राज एक्‍सप्रेस से केके, नीरज एवं प्रभात का इस्‍तीफा, राजीव जागरण से जुड़े

E-mail Print PDF

राज एक्‍सप्रेस, जबलपुर से केके दुबे ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर ब्रांड और मल्‍टीमीडिया सेक्‍शन में असिस्‍टेंट मैनेजर थे. वे अपनी नई पारी कहां से शुरू करने जा रहे हैं इसकी जानकारी नहीं मिल पाई है. वे तीन सालों से राज एक्‍सप्रेस से जुड़े हुए थे. केके ने करियर की शुरुआत 2004 में नवभारत से की थी. इसके बाद से भोपाल में आईएनएस एडवरटाइजिंग एजेंसी से जुड़ गए. वहां से इस्‍तीफा देने के बाद राज एक्‍सप्रेस ज्‍वाइन कर लिया था.

राज एक्‍सप्रेस के मुरैना ब्‍यूरो कार्यालय में कार्यरत रिपोर्टर नीरज शर्मा तथा श्‍योपुर में रिपोर्टर प्रभात प्रणय ने इस्‍तीफा दे दिया है. नीरज अपना तबादला श्‍योपुर के लिए कराना चाहते थे, परन्‍तु प्रबंधन ने उनकी बात नहीं सुनी, जिससे नाराज होकर उन्‍होंने इस्‍तीफा दे दिया. दूसरी तरफ प्रभात प्रणय स्‍टाफ के कई लोगों की कार्यशैली से खफा थे. दोनों लोग राज एक्‍सप्रेस के ग्‍वालियर संस्‍करण की शुरुआत से ही जुड़े हुए थे. नीरज शर्मा ने अपनी नई पारी श्‍योपुर में पीपुल्‍स समाचार के साथ की है. यहां भी इन्‍हें रिपोर्टिंग की जिम्‍मेदारी सौंपी गई है. दूसरी तरफ प्रभात प्रणय श्‍योपुर में ही स्‍वदेश के साथ जुड़ गए हैं. यहां इन्‍हें रिपोर्टर बनाया गया है.

अमर उजाला, लुधियाना से राजीव शर्मा ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर सीनियर रिपोर्टर थे. वे अपनी नई पारी लुधियाना में ही दैनिक जागरण के साथ शुरू करने जा रहे हैं. उन्‍हें यहां भी सीनियर रिपोर्टर बनाया गया है. वे बिजनेस बीट की जिम्‍मेदारी संभालेंगे. राजीव कई वर्षों से पत्रकारिता के क्षेत्र में सक्रिय हैं.


AddThis
Comments (3)Add Comment
...
written by guruji, June 26, 2011
sheopur me raj express bandar ke haath aaye ustare ke jaisa hai. ab isme keval chaaploos aur dalal hi tike rah sakte hain, jo raam naam ki loot wali style jante hon.
...
written by sameer, June 09, 2011
raj group ke circulation aur marketing , auddit. dipt. main ab wo log he bache hain jo kouch nahi jante ki unhe karna kya hai bus apne maalik ke aadesh maanna he wo apna kaam samjhte hain , ab to kaha ja raha hai ki choro ki baarat he bachi hai raj raj express main lekin ab to chori karne ko bhi nahi bacha kouch company main isliye chor bhi souch rahe hain ziyada maaldaar aasami kon hai jahan hum jakar shanti se chori kare aur apni rozi roti chalye
...
written by sameer, June 09, 2011
arun sehlot ne jo kiya wo sahi kiya kiyounki wo jin longo main rehte hain wahi unhe sab shikate hain khud arun sehlot ko kya pata ki wo kar kya rahe dusro ki haat katputli bana vyakti se aur umeed bhi log kyaa kar sakte hain

Write comment

busy