पाली के वरिष्‍ठ पत्रकार लीलाराम थावानी का निधन

E-mail Print PDF

पाली। वरिष्ठ पत्रकार लीलाराम थावानी का बुधवार को निधन हो गया। थावानी पिछले पैंतीस वर्षो से पत्रकारिता से जुडे हुए थे। थावानी के निधन से पाली की  पत्रकारिता जगत में शोक की लहर दौड़ गई।  वे 72 वर्ष के थे तथा अपने पीछे भरा पूरा परिवार छोड़ गए हैं। उनके अंतिम संस्कार में शहर के सैंकडों गणमान्य लोगों ने पहुंचकर उन्हें श्रद्धासुमन अर्पित किए।

पत्रकारिता जगत में अपनी अमिट छाप छोडने वाले पत्रकार लीलाराम थावानी ने पैतीस वर्ष पूर्व शिक्षक की नौकरी छोड़कर पत्रकारिता को अपना पेशा बनाया था। शहर की जन समस्याओं को लेकर हर समय उनकी कलम मौजूदा अव्यवस्था पर कटाक्ष करती रही हैं। थावानी मुम्बई से प्रकाशित हिन्दी साप्तहिक बिल्टिज, दैनिक नवज्योति, दैनिक जलतेदीप को फिलहाल स्वतंत्र पत्रकार के रूप में अपनी सेवाएं प्रदान कर रहे थे। इन्होंने माणक तथा विभिन्न पुस्तकों में अपने आलेख के माध्यम से पाली जिले को एक नई पहचान दी। इसके लिए इन्हें माणक अलंकरण पुरस्कार से भी सम्मानित किया जा चुका है।

थावानी के निधन पर पत्रकार जगत में अपूरणीय क्षति हुई हैं। उनके निधन पर प्रेस क्लब की ओर से शोक सभा का आयोजन रखा गया। जिस में उन्हें श्रद्धाजंलि अर्पित कर श्रद्धा से याद किया गया। पत्रकार रामनारायण लिम्बा, सुभाष त्रिवेदी, कन्नू भीलवारा, अशोक शर्मा, राकेश रावल, मनोज शर्मा, वीरेन्द्र उदेश, ओम वैष्णव, अभिलाष पिल्लई, जितेन्द्र कच्छवाहा, अशोक सुंदेशा, राकेश लिम्बा, दिनेश डुलगज, राजेश जागरीवाल सहित दर्जनों मीडियाकर्मी उपस्थित थे।


AddThis