दूरदर्शन में सरेआम घूसखोरी!

E-mail Print PDF

दूरदर्शन यानी दूर के दर्शन, किसी ने शायद ठीक ही कहा है. दरअसल हुआ ये है कि पिछले दिनों दूरदर्शन भोपाल में अंशकालीन संवाददाता की भर्ती के लिए साक्षात्कार हुए थे. लेकिन इस भर्ती में जमकर घूसखोरी की गई. अगर सूत्रों की माने तो ग्वालियर से अपना भाग्य आजमाने पहुंचे थे कुल सात आवेदक. जिनमें से आधिकांश से 25000 हजार रूपये की डिमांड की गई. जिन्होंने चढ़ावा चढ़ाया उनको डीडी न्यूज की आईडी थमा दी गई. और जो नहीं दे पाए उन्हें चलता कर दिया गया.

ये कारनामा दूरदर्शन के किसी गौतम साहब ने किया है. इसका खुलासा गौतम के एक गुर्गे ने किया. हुआ ये कि साहब के पिट्ठू एक आवेदक से बोले कि अगर तुम्हे स्ट्रिंगर बनना है तो ऊपर लिखी रकम दे दो, मैं तुम्हे स्ट्रिंगर बनवा दूंगा. इतना ही नहीं गौतम साहब जब भी ग्वालियर आते हैं तो जूतों से लेकर तेल तक अपने अधीनस्थों से ले जाते हैं. इससे आप अंदाजा लगा सकते हैं कि भोपाल स्तर पर दूरदर्शन में ये हो रहा है तो दिल्ली में क्या हाल होगा. हमारी बात सच है दूर के दर्शन, अगर परिश्रमी, ईमानदार और अनुभवी पत्रकार आपके साख वाले चैनल से जुड़ना चाहे तो उनके लिए यह एक महज सपना है.

ग्‍वालियर से एक पत्रकार द्वारा भेजे गए पत्र पर आधारित.

नोट- कानाफूसी कैटगरी की खबरें चर्चाओं और कयासों पर आधारित होती हैं. इनकी विश्वसनीयता पर भरोसा करने से पहले खुद एक बार इन चर्चाओं की पुष्टि करें और फिर हमें भी सूचित करें, नीचे दिए गए कमेंट बाक्स के जरिए.


AddThis