हिंदुस्‍तान का पत्रकार गायब, परिजनों ने जताई अपहरण की आशंका

E-mail Print PDF

मऊ में हिंदुस्‍तान के पत्रकार राकेश सिंह मंगलवार की रात करीब साढ़े नौ बजे रहस्‍यमय परिस्‍ि‍थतियों में लापता हो गए. परिजनों ने उनके अपहरण की आशंका जताई है. पुलिस ने पूरी रात उनकी तलाश की लेकिन उनका कोई पता बुधवार को पुलिस अधीक्षक ओंकार सिंह और सीओ सिटी श्रवण कुमार सिंह ने मौका मुआयना किया और परिजनों से जानकारी ली. अभी तक पत्रकार का कोई पता नहीं चल पाया है.

शहर के ब्रह्मस्थान मुहल्ला निवासी राकेश सिंह पिछले 6 माह से हिंदुस्‍तान अखबार में रिपोर्टर के पद पर तैनात हैं. प्रतिदिन की तरह वह मंगलवार को दफ्तर पहुंचे. रात करीब साढ़े नौ बजे दफ्तर में राकेश व आपरेटर चंद्रशेखर श्रीवास्तव थे. आपरेटर उनके मोबाइल से किसी से बात कर रहा था. आधे घंटे बाद जब वह दफ्तर बंद करने को उठा तो राकेश नहीं मिले. उनकी मोटरसाइकिल भी दफ्तर के नीचे मौजूद थी. इसे देख वो राकेश के कहीं आसपास जाने की संभावनावश कार्यालय के पास ही इंतजार करने लगा. रात 10 बजे तक राकेश के न आने पर आपरेटर ने इंचार्ज धीरेंद्र सिंह व अन्य रिपोर्टरों को सूचना दी. उनके द्वारा यह जानकारी पुलिस को दी गयी तो सीओ सिटी, शहर कोतवाल दल-बल के साथ मौके पर पहुंचे.  पूरी रात तलाश भी की गयी लेकिन पता नहीं चला.

इधर,  परिजन अपहरण की आशंका जता रहे हैं. कारण यह बताया जा रहा है कि अखबार में आने से पूर्व राकेश बिजली के जर्जर तारों को बदलकर लग रही एबीसी केबिल लगवाने का काम करते थे. यहां तीन लाख से अधिक रकम का भुगतान न मिलने पर उन्होंने कानपुर के ठेकेदार के विरुद्ध न्यायालय से मुकदमा भी दर्ज कराया था. राकेश के छोटे भाई राहुल सिंह ने इस प्रकरण को लेकर उन्हें धमकी मिलने की बात भी बताई. उनके कमरे से मिले एक पत्र में भी एबीसी केबिल मामले को लेकर कब, किसने और किस रूप में बात की, इसका भी जिक्र है. राहुल ने कोतवाली में इस बाबत मुकदमा दर्ज कराया है. इस घटना से पूरे जिले में दहशत का आलम है. एसपी ने राकेश के सकुशल बरामदगी का आश्‍वासन दिया है.


AddThis