भास्‍कर से अग्निमा, प्रमोद तथा अमर उजाला से सुजीत ठाकुर की कुट्टी

E-mail Print PDF

दैनिक भास्‍कर में श्रवण गर्ग को लेकर कई तरह के कयास लगाए जा रहे हैं. जिस तरह से भास्‍कर के नेशनल ब्‍यूरो में कार्यरत दो लोगों को बिजनेस भास्‍कर के संपादक और मैनेजिंग एडिटर यतीश राजावत ने श्रवण गर्ग को विश्‍वास में लिए बिना निकाला है, उसके कई निहितार्थ निकाले जा रहे हैं. भास्‍कर के अंदरूनी सूत्रों का कहना है कि श्रवण गर्ग की ताकत को कम करके यतीश राजावत को मजबूत किया जा रहा है.

यतीश राजावत ने नेशनल ब्‍यूरो की मीटिंग ली थी. जिसके बाद उन्‍होंने सोलह सालों से भास्‍कर के साथ जुड़ी अग्निमा दुबे और छह महीने पहले प्रभात खबर से आए प्रमोद कुमार सुमन को निकाले जाने का आदेश दे दिया. ये दोनों निष्‍कासन श्रवण गर्ग की अनुमति और उन्‍हें विश्‍वास में लिए बगैर किए गए. यतीश राजावात ने प्रमोद सिंह और अरुण श्रीवास्‍तव पर भी तलवार लटका दी थी, परन्‍तु मामला किसी तरह टल गया. सूत्रों का कहना है कि समूह संपादक के रूप में काम देख रहे श्रवण गर्ग के पर कतर दिए गए हैं. अब उनसे नेशनल ब्‍यूरो लेकर उन्‍हें लोकल तक ही सीमित कर दिया गया है. यतीश राजावत लगातार मजबूत होते जा रहे हैं, जिस तरह से उन्‍होंने दो लोगों को निकाला है, उससे उनकी नेशनल ब्‍यूरो में लगातार बढ़ती हनक तथा ताकत को समझा जा सकता है.

अमर उजाला के नेशनल ब्‍यूरो से खबर है कि सीनियर पत्रकार सुजीत ठाकुर ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे नोटिस पीरियड पर चल रहे हैं. वे कहां से अपनी नई पारी शुरू करने वाले हैं. इसकी जानकारी नहीं मिल पाई है. सुजीत काफी समय से अमर उजाला के नेशनल ब्‍यूरो से जुड़े हुए थे.


AddThis
Comments (6)Add Comment
...
written by anil gupta, June 10, 2011
yashwant ji aap ke liye dhamakedar khabar hai....buisness bhaskar me aaj jordaar hangama hua,HR ne parmod kumar suman ko raaji-naame ke liye bulaya thaa, lekin vanha Yatish Rajavat ke saath tu-tu,mai-mai ho gayi. Parmod court jane ki dhamki de kar aaya hai, Buisness bhaskar me aaj khushi ka mahol thaa,kiyon ki journalism me ghuss aaye Yatish Rajavat ko aaj pahli baar kisi ne aukat dikhai.
...
written by anil gupta, June 04, 2011
ab tak log shravan garg ko gali dete the par yatish to kamina nikla.uske kadam se to yahi lagata hai fati pari hai uske. bhaskar ke hi log heran hai ke sudhir aggrawal ko kaya ho gaya. ramesh ne apne bap ke parwah nahi ke uske beta bhi waisa.bhaskar ko dalal chahiye na ki patrkar.purane log iunke nazar mai fit nahi bethte rahi ab is category mai.naye bichare jab tak kuch samjahe unko bhahar kar dete. sanjay singh dilli ka bureau chief ab kuch kam nahi. suna tha kisi neta ke ph par bhaskar mai aaya tha .dubara ph kar walega. bichare dusro ka kaya hoga.dusre bhi neshane par hai yatish ke.
...
written by xyz, June 03, 2011
Sujeet je ko bahar ka rasta dekhana amar ujala ko kafi mehnga pad sakta hai. agle saal UP chunao hai aur sujeet ke BJP aur dusre partyo main kaffi achhe pakad hai.
...
written by ritesh jain , June 03, 2011
agnima, pramod , sujit ache patrkar hai. leken ajkal patkarita ke mayne badal gai hai. har media house ka yah alam hai. mera to bhadas walo se yahi kahna hai yatish jaise gande logo ko expose kare,mere jankari mai to yah hai ki agnima ne resign kiya hai, pramod suman resign deta usse phale usko letter bhej diya. sujit ke yaha bhi aisa hi kuch hua.uska bureau chief uske peche par gaya. ajay uppadhaya ne akhe aur kan band kar leye.. jitana varisht utna darpoke hota hai editor aur cob.
...
written by Arvind K Singh, June 03, 2011
Shayd baat ekdam ullat hai. Yatish Rajavat ko asliyat samajh nahi aa rahi.Vah Biusness Bhaskar ke editor ban kar aaye the.Buisness Bhaskar chal nahi saka aur company ko croron ka ghata ho chuka hai. Issiliya Sudhir Aggarwal ne Yatish Rajawat ko Delhi se Bhopal bula liya aur pahle to taad ke ped par chadha kar Bhaskar group ka Managing Editor bana diya thaa, par ab Delhi bureau ka head bana kar bhej diya, kaun nahi jaante.....desh ke sab se aage badhte is akhbaar ki Delhi me circulation 8000 copies hai, joNai Dunia Delhi me circulation se daswan hissa bhi nahi. Alok Mehta jo Bhaskar ke bhi Delhi me Editor rah chuke hain,ne apne hi bute par nai dunia ko 80,000 copies par panhucha diya, par Bhaskar Delhi me sab ko aajma chuka, ab Yatish ko kudedan me phakne ki tayari hai, vah purane patrkaron ki barkhastgi kar ke khud ko bahadur bhale samajh rahe hon,Group Editor to abhi bhi Sharavan Garg hi bane hue hain. nipat to Yatish Rajavat rahe hain aur unhi ka pahle istemaal kar ke phir dudh se makhi kee tarah saaf karenge Sudhir Aggarwal aur Dr Bharat Aggarwal. Yatish ko phir news industry market me koi nahi lega......apni saakh khud kharab kar rahe hain Yatish Rajavat.
...
written by राजेश पांडे, June 03, 2011
अग्निमा के जाने पर हैरत हो रही है। अपने सोलह साल के कार्यकाल में वे तब भी जमी रहीं, जब उनके शुरूआती दौर के बॉस और भास्कर के ब्यूरोचीफ शरद द्विवेदी उन्हें नहीं चाहते थे। इसके बावजूद दूसरे दफ्तर से उन्होंने काम जारी रखा। इस बीच उन्होंने अपने कई साथियों को निबटवाया। लेकिन खुद बनी रहीं। रही बात प्रमोद कुमार सुमन की तो वह बेचारा बन गया। अग्निमा के साथ तो ऐसा पहले ही होना चाहिए था। वैसे जनवादी कवि आग्नेय की बेटी अग्निमा लालकृष्ण आडवाणी की नजदीकी मानी जाती है। कहीं न कहीं उसका जुगाड़ हो ही जाएगा। ज्यादा संभावना अमर उजाला की है। क्योंकि उनके सहजीवन साथी अजय सेतिया और अमर उजाला के संपादकीय सलाहकार यशवंत व्यास घनिष्ठ मित्र हैं।

Write comment

busy
Last Updated ( Monday, 06 June 2011 15:50 )