सेक्‍स रैकेट मामला : अमर उजाला ने पीलीभीत ब्‍यूरो के चार पत्रकारों को निकाला

E-mail Print PDF

पीलीभीत में अमर उजाला के पत्रकार राजेश शर्मा का सेक्‍स रैकेट में पकड़ा जाना उनके साथी पत्रकारों पर भारी पड़ गया. किया किसी और ने लेकिन भरना सभी को पड़ गया. पुलिस द्वारा सेक्‍स रैकेट में अपने पत्रकार का पकड़ा जाना प्रबंधन को इतना नागवार लगा कि उसे पूरे ब्‍यूरो को ही खाली करा लिया. यानी उसने राजेश शर्मा के साथ जिला कार्यालय में कार्यरत ब्‍यूरोचीफ समेत चार अन्‍य पत्रकारों की भी बलि ले ली. राजेश की करनी का फल प्रबंधन उनके साथियों को भी भोगना पड़ गया है.

दो दिनों पूर्व पीलीभीत पुलिस ने दो स्‍थानों पर छापा मारकर सेक्‍स रैकेट का पर्दाफाश किया था. जिसमें लगभग 15 लड़के-लड़कियां पकड़े गए थे. इसमें अमर उजाला का पत्रकार राजेश शर्मा भी शामिल था. पुलिस ने उसे भी जेल भेज दिया था. इसके बाद उजाला प्रबंधन ने अपने उस स्ट्रिंगर को तो निकाल ही दिया. उसके दूसरे साथियों पर भी गाज गिरा दिया. ब्‍यूरोचीफ बलराम शर्मा, अजय गुप्‍ता, अनिल सिंह और साकेत शर्मा को भी प्रबंधन ने बाहर का रास्‍ता दिखा दिया.

बताया जा रहा है कि प्रबंधन ने चारों को जबरिया निकाल दिया, जबकि इन लोगों का उस मामले से सीधा कुछ लेना देना नहीं था. प्रबंधन ने तत्‍काल कार्रवाई करते हुए बरेली से नए लोगों को भेजकर पीलीभीत का चार्ज दे दिया.  फिलहाल वे ही लोग ही अस्‍थायी रूप से उजाला का कार्यभार कल से देख रहे हैं. हालांकि प्रबंधन के इस रवैये से पत्रकारों में नाराजगी भी है. साफ है कि एक झटके में निकाले गए लोगों ने कोई गुनाह नहीं किया था, लेकिन राजेश शर्मा के गुनाह की सजा इन लोगों को भी दे दी गई.


AddThis
Comments (13)Add Comment
...
written by anadi, May 17, 2011
good work sanjay agarwal & rakesh shrivastav rajesh ke sath aisa hi hona chaiye tha woh bahut zyada hawa mein ud raha tha.................................
...
written by SHIVENDRA, May 16, 2011
AMAR UJALA KE STAFF KE JATE HI AB NAYI TEAM BANNE JA RAHI HAI JISME KAILASH SINGH KE SATH SANJAY AGARWAL TO HAIN HI..AB DO NAYE NAAM BHI JODE JA RAHE HAIN. JISME DAINIK JAGRAN KE CRIME REPORTER RAKESH SHRIVASTAV AUR AMITABH AGNIHOTRI BHI SHAMIL HAI.....
PATA CHALA HAI KI PILIBHIT KE RAMA PALACE HOTEL MEIN KAILASH SINGH TAHRE HUE HAI AUR ROZ RAAT MEIN UNKA SATH DENE SANJAY TO HOTE HI HAI VA SATH UNKE AB RAKESH & AMITABH BHI HOTE HAI JAHAN RAAT KO 10. BAJE KE BAAD MEHFIL JAM RAHI HAI.
...
written by Panjak saxena, May 16, 2011
Sharm Aani chaiye Rajesh ko ki inti gandi niyat hai uski. akbar mein kaam kerne walon ko apni izzat ka dhyan rakhna chaiye parantu rajesh ne aisa nahi kia........sath hi poorva mein Amar Ujala ke reporter Sanjay Agarwal bhi kuch kam nahi jinhone Jis akbar ki ROTI aajtak khai usi Amar Ujala ko badnaam kerne mein usne koi kasar nahi chodi.....kyunki 2 mah poorva hi use amarujala se nikala gaya tha......aur usne sabse badla lia....shahar mein charchaien hai ki Sanjay Agarwal ne apne sathi partrakar naveen va chatra neta prashant ke sath milkar yeh badnami ka khel racha aur Amar Ujala ke pure staff ko nikalwaya............Sanjay Shame on you aapko aisa nahi kerna chaiye tha................
...
written by sanee, May 16, 2011
पत्रकार सारा जीवन समाज की भलाई के लिए जीता है और अपनी कंपनी के लिए जीता है और मरता है जिसने गल्ती की है उसे सजा मिलनी चाहिए औरों की क्या गलती और तो पहले से शोषित है मालिकों का क्या वो करें तो रासलीला और दूसरा करें तो छीनारा । अमरमणि त्रिपाठी जैसे महान इस देश में पड़े है उन्होने भी मुकदमा लड़ा और यहा मालिकान ने सभी को निकाल दिया यह गलत है। और वैसे भी सभी पत्रकारों को लगभग स्ट्रिंगर ही मानती है यानी ठेकेदारों के आदमी फिलहाल एक को छोड़ कर सभी को बहाल कर देना चाहिए अगर पत्रकार मालिकों के वंदिश में नहो तो मालिकों को पता चल जाएगा की पत्रकार क्या होता है
...
written by kaml, May 15, 2011
bhai amar ujala ko kyon gart mein le ja rahe hao, waise bhi ab yahan raketier hi rah gae hain, banaras mein bhi yahi hua tha jab akku ji paresani mein par gai they. bhelo pur case se koun nahi wakif hai, ajai tiwari se punch sakte hain
...
written by TRIPTI STAR, May 15, 2011
Rajesh ko nikala to bahot achha kiya per bakiyon ke sath anyay ho gaya
...
written by Kuldeep Singh Rajput, May 15, 2011
Good work for Bureau but not bad with their colleagues.
Bureau Chief GZB.: Dainik DESHBANDHU.
...
written by अजय सिंह, May 14, 2011
राजुल माहेश्वरी का दिमागी संतुलन बिगड़ गया है,इन्हे इलाज की जरूरत है,कभी गुंडागर्दी पर उतरे बुलंदशहर के गुंडे सीओं और पुलिस विभाग पर बदनुमा दाग संसार सिंह से पिटे अपने भले और सज्जन ब्यूरो चीफ को गोरखपुर का रास्ता दिखाते हैं तो कभी पत्रकारों को बाहर का ,,सेक्स एक इंसानी जरूरत है भाई अगर किसी की शादी नहीं हुई और लड़की उससे पट नही रही तो बताओ वो क्या करेगा,,,यशवंत इस मामले में मैं तुम्हारे जेएन.यू प्रकरण पर उठे बबाल के बाद आये लेख से संतुष्ट हूं,भाई सेक्स रैकेट में ही तो पकड़ा गया किसी का बलात्कार तो नहीं कर रहा था वो या बेचारा तुम्हारी तरह जिदंगी भर हाथ ही चलाता रहता.....शर्म आती है तुम्हारी सामंती बुद्धि पर...................
...
written by kk chauhan, May 14, 2011
कोई गल्ती कर और उसकी जगह साथीयों को सजा मिले यह सरासर गल्त है
...
written by Abhimanyu Singh, May 14, 2011
हां अखिलेश जी आप सही कह रहे है.....सम्पूर्ण जीवन समाज की भालाई में लगाने वाले पत्रकार की एक गलती की सज़ा उसके साथियों को तकई नहीं मिलनी चाहिए...ये पूरी तरह से बेबुनियादी है....आखिर पत्रकार भी एक इंसान होता है..
...
written by अखिलेश दुबे, May 14, 2011
पत्रकार सारा जीवन समाज की भलाई के लिए जीता है लेकीन अगर एक कोई गल्ती कर और उसकी जगह साथीयों को सजा मिले यह सरासर गल्त है
...
written by kavita singh ,bareilly, May 14, 2011
sharm aani chahiye amar ujala jese bade sansthanon ke patrakar asi ghinoni harkat karte hai aur pakde jate hai.are aisa kuch karna tha to pilibhit me hi kyu kiya nainital leke jate aish karne
...
written by naveen, May 14, 2011
rajesh sharma ke mamle me amar ujala ko badnam karne vala ek aur reporter tha. jisko amar ujala ne shayad do mahine pahle kisi mamle me nikal diya tha, ab naye prabhari uske sath hi reporting kar rahe hain aur ghum rahe hain. lagta to ye hai ki amarujala ke paas log nahi bache jo apne maliko ko sahi khabar de sake. vo char bechare to free me shaheed ho gye

Write comment

busy
Last Updated ( Saturday, 14 May 2011 12:51 )