सीएनईबी की महिला रिपोर्टर पर हमला, एक धरा गया

E-mail Print PDF

: सीएनईबी प्रबंधन ने संवेदनहीनता का परिचय दिया : हमले की खबर का प्रसारण नहीं किया गया : दिल्ली-एनसीआर में जिंदगी कितनी असुरक्षित है, इसका अंदाजा आए दिन लगता रहता है. अभी कुछ रोज पहले ही महुआ के होनहार पत्रकार को बीच सड़क पर एक वाहन ने कुचल डाला. ताजी सूचना ये है कि सीएनईबी न्यूज चैनल की एक महिला रिपोर्टर पर लफंगों ने हमला कर दिया.

यह घटना नोएडा के सेक्टर 63 स्थित सीएनईबी न्यूज चैनल के मुख्यालय से कुछ कदम दूरी पर हुई. शाम सात बजे के करीब महिला रिपोर्टर उषा लाल और सीएनईबी में ही डेस्क पर कार्यरत टुहिना चौबे आफिस से घर के लिए निकलीं. अभी ये चैनल से पचास मीटर आगे गई होंगी की पांच छह लड़के इनके पीछे लग लिए और कमेंट करने लगे. उषा लाल ने बहादुरी दिखाते हुए कमेंट पास कर रहे लड़कों को मुंहतोड़ जवाब दिया. तब उन लफंगों ने उषा लाल पर हमला कर दिया. एक लड़की पर हमला होते देख अगल बगल के काल सेंटर में काम करने वाले कुछ युवक आ गए और पीटने वालों को दौड़ाया. एक हमलावर पकड़ लिया गया और बाकी सभी भाग निकले.

इस बीच उषा लाल और टुहिना ने सीएनईबी आफिस फोन कर दिया था. सीएनईबी के मीडियाकर्मी साथी मौके पर पहुंच गए और पकड़ में आए एक हमलावर को पीटते हुए आफिस ले गए. बाद में पुलिस को सूचित कर हमलावर को पुलिस के हवाले कर दिया गया. इस प्रकरण में सबसे दुर्भाग्यपूर्ण पहलू यह रहा कि अपने रिपोर्टर पर हमले की खबर को न्यूज चैनल में नहीं दिखाया गया.

कायदे से सीएनईबी के वरिष्ठों को इस प्रकरण के फुटेज और बाइट लेकर खबर चलानी चाहिए थी ताकि पुलिस प्रशासन पर मीडियाकर्मियों की सुरक्षा को लेकर दबाव बढ़ता लेकिन जाने कैसे कैसे विद्वान इन दिनों न्यूज चैनलों में काम करने लगे हैं कि अपने ही साथियों के दुखदर्द से बेखबर हैं. अतीत में इस तरह के घटनाक्रम हुए तो बड़े न्यूज चैनलों ने खबरें दिखाईं हैं. शायद सीएनईबी प्रबंधन ने इससे सबक नहीं लिया. इससे प्रबंधन की अपने कर्मियों के प्रति संवेदनहीनता का भी पता चलता है. यह भी पता नहीं चल पाया है कि इस मामले में सीएनईबी प्रबंधन ने कोई एफआईआर दर्ज कराई है या नहीं.


AddThis