दैनिक लहू की लौ के संपादक जयमुनी गोयल के पिता कामरेड हरिराम गोयल का निधन

E-mail Print PDF

डबवाली :  दैनिक लहू की लौ के सम्पादक जयमुनी गोयल तथा प्रबंधक राजीव गोयल के पिता कामरेड हरिराम गोयल का मंगलवार की रात को 12 बजे हृदय गति रूकने से निधन हो गया। उन्हें उपचार के लिए मंगलवार शाम को एक निजी अस्पताल में ले जाया गया था। वे 80 वर्ष के थे। डबवाली के रामबाग में बुधवार दोपहर को उनके बड़े पौत्र डीडी गोयल ने मुखाग्नि दिया। इस मौके पर नगर के अनेक गणमान्य व्यक्ति, समाज सेवी संस्थाओं के प्रमुख तथा राजनीतिक पार्टियों के नेता उपस्थित थे।

कामरेड हरि राम गोयल को संघर्षमयी जीवन विरासत में मिला था। उनके पिता राम लाल गोयल स्वतंत्रता संग्राम के समय प्रजा मंडल लहर के दौरान लम्बे समय तक फिरंगियों की कैद में रहे। जब हरि राम गोयल ने जवानी संभाली तो वे अपने पिता के नक्शे कदमों पर चलते हुए आजाद देश में काले अंग्रेजों के खिलाफ खुलकर मैदान में आए। उन्होंने कम्युनिस्ट पार्टी की सदस्यता ग्रहण की। तेजा सिंह स्वतंत्र तथा शहीद-ए-आजम सरदार भगत सिंह के साथी टिका राम सुखन के साथ लम्बे समय तक देश की आजादी के बाद कम्युनिस्ट लहर में काम किया। उन्होंने अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के लिए भी देश की आजादी के बाद जेल काटी। सरकार को उन्हें बिना शर्त रिहा करना पड़ा था।


AddThis