कैंसर नहीं, हार्ट अटैक बना मौत का कारण!

E-mail Print PDF

आलोक तोमर को कैंसर परास्त न कर सका. वे तो कैंसर को परास्त करने की पूरी तैयारी कर चुके थे और इसी अभियान के तहत कैंसर वाली गांठ घटकर बेहद मामूली हो चुकी थी. ऐसा कीमियो, रेडियोथिरेपी व इच्छाशक्ति के कारण संभव हुआ. पर अचानक आए हार्ट अटैक ने दिमाग में आक्सीजन के प्रवाह को बाधित कर दिया. इससे ब्रेन हैमरेज हो गया और आलोक तोमर कोमा में चले गए थे.

उम्मीद थी कि वे कोमा से वापस लौट आएंगे और फिर से कैंसर को जीतने के मिशन पर लग जाएंगे पर ऐसा हो न सका. आलोक तोमर के साथ अस्पताल में कई दिन रहे युवा व प्रतिभाशाली पत्रकार मयंक सक्सेना के मुताबिक आलोक सर रुटीन में रेडियो व कीमियोथिरेपी के लिए बत्रा हास्पिटल गए थे. तभी उन्हें अस्पताल में ही हार्ट अटैक हुआ. डाक्टरों के इलाज शुरू करते करते आक्सीजन का प्रवाह दिमाग को बाधित हो चुका था जिससे ब्रेन हैमरेज की स्थिति आ गई. और उसी क्रम में वे कोमा में चले गए जिसके कारण उन्हें वेंटिलेटर पर रखना पड़ा. डाक्टर भी आशान्वित थे कि कोमा से लौट आएंगे. डाक्टरों ने आने वाले सोमवार को रिव्यू करने की बात कही थी. इसी कारण सुप्रिया भाभी ने मुझे जबरन घर से होकर आने को कह दिया था और यहां लखनऊ पहुंचा हूं तो आज यह दुखद सूचना मिली है. मुझे अफसोस है कि मैं क्यों लखनऊ लौट आया. मैं रात में ही दिल्ली लौट रहा हूं.

मयंक का कहना है कि आलोक सर ने तो कैंसर को परास्त कर दिया था. पर हार्ट अटैक वाले घटनाक्रम ने सब कुछ किया धरा खराब कर दिया. यकीन नहीं हो रहा है कि आलोक सर इस दुनिया में नहीं है. आलोक सर मर नहीं सकते. वो हम जैसों के लिए हमेशा जिंदा रहेंगे और पत्रकारिता की मिशनरी धारा को आगे बढ़ाने वालों का मार्गदर्शन करते रहेंगे.


AddThis