सिपाही ने हिंदुस्‍तान के पत्रकार को लात-घूंसों से पीटा, एसपी ने सस्‍पेंड‍ किया

E-mail Print PDF

पत्रकारों का उत्पीड़न और पुलिस द्वारा की जाने वाली बदसलूकी यूपी में अब लगातार बढ़ती ही जा रही हैं. मंगलवार को बस्‍ती जिले में एक दबंग सिपाही ने हिन्दुस्तान अखबार के दो पत्रकारों से बिना कारण गाली-ग्‍लौज तथा बदतमीजी की। विरोध करने पर सिपाही दोनों पत्रकारों से मारपीट पर उतर आया तथा एक पत्रकार की लात-घूंसों से पिटाई की। घटना के बाद पत्रकारों के विरोध प्रदर्शन और रास्ता जाम के बाद उस दबंग सिपाही को पुलिस कप्तान ने सस्पेन्ड कर दिया।

बताते चलें कि अभी पिछले दिनों बस्‍ती में महुआ के पत्रकार और उसके साथी पर हुये बम से हमले की सनसनीखेज वारदात में छावनी पुलिस ने मुकदमा तक नहीं दर्ज किया है। और कल यह घटना हो गयी। मामला ये है कि हिन्दुस्तान के दो पत्रकार कल्याण सिंह अपने साथी पत्रकार अनिल कुमार मिश्र के साथ मोटरसाइकिल से गांधीनगर स्थित हिन्दुस्तान कार्यालय पर समाचार प्रेषण के लिये जा रहे थे। अभी वह नेहरू तिराहे के पास पहुंचे थे कि वहां तैनात सिपाही अश्‍वनी कुमार सिंह ने चुलबुल पाण्डेय के अन्दाज में गाली देते हुये मोटरसाइकिल को रोक लिया। कारण पूछने पर सिपाही पत्रकार अनिल कुमार को लात और थप्पड़ से मारने लगा। इसी बीच दो लोगों ने पहुंचकर बीच बचाव किया।

दोनों पत्रकार चुपचाप हिन्दुस्तान कार्यालय आ गये और वहां पूरी घटना सुनायी। इस घटना से नाराज पत्रकारों ने सड़क जाम कर दिया और सिपाही के खिलाफ कार्रवाई की मांग करने लगे। पुलिस कप्तान राजेश मोडक ने पत्रकारों से मामला जुड़ा होने के नाते सिपाही को फौरन सस्पेन्ड तो कर दिया लेकिन कोतवाली में सिपाही के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की तहरीर पर कुछ नहीं हुआ। थक हार कर पत्रकार भी चुपचाप बैठ गये हैं। लेकिन कुछ पत्रकार इसको लेकर गुस्से में है। लेकिन वाह रे हिन्दुस्तान अखबार इसने तो अपने पत्रकार के साथ हुई इस घटना के बारे में एक लाइन तक नहीं छापा है। जबकि अन्य अखबारो ने इसे प्रमुखता से छापा है और मुकदमा दर्ज करने की मांग किया है।

पत्रकार संदीप गोयल, धर्मेन्द्र पाण्डेय, सैयद मजहर हुसैन, श्रीश द्विवेदी, वसीम अहमद, केके तिवारी, पुनीत ओझा, अरविन्द श्रीवास्तव, सतीश श्रीवास्तव, जय प्रकाश उपाध्याय आदि ने इस घटना की निन्दा करते हुए आरोपी सिपाही के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की मांग किया है ताकि पत्रकारों के साथ दुर्व्‍यवहार करने वाले लोगों को सबक मिल सके।

बस्‍ती से सैयद मजहर हुसैन की रिपोर्ट.


AddThis