आखिरी छक्के ने ली क्रिकेट और धोनी की दीवानी सुधा की जान

E-mail Print PDF

सुधाविश्वकप क्रिकेट के फाइनल मैच का जबरदस्त रोमांच गाजीपुर की एक युवती पर भारी पड़ गया. क्रिकेट प्रेमियों के दिलों की धड़कन साबित होने वाले टीम इंडिया के कैप्टन महेन्द्र सिंह धोनी द्वारा फाइनल मैच के आखिरी ओवर में जड़े गये छक्के ने इस युवती की सांस रोक दी.

गाजीपुर जिले के करीमुद्दीनपुर क्षेत्र के पहराजपुर गांव में रहने वाले सीताराम की 17 वर्षीया पुत्री सुधा इंटर की छात्रा थी. सुधा की क्रिकेट में खास दिलचस्पी थी और भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी की वह दीवानी थी. विश्वकप के फाइनल मुकाबले वाली रात मैच को लेकर बेहद रोमांचित और उत्साहित सुधा अपने परिवार के साथ टीवी पर मैच देखते हुए टीम इंडिया की जीत की दुआंएं कर रही थी.

लेकिन बेहद रोमांचक इस मुकाबले में मैच के आखिरी ओवर में सुधा की नजरें टीवी पर टिकी थीं कि इसी दौरान धोनी के छक्के पर वो खुशी से उछल पड़ी. अचानक सुधा की धड़कने बेकाबू होने लगी और पलक झपकते ही उसने दम तोड़ दिया. इस घटना को सुनते ही गांव के तमाम लोग सकते में आ गए. सभी को मालूम था कि सुधा क्रिकेट और धोनी की दीवानी थी. लेकिन मैच का रोमांच और टीम इंडिया की जीत सुधा का दिल नहीं सम्भाल पाएगा, इसका गुमान किसी को न था. भारतीय टीम के जीत का जश्न मनाने के बजाए ग्रामीणों के बीच गम का माहौल नजर आ रहा है.

इस खबर से संबंधित वीडियो देखने के लिए क्लिक करें- आखिरी छक्के ने ली जान


AddThis