'' मेरे पिता पर बीईईओ ने करवाया झूठा मुकदमा''

E-mail Print PDF

मैं राजस्थान के अजमेर जिले के केकड़ी कस्बे में पंजाब केसरी का संवाददाता हूं। मेरे पिता पवन कुमार राठी पर ब्लॉक शिक्षा अधिकारी केकड़ी अनिल जोशी ने झूठा एससी/एसटी का मुकदमा दर्ज करवाया हैं। पंजाब केसरी के संवाददाता के रूप में मैंने ब्लॉक शिक्षा अधिकारी के गोरखधंधों व उनके द्वारा की जा रही अवैध वसूली की खबरें प्रकाशित की थीं।

इससे बौखला कर बीईईओ ने मेरे पिता, जो एक सरकारी अध्यापक हैं,  के खिलाफ एक अधीनस्‍थ अध्यापक से झूठा मुकदमा दर्ज करवा दिया। मुकदमा दर्ज होने के बाद भी जिस अध्यापक ने मुकदमा दर्ज करवाया, वह समझौते के लिये भी तैयार हो गया व स्टांप पर भी लिखा-पढ़ी कर ली,  परन्तु इसी बीच ब्लॉक शिक्षा अधिकारी अनिल जोशी वहां पहुंच गये और शिक्षक को डरा धमका कर अपने साथ ले गये।

इसके बाद अनिल जोशी ने शिक्षक को सस्पेंड करने की धमकी देते हुए कहा कि यदि उसने समझौता कर लिया तो वह उसे सस्पेंड कर देंगे। इस मुकदमें के बाद पूरे शहर में यह बात आग की तरह फैल गई तथा सभी के मुंह से एक ही बात निकल पायी कि झूठा मुकदमा अनिल जोशी के इशारों पर ही करवाया गया हैं और उसके कारनामों को प्रकाशित करने की सजा ही पंजाब केसरी संवाददाता को मिली हैं।

इसके बाद जब यह मामला केकड़ी विधायक रघु शर्मा के पास पहुंचा तो उन्होंने थानेदार को लताड़ पिलाते हुए कहा कि एससी/एसटी जैसी संगीन धारा में मुकदमा बनाने से पहले जांच किया करो उसके बाद ही ऐसे मामलों में मुकदमा दर्ज किया करो। इसी के साथ विधायक ने केकड़ी पुलिस उपाधीक्षक सरिता सिंह को अपने पीए राजेन्द्र भट्ट के माध्यम से यह निर्देश दिये कि मामले की निष्पक्ष जांच की जाये।विधायक को पंजाब केसरी संवाददाता यानी मैंने बीईईओ के गोरखधंधे के तमाम सबूत लिखित में दिये गये हैं,  जिसके बाद विधायक ने पूर्ण रूप से मुकदमा झूठा करार दिया हैं।

आलोक राठी

संवाददाता, पंजाब केसरी

केकड़ी


AddThis