आलोक गुप्ता को मिला इनाम, सहारा के यूपी ब्यूरो चीफ बने

E-mail Print PDF

लखनऊ के वरिष्ठ टीवी पत्रकार आलोक गुप्ता को अपनी मेहनत और निष्ठा का इनाम मिल गया है। आलोक अब सहारा समय यूपी के ब्यूरो चीफ बन बन गए हैं। पिछले करीब आठ सालों से आलोक सहारा के लखनऊ ब्यूरो में ही हैं। पिछले कई बरसों से आलोक वहां नम्बर दो की हैसियत में रहे हैं। जब भी यूपी में कोई बड़ी घटना होती है या फिर कोई बड़ा इवेंट होता है, सहारा ग्रुप सिर्फ आलोक गुप्ता पर ही भरोसा करता रहा है। अपनी इसी मेहनत, लगन और संस्थान के प्रति निष्ठा के चलते आलोक गुप्ता ग्रुप में हमेशा अपने सीनियर्स के प्रिय रहे है, नए प्रबंधन ने उन पर भरोसा जताया है और इस बार उन्हें अच्छा इनाम मिला है।

आलोक स्वतंत्र मिश्रा की भी गुड बुक में हैं.. लिहाजा स्वतंत्र मिश्रा ने कमान संभालने के बाद आलोक को ब्यूरो चीफ बना दिया। आलोक गुप्ता करीब 15 सालों से पत्रकारिता में हैं। सहारा समय से पहले कई अखबारों और पत्रिकाओं में उन्होंने काम किया। कई खोजी रिपोर्ट भी की। उनकी रिपोर्टिंग स्किल से ही उन्हें सहारा में जगह मिली। तबसे वे लगातार सहारा में ही बने हुए हैं।

आलोक गुप्ता शानदार रिपोर्टर तो हैं ही, बेहद डाउन टू अर्थ भी हैं। इतने सीनियर होने के बावजूद आज भी उन्हें धरना प्रदर्शन की कवरेज से कोई गुरेज नहीं है। व्यावहारिक रूप से आलोक काफी सुलझे हुए हैं, यही वजह है कि वे कभी किसी विवाद में नहीं पड़े..। सभी लोगों से उनके मधुर संबंध बने रहे। यूपी के कई अफसरों, मंत्रियों से भी आलोक के अच्छे संबंध हैं। आलोक गुप्ता को रिपोर्टिंग के लिए प्रदेश स्तर के कई पुरस्कार भी मिल चुके हैं। पिछले दिनों आलोक को लखनऊ में छत्तीसगढ़ की पत्रिका लोकायत की तरफ एक सम्मान समारोह में छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह और उत्तराखंड के मुख्यमंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक ने आलोक को सम्मानित किया।

आलोक काफी संघर्ष के बाद यहां तक पहुंचे हैं। एक वक्त ऐसा भी था जब उनके पिता जी उनके लिए मेडिकल स्टोर खोलने की तैयारियों में लगे थे, लेकिन आलोक की जिद थी कि वे पत्रकारिता ही करेंगे। आखिर आलोक सही साबित हुए। आलोक ने यूपी ब्यूरो चीफ बनाए जाने की पुष्टि की। आलोक ने कहा-मेरा ध्यान कल भी काम करने में था, आज भी है। मेरे लिए पद का कोई मायने नहीं है, लेकिन खुशी इस बात की हुई कि संस्थान ने मेरे काम को सराहा, मुझे एक नई पहचान दी। आज मेरी जो भी पहचान है, वो सहारा की वजह से ही है।

एक पत्रकार द्वारा भेजे गए पत्र पर आधारित


AddThis
Comments (9)Add Comment
...
written by umesh vajpeyee, July 22, 2011
patrakarita ki dalali samaj ke liye sidhe taur pe utani hanikarak nahi hai jitani ki dava ke dhandhe me milawat ka kam. alok bhai ka ye samaj ahsanmand hai ki vo patrakarita me chale aaye aur apne masoom pita ke kahe pe nahi gaye.

jo sone ki moti chain dikhane ke liye shirt ke 3 button khol ke chalne wale shree shree swatantra mishra ki good book me ho uski imandari par par kaun shak kar sakta hai !!!
...
written by munna, July 18, 2011
gupt roopse pta chal rha hai ki kanpur aur lko ka bureau chief dileep singh ke kahne se banya gya hai kyonki dono se dileep ke madhur sambandh aur ish samay dileep hi misra ji ka sabse khas hai.lekin yah nirnay accha hai sahara ke liye
...
written by gaurav trivedi, July 18, 2011
badhaee........
Gaurav trivedi
Auraiya
...
written by rajesh vajpayee unnao, July 17, 2011
yashwant bhai aj kafi antraal k baad apnay sateek transparent va quality based kalam chali hai. vastav may jis patrakar bhai nay alokji par vistarpurvak yeh informatoin di hai wah bilkul 100% sahi va sasvat hai. wah bhai aur ap dono es samgra jaankari likhnay va prakashit karnay k liye badhai k paatra hai .mai alokji ko aur unki karyasiali say na sirf bhalibhanti parichit hoo balki alok vinamrata va kathore mehnat ki jeeti jagti pratimurti hai.
ek baar punah alokji k ujjwal bhavisya ki iswar say prathna karnay k sath es aalekh k laykhak va bhadas ko yogya patrakar ki vehangam report prakashit karnay par bahut bahut badhai.
congrat's alokji go ahead gentlemen jouranalist.
swatantraji ko bhi akche chayan k liye vinmra dhanywaad.
rajesh vajpayee ibn7 unnao
...
written by ajay , July 17, 2011
alok ji aap is pad ke haqdaar they jo aaj aapko mila hai aapko shubh kamnaye smilies/grin.gif
...
written by patannjali dubey, July 17, 2011
Alok ji Ko unki mehanat ka fal aakhir mil hi gaya
...
written by GhanshyamKrishana, July 17, 2011
आलोक जी वाकई बहुत अच्छे इंसान है। पर उन्हें इंसान को समझनें की परख नहीं है। मै उनका बहुत सम्मान करता हूं। पर वो समझते है कि कि जूनियर लोगों की गर्ज है कि वो उनका सम्मान करें। एक व्यक्ति को उन्होनें बहुत आहत किया है। क्योकि किसी के जज्बातों से खेलने का अधिकार किसी को नहीं है। आलोक जी खुद जानते है कि वो कौन व्यक्ति है।
आप की इस पदोन्नति के लिये बहुत मुबारकवाद।
...
written by bharat singh, July 17, 2011
bahut-bahu shubhkamnayen.
...
written by mohd umair, July 17, 2011
bahot achcha aadmi ko uski mehnat ka fal zarur milta hai.alok g uva patrkaron k liye prerna hai.

Write comment

busy
Last Updated ( Monday, 18 July 2011 22:06 )