राजस्‍थान पत्रिका की युवा पत्रकार आकांक्षा राव का निधन

E-mail Print PDF

झीलों की नगरी उदयपुर की युवा पत्रकार आकांक्षा राव का 16 सितम्बर की रात को उपचार के दौरान अहमदाबाद में निधन हो गया। वे पिछले कुछ महीनों से अस्वस्थ चल रही थी। आकांक्षा के निधन की खबर उस रात 11 बजे लगी तो पत्रिका ही नहीं अन्य पत्रकारों के आंखों से नींद गायब हो गई।

पचीस वर्षीय आकांक्षा राव राजस्थान पत्रिका में बतौर रिपोर्टर के मोहनलाल सुखाडिय़ा विश्वविद्यालय, कृषि विवि, आईआईएम, उदयपुर का महाराणा प्रताप हवाई अड्डा, सौर वेधशाला सहित कई विभागों को देख रही थी। पिछले डेढ़ वर्ष में सुखाडिय़ा विवि से संबंधित कई महत्वपूर्ण व खोजपरक खबरें देने वाली आकांक्षा राव की हर फील्ड में बहुत अच्‍छी पकड़ थी। होशियारी के साथ काम करने वाले आकांक्षा का आए दिन बाई नेम स्टोरी पत्रिका में पेज वन व लास्ट पर लगती थी। इससे पहले आकांक्षा राव पत्रिका के साथ निकलने वाले 'जस्ट उदयपुर' की भी प्रभारी रही। विज्ञान, संचार क्रांति व अंग्रेजी में भी आकांक्षा की इतनी अच्‍छी पकड़ थी कि पत्रिका न्यूज सेक्शन के अन्य साथी उसकी मदद लेते थे।

आकांक्षा ने उदयपुर में आने वाले ख्यात व फिल्मी हस्तियों के भी कई साक्षात्कार किए, इसमें वैज्ञानिक व पूर्व राष्ट्रपति अब्‍दुल कलाम, अमिताभा बच्‍चन, सलमान खान, अनिल कपूर, सैफ अली खान, करिश्मा कपूर, करीना कपूर, दलेर मेहंदी, राखी सावंत, सोनम कपूर, स्मृति ईरानी, एकता कपूर, शान, मिस इंडिया तनवी, मेघना नायडू, जावेद अख्तर, जाकिर हुसैन, पं. शिव कुमार शर्मा, दुर्गा जसराज, प. विश्व मोहन भट्ट, सितारा देवी, इसरो प्रमुख प्रो. राघवन आदि के साक्षात्कार किए।

पत्रकारिता में आने से पहले भी बनाए रिकार्ड : सुखाडिय़ा विवि से ही पीजी डिप्लोमा इन जर्नलिज्‍म, बी.एससी (बॉयोलोजी) अच्‍छे अंकों के साथ पास की। पत्रिका में आने से पहले आकांक्षा ने पत्रिका के ही पाई एज्‍यूकेशन की स्टूडेंट रहते हुए बेस्ट स्टूडेंट का खिताब पाया। हर समय हंसमुख रहने वाली आकांक्षा ने पत्रिका में रहते हुए नेशनल लेवल पर बेस्ट लेआउट का वर्ष 2008-09 तृतीय पुरस्कार व वर्ष 2009-10 में द्वितीय पुरस्कार और संस्करण स्तर पर पांच मंथली अवार्ड प्राप्त किए। राव को वर्ष 2001 में गार्गी अवार्ड सहित कई अवार्ड मिले। पत्रिका में रहते आकांक्षा का संस्थान ने मुंबई में होने वाले रियलटी शो के कवरेज के लिए चयन किया था और आकांक्षा ने इसे बड़े उत्साह के साथ अच्‍छी तरह से कवर किया।

डॉ. तुक्तक भानावत की रिपोर्ट.


AddThis