56 वर्षीय पत्रकार ज्योति डे को साढ़े तीन बजे चार शूटरों ने पांच राउंड गोलियां मारी

E-mail Print PDF

ज्योति डे अंग्रेजी टैबलायड मिड-डे के एडिटर स्पेशल इनवेस्टीगेशन ज्योतिर्मय डे उर्फ ज्योति डे उर्फ जेडे को पांच गोलियां आज दिन में करीब साढ़े तीन बजे मारी गईं. 56 वर्षीय जेडे को अस्पताल ले जाया गया पर उन्हें बचाया नहीं जा सका. यह जानकारी मुंबई के ज्वाइंट पुलिस कमिश्नर ला एंड आर्डर रजनीश सेठ ने दी.

मुंबई पुलिस के अतिरिक्त पुलिस कमिश्नर विश्वास नागरे पाटिल ने बताया कि गोली मारने वालों की संख्या चार थी और ये दो बाइकों पर सवार होकर आए थे. घटना पवई के हीरानंदानी इलाके में हुई. उन्हें नजदीकी हीरानंदानी अस्पताल ले जाया गया जहां उन्हें मृत घोषित कर दिया गया. करीब पांच राउंड गोलियां चलाने के बाद शूटर फरार हो गए. उधर, महाराष्ट्र सरकार के पूर्व गृहमंत्री और वर्तमान में पीडब्लूडी मंत्री छगन भुजबल ने कहा कि डे बेहद इमानदार आदमी थे. वे अंडरवर्ल्ड पर लिखते थे. वे किसी को टारगेट करके नहीं लिखते थे. मिड डे के संपादक सचिन कालबाग ने कहा कि डे की हत्या अखबार का बड़ा नुकसान है. डे को नए क्राइम रिपोर्टर गुरु कहा करते थे. ऐसा सम्मान डे को अपराध से संबंधित खबरों में विशेषज्ञता के कारण मिला हुआ था. सचिन कालबाग ने कहा कि अभी कुछ कह पाना जल्दबाजी होगा कि डे की हत्या के पीछे कौन लोग थे और उनकी मंशा क्या थी.


AddThis