सूचना अधिकार कार्यकर्ता की पत्‍नी के हत्‍यारों को पकड़ा जाय

E-mail Print PDF

फतेहाबाद के सूचना अधिकार कार्यकर्ता जगदीश की हत्या की कोशिश एवं उसकी पत्नी की हत्या तथा उसके पिता को गंभीर रूप से घायल करने की जन सूचना अधिकार को समर्पित संस्था प्रहरी ने कड़े शब्दों में निंदा की है। प्रहरी संस्था ने इस सिलसिले में उच्चस्तरीय जांच की मांग करते हुए आरोपियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की है।

संस्था के अध्यक्ष धीरज बजाज ने कहा कि सूचना का अधिकार स्वच्छ एवं पारदर्शी लोकतंत्र का अहम अंग है, पर कुछ लोग इस अचूक हथियार से घबराए हुए हैं। उन्होंने कहा कि सूचना अधिकार कानून का इस्तेमाल कर भ्रष्टाचार के मामलों को उजागर वाले सूचना अधिकार कार्यकर्ताओं की सुरक्षा करे। उन्होंने कहा कि फतेहाबाद जिले के चन्द्रावल गांव के निवासी जगदीश ने सूचना अधिकार कानून का इस्तेमाल करके पेंशन संबंधी कुछ जानकारियां मांगी थी, लेकिन गांव के सरपंच द्वारा जगदीश को जान से मारने का प्रयास किया गया। अब यदि कोई नागरिक सूचना अधिकार कानून का इस्तेमाल कर घोटालों को सामने लाता है तो उस पर इस तरह के हमले शर्मनाक है।

कार्यकर्ताओं को डराने और जान से मारने की धमकी के अलावा मारपीट के मामले अभी तक सामने आए हैं। लेकिन सूचना अधिकार कानून के इस्तेमाल पर सूचना अधिकार कार्यकर्ता की पत्नी की हत्या, पिता को गंभीर रूप से घायल करने तथा स्वयं आवेदक को भी अपंग बनाने का शायद यह हरियाणा में पहला मामला है। बजाज ने कहा कि सूचना के अधिकार के अंतर्गत किसी भी तरह की सूचना मांगना प्रत्येक नागरिक का हक है। ऐसे में इस अधिकार का समुचित एवं व्यापक प्रयोग हो इसके लिए केंद्र सरकार को इस दिशा में ठोस कदम उठाए जाने चाहिएं ताकि फिर से कोई कार्यकत्र्ता भ्रष्ट लोगों की दबंगई का शिकार न हो।

सिरसा से रविंद्र सिंह की रिपोर्ट.


AddThis