संपादक की होटल मालिक ने जमकर धुनाई की

E-mail Print PDF

इलेक्ट्रानिक मीडिया के एक बिगड़ैल पत्रकार जो ''ब्लैकमेलिंग-किंग'' के नाम से क्षेत्र में मशहूर हैं. श्रीगंगानगर-सूरतगढ़ के बाद इन महाशय ने हनुमानगढ़ में आकर डेरा डाल लिया और एक सांध्य-दैनिक अख़बार के संपादक बन शहर के लोगों को एक सिरे से नंबर वाइज लूटना शुरू कर दिया. शहर का प्रत्येक मुख्य व्यक्ति, संगठन, पुलिस, एडवोकेट यहाँ तक कि मीडिया के लोग बुरी तरह से इस व्यक्ति की हरकतों से परेशान हो गए थे.

एक बार तो टैम्पू वालों ने इस संपादक के खिलाफ हड़ताल कर दी थी. मारपीट, शराबखोरी, ब्लैकमेलिंग से मशहूर हुए ये पत्रकार गत दिनों रात्रि को फुल टल्‍ली होकर जंक्शन बस स्टैण्‍ड के अन्दर बने होटल में जाकर रौब झाड़ते हुए शराब पीने के लिए कमरा माँगा. नहीं  देने पर सांध्य-दैनिक अख़बार का संपादक होने का खूब रौब झाड़ा, फिर भी बात नहीं बनी तो होटल मालिक के एक रिश्तेदार व कर्मचारी को दो-दो थप्‍पड़ जड़ दिए.

जब इस हंगामे और मारपीट की खबर होटल-मालिक को लगी तो लम्बे-चौड़े मजबूत कद-काठी वाले होटल-मालिक ने रात्रि को एक बजे बस स्टैण्‍ड के अन्दर इन संपादक महोदय और उनके साथियों को हॉकी से इतनी बुरी तरीके से पीटा कि वो चलने लायक ही नहीं रहे. पुलिस केस न हो जाए इसलिए पीटने के बावजूद भी संपादक महोदय ने पैर पकड़ कर माफ़ी मांगी. बताया तो ये भी जाता है कि संपादक की पिटाई होते वक्त थाना-प्रभारी भी आ गए थे, पर सबकुछ देख अनजान बन आंखें बंद कर चले गए. संपादक महोदय ने तीन-चार दिन अपना मोबाइल बंद ही रखा और 7 दिन बाद अपने ऑफिस आए, वो भी लंगड़ाते हुए. ये घटना इन दिनों शहर में चर्चा का विषय बनी हुई है और हर कोई इसे बहुत बढ़िया बता रहा है.

हनुमानगढ़ से एक पत्रकार द्वारा भेजे गए मेल पर आधारित.


AddThis