हेकड़ी दिखाने वाले पत्रकार को विहिप वालों ने धुना

E-mail Print PDF

जोधपुर में कल रविवार को हेकड़ी दिखाना डीजी केबल न्‍यूज के एक पत्रकार को भारी पड़ गया। मोइन उल हक नाम के इस पत्रकार को धरनार्थियों ने पहले तो लात-घूंसों से पीटा और फिर उनके खिलाफ साम्प्रदायिकता भड़काने का आरोप लगाते हुए सरदारपुरा थाने में रिपोर्ट भी दी, परन्‍तु पुलिस ने अभी मामला दर्ज नहीं किया है।

हुआ यूं कि विश्व हिन्दू परिषद ने शहर के जालोरी गेट सर्किल पर कल धरना दिया था। बारिश होने के आसार दिखने पर विहिप कार्यकर्ता धरना जल्दी समेटना चाहते थे। विहिप पदाधिकारी महेन्द्रसिंह राजपुरोहित ने डीजी केबल न्यूज के समाचार प्रभारी मोइन उल हक को फोन किया और कहा कि भाई साहब सभी अखबारों और चैनलों के प्रतिनिधि आकर धरने की कवरेज कर चुके हैं, लेकिन आपके यहां से कोई नहीं आया है। किसी को जल्दी भिजवा दें। यह सुन कर मोइन उल हक बिगड़ गए और कहने लगे कि तुम्हारे कहने से कोई कवरेज थोड़े ही होगा। हमारी सहूलियत से कवरेज करेंगे। हमारा कैमरामैन फ्री होगा तब आएगा। तुम बहुत नेतागिरी कर रहे हो। तुमने फालतू की दुकानदारी लगा रखी है।

महेन्द्रसिंह ने कहा कि भाईसाहब आप कैसे बात कर रहे हो। कृपया तमीज से बात कीजिए। इतना सुनते ही मोइन उल हक बिगड़ गए और गालियां देने लगे। उन्होंने महेन्द्रसिंह से पूछा कि तू कहां है। महेन्द्रसिंह ने कहा कि भाई साहब मैं तो धरने पर ही हूं। मोइन ने कहा कि मैं वहीं आ रहा हूं। मोइन अपनी स्कार्पियो में सवार होकर धरना स्थल पहुंचे और उतर कर गालियां देते हुए महेन्द्रसिंह राजपुरोहित की गुद्दी पकड़ ली। मोइन ने महेन्द्रसिंह को एक थप्पड़ व एक लात मारी ही थी कि वहां मौजूद युवकों ने मोइन उल हक को लातों-घूंसों पर धर लिया। मोइन बड़ी मुश्किल से स्कोर्पियो में सवार होकर भागे। इसके बाद विहिप कार्यकर्ताओं ने सरदारपुरा थाने जाकर मोइन के खिलाफ रिपोर्ट भी दी,  जिसमें साम्प्रदायिका भड़काने वाली गालियां देने का आरोप लगाया गया है।

धरने पर मौजूद भाजपा विधायक कैलाश भंसाली और सूर्यकांता व्यास ने भी पुलिस से मोइन के व्यवहार की शिकायत की। इसके बाद डीजी न्यूज़ के स्थानीय संचालक करणीसिंह धुपालिया,  भाजपा के पूर्व विधायक जालमसिंह रावलोत को साथ लेकर विहिप कार्यालय गए और माफी मांगी। विहिप पदाधिकारियों ने मोइन के माफी मांगने की मांग करते हुए मामला खत्म करने का आश्वासन दिया है।


AddThis