर है कि अब धनबाद एडिशन के लिए बसंत झा का नाम एडिटर के रूप में फाइनल किया गया है, जो इस समय डीबी स्‍टार, रांची के इंचार्ज के रूप में काम कर रहे हैं.

इस सूचना के बाद राघवेंद्र जी अचानक छुट्टी पर चले गए हैं. अब इसके पीछे का असली कारण क्‍या है, कोई बता नहीं पा रहा है. वो अपना मोबाइल भी नहीं उठा रहे हैं. कयास लगाया जा रहा है कि राघवेंद्र जी किसी बात को लेकर नाराज हैं. ज्‍यादा संभावना जताई जा रही है कि वे धनबाद के लिए अपना नाम फाइनल नहीं होने से नाराज चल रहे हैं. धनबाद से उनका नाम हटने के बाद भास्‍कर, पटना के लिए उनके नाम की चर्चा थी. पर भास्‍कर प्रबंधन ने पटना प्रोजेक्‍ट की लांचिंग को भी फिलहाल टाल दिया है. यानी यहां भी फिलहाल उनके लिए कोई संभावना नहीं दिखाई दे रही है.

इधर, रांची भास्‍कर के एडिटर गौड़ जी और धनबाद के होने वाले एडिटर बसंत झा धनबाद में टीम बनाने में जुटे गए हैं. कई लोगों के इंटरव्यू भी लिए जा चुके हैं. सूत्रों के मुताबिक वहां के दूसरे अखबारों के लोगों को तोड़ने की तैयारी चल रही है. इससे दोहरा फायदा उठाने का मकसद है. एक तो अपने प्रतिद्वंदी अखबारों को कमजोर करना, दूसरे अपनी टीम को मजबूत करना. अगर राघवेंद्र जी के नाराज होने की खबरों में सच्‍चाई है तो आगे कुछ नए समीकरण और खबरें भी देखने-सुनने को मिल सकती हैं. राघवेंद्र जी कुछ साल पहले प्रभात खबर, धनबाद के एडिटर के रूप में भी काम कर चुके हैं.

चेतावनी : कानाफूसी कैटगरी की खबरें चर्चाओं, अफवाहों, कयासों पर आधारित होती हैं, जिसमें सच्चाई संभव है और नहीं भी. इसलिए इन खबरों को प्रामाणिक मानकर न पढ़ें. अगर कोई इसे प्रामाणिक मानकर पढ़ता है तो वो उसकी मर्जी व समझ पर निर्भर करता है और वह उसके लिए खुद जिम्मेदार है.


AddThis