सांसों की डोर टूटने के बाद चिरनिद्रा में आलोक तोमर

E-mail Print PDF

कल तक जो सांसों सा था, आज वही सांसें बंद किए सोया है. आलोक जी की कुछ तस्वीरें मिली हैं. चिरनिद्रा में लीन. शोक-संतप्त परिजन. दूसरों के चुप रहने, लेटे रहने और शांत रहने को चुनौती देते रहने वाले, कुछ नया करने लिखने भिड़ने को उकसाते रहने वाले आलोक तोमर को चिरनिद्रा में देखकर स्वीकार कर पाना मुश्किल है. लेकिन कुछ कड़वे सत्य ऐसे होते हैं जिन्हें सबको मजबूरन या प्यार से, मानन ही पड़ता है. कुछ तस्वीरें यूं हैं.

 

आलोकजी

आलोकजी

आलोकजी

आलोकजी

आलोकजी


AddThis