हॉकर लूटे जाते रहे पुलिस तमाशा देखती रही

E-mail Print PDF

पुलिस के सामने ही पांच लुटेरे दो हॉकरों को लूटते रहे वे तमाशबीन बनकर घटना होते देखते रहे. लुटेरे घटना को अंजाम देने के बाद आराम से निकल गए. घटना दिल्‍ली के तिमारपुर क्षेत्र की है. पुलिस ने तीन लुटेरों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है. यह घटना भोर में घटित हुई.

बिहार के नालंदा जिले के रहने वाले मुन्‍ना प्रसाद और उनके साथी संदीप कमला नगर इलाके में अखबार बांटने का काम करते हैं. दोनों भोर में साढ़े चार बजे सोनिया बिहार स्थित अपने घर से साइकिल पर सवार होकर अखबार सेंटर की तरफ जा रहे थे. ये दोनों तिमारपुर ट्रक पार्किंग से पहले स्थित बस स्‍टैण्‍ड पर पहुंचे ही थे कि दो पल्‍सर बाइक पर सवार पांच लड़कों ने उन्‍हें रोका. इसके बाद वे दोनों हॉकरों को घेरकर चाकू निकाल लिए.

लुटेरों ने दोनों से रुपये और मोबाइल फोन देने को कहा. मुन्‍ना ने लूटपाट का विरोध किया तो उसे लुटेरों ने पटककर मारा. संदीप के सिर पर भी वार किए. इस दौरान चीख पुकार सुनकर अलग-अलग दिशाओं से दो पुलिसकर्मी मौके पर पहुंच गए. दोनों के पास कोई हथियार नहीं था. पुलिस वालों को देखकर भी लुटेरे बिना घबराए लूट को अंजाम देते रहे. पांचों ने दोनों पुलिसकर्मियों को चाकू दिखाकर दूर खड़े रहने की हिदायत दी. इसके बाद दोनों पुलिस वालों के सामने ही उन लोगों के पास से 14 हजार रुपये और दो मोबाइल फोन लूट कर बदमाश चले गए.

लुटेरों के जाने के बाद दोनों पुलिस वाले मुन्‍ना और संदीप के पास आए. मुन्‍ना ने बताया कि पुलिस वालों ने उनके कहा कि चलो जान तो बच गई. दोनों थाने पहुंचे वहां मेडिकल के बाद पुलिस ने एफआईआर दर्ज की. एफआईआर में पांच की जगह तीन अपराधी ही बताए गए. जबकि मौके पर पुलिस वालों की मौजूदगी से इनकार कर दिया गया. बताया जा रहा है कि पुलिस ने पांच अपराधियों का नाम इस लिए दर्ज नहीं किया क्‍योंकि तब उसे लूट की जगह डकैती में केस दर्ज करना पड़ता.


AddThis