इंडिया टुडे के पूर्व पत्रकार फरजंद अहमद बिहार में सूचना आयुक्त नियुक्त

E-mail Print PDF

कल रात करीब दस बजे अमिताभ जी का मोबाइल फोन बजा तो उन्हें बहुत खुश होकर दूसरी तरफ के व्यक्ति को बधाइयां देते हुए सुना. यह भी कहते सुना कि सोलह तारीख को लखनऊ आना, अवश्य मुलाक़ात करूँगा. फोन रखे जाने पर तुरंत जिज्ञासास्वरूप पूछा कि कौन थे. प्रसन्न अमिताभ जी ने बताया कि फरजंद अहमद को बिहार सरकार ने बिहार राज्य सूचना आयोग में सूचना आयुक्त बनाया है.

इंडिया टुडे जैसी प्रतिष्ठित मैग्जीन में वर्षों तक सीनियर लेवल पर काम करने के बावजूद जिस फरजंद अहमद को लेश मात्र का गुमान और घमंड नहीं हुआ था और जिनके पास लखनऊ, दिल्ली या पटना में अपना एक मकान तक नहीं बन पाया था, उन्हें मैं लंबे समय से पत्रकारिता के सच्चे सिपाही के रूप में जानती हूं. मैं उनसे यदा-कदा मिलती भी रहती थी और फोन से भी बातें होती रहती थी.

मेरे मन में उनके प्रति बहुत सम्मान है. इसीलिए जब वे इंडिया टुडे से हटे थे तो मुझे इसका कष्ट हुआ था क्योंकि अपने पेशेगत ईमानदारी के कारण वे ऐसा कुछ नहीं कर पाए थे जो ऐसे स्थानों पर रहने वाले कुछ पत्रकार कर लेते हैं और अपने भविष्य के प्रति निश्चिन्त हो जाते हैं. वर्तमान हालातों में उन्हें आर्थिक सुदृढता की जरूरत थी, और उनकी खुद्दारी थी कि उन्हें बहुत अधिक झुकने नहीं दे रही थी.

ऐसे में बिहार सरकार का यह प्रस्ताव और उनकी सूचना आयुक्त के पद पर नियुक्ति एक साथ कई सारे उद्देश्य पूरा कर रही है. एक तो फरजंद साहब अब पांच सालों तक अपनी आर्थिक चिंताओं को ले कर मुक्त हो गए हैं और दूसरे उन्हें एक बहुत ही प्रतिष्ठित पद भी मिला है जिसके वे हमेशा से हकदार थे. तीसरी बात यह कि अपनी ईमानदारी और कर्तव्यनिष्ठा से वे इस जिम्मेदारी के पद पर अपना बहुत भारी योगदान दे सकेंगे जिससे सूचना की पारदर्शिता की क्रान्ति और आगे फैलने में मदद मिलेगी.

मैं एक निकटस्थ के रूप में और एक आरटीआई एक्टिविस्ट के रूप में फरजंद साहब को उनकी इस नियुक्ति पर बहुत सारी शुभकामनाएं देते हुए यह भी निवेदन करती हूँ कि वे इस पद की गरिमा को उसी तरह बनाए रखें जैसा उन्होंने अब तक अपनी पत्रकारिता के जीवन में किया है, साथ ही आरटीआई के आंदोलन को नयी दिशा देने में भी अपना योगदान देंगे

डॉ नूतन ठाकुर

कन्वेनर

नेशनल आरटीआई फोरम

लखनऊ


AddThis
Comments (23)Add Comment
...
written by Mohd.Wasiullah Husaini, August 25, 2011
haq b haqdaar raseed.
Farzand sb. dili mubarakbaad qubool farmayen!
...
written by Ramanand Soni, August 16, 2011
Pahale meri shubhakamnayen swikaren, iske bad yeh ki Meine apko India Today mein khoob parha hai. Patrakarita mein shuchita ap jaise patrakaron se seekhi ja sakati hai. Meine seekhi hai. Mujhe bahut achchha laga ki Bihar sarkar ne aapki yogyata ka yathochit samman kiya. Imandari se apana kam karne walon ko khuda tohafa deta hai.
Punah hardik badhayee. Ishwar aapko aur oonchayee par pahunchaye.
...
written by मधुकर तिवारी , August 16, 2011
फरजंद जी से मेरी एक मुलाकात है उस मुलाकात ने मुझे इस कदर प्रभावित किया की मै उनका फैन हो गया उनकी सादगी उनका बात में अपनापन सब कुछ उनका मैंने महसूस किया की वो एक बेहद अच्छे पत्रकार होने के साथ अच्छे इंसान भी है उनको यह पद मुबारक हो
...
written by amitabh ranjan, August 16, 2011
फरजंद सर को बधाई। मेरे ख्याल से फरजंद साहब को यह पद देकर राज्य सरकार गौरवान्वित हुई है।
अमिताभ-बेतिया,पश्चिम चम्पारण
...
written by farzand, August 15, 2011
Dear Zulaikha ji:

Himmat afzai aur nek khwahisht ke liye shukriya.
Main ne aapka msg kai baar padha. Aur bhi kai achche achche msg bhadas par mile. Sach mein mujhe kai baton ki jaankari nahi hai aur aap jaise logon ki madad ki zaroorat hai. Baaton ko samajhne mein waqt lage ga.
Rahi baat dons ki to unse darne ki zaroorat nahi hai. Main ne apne career mein kai khatarnaak dons ko dekha aur un ke ‘kaarnamo’ ko ujagar kiya. Kisi bhie kaam ko karne mein agar aapki niyat aur mansha saaf hai to kisi chiz se ghabrane ki zaroorat nahi.
Main apne tajrubon ke bina par kah sakta hun ki dons se zeyada khatra unse hai jinki zimmewari logon ko khatron se bachane ki hai. Shayad aapko maloom hoga ki haal hi mein Nutan Thakur apne IPS shauhar Amitabh ji ke saath sleeper class mein raat mein safar kar rahi thin. Yeh dono sadgi ki misaal hain. Raaste mein unka sabqa grp ke sipahion se pada. Ve logon ko choron se bachchane ke naam par logon ko parishan kar rahe the, gande policia alfaaz istemaal kar rahe the.
Jinki zimmewari logon ko chor looteron se bachane ki hai agar log unse hi durr jayen to phir voh kis se shikayat karen ge. Aaj Bihar ya kahin aur officers logon ke saath waisa hi salook kar rahe honge jaise ki nutan and amitabh ji ne apni aankhon se train mein sipahion ko karte dekha. Logon ko train mein darane wale chor ya don nahi the balki khud sipahi the.
Chizon ko samjhne ki zaroorat hai. Darne ya ghabrane ki zaroorat nahi. Kanoon se hi kanoon torne walon ko expose karna hoga. Bihar krantikarion ka pardesh hai. Log na-insaafi bardasht nahi kar sakte. Isliye Bihar RTI ke maamle mein model zaroor bane ga.
Mujhe aap jaise logon ke madad ki zaroorat pad sakti hai. Isliye agar koi suggestion ho to zaroor mail kijiye.
Shukriya
Farzand
...
written by Sanjeev, August 15, 2011
Bhai Farzand jee, thanks for providing your email id. I have just sent THREE attachments with lot of material to study the reality of RTI in Bihar. I can provide it others also if anybody wants to have it. But I am surprised with the reaction of Avinash Aacharya. If somebody dont know the reality of RTI in Bihar he shall not bother to make comments in this regards. I had not written a single word against a legend like Farzand jee, I just wanted to tell that it is not an easy task to do justice with RTI in the present kind of SUSHASHAN in Bihar as this is only state in India, which has the most anti-people RTI rules in country. And it will be interesting to see how do the new team will react with this challenge. My best wishes to Farzand bhai and best regards.
...
written by मदन कुमार तिवारी , August 15, 2011
बिहार में आरटीआई कानून है क्या ? यहां तानाशाही है । आप किसी अधिकारी के गलत आदेश का औचित्य नही पुछ सकते , आपको केरल उच्च न्यायालय के एक आदेश की प्रति थमा देगा जिसमें यह लिखा है कि कोई आदेश किसी अधिकारी ने क्यों दिया , यह आरटीआई के तहत नही पुछा जा सकता है । एक्टिविस्ट वगैरह नही हूं , लेकिन आरटीआई के क्षेत्र में काम किया और अब इस अंजाम पर पहुंचा हूं कि यह कानून मात्र एक धोखा है । इसकी हत्या कर दी गई है बिहार में। एक आवेदन पर , एक हीं प्रश्न पुछ सकते हैं , दुसरे विभागकी जaानी मांगने पर कहा eगगा aीं जाें , जबबककि कसी भी विभागकी जानी मांगी जा ससकती है , जवाब देनेकी समय अवधि सिर्फ़ ५ दिन बढ जाती है अगर दुसरे विभाग से संबंधित जानकारी मांगी गई है तो । कहिर आइये , देखते हैं आप नौकरी करते हैं या न्याय ।
...
written by Zulaikha Jabeen-Chhattisgarh, August 15, 2011
Dili Mubarakbaad...Apki Qalam k Fain Rahe hain..Achha laga ye jankar k RTI Commissinor banai gai hain aap...allaah apko kamyaab kare. bihar me RTI k halat...jaha Activisto ka MURDER kr dia jaata hai. Ap waise bhi Pol khol Mediakarmi rahe hain...aise me ye zimmedari dekr state Govt. ki mansha apke kie karai pe paani ferna ki to nahi? hamara shak galat ho.. zara samhal k waha k BAHUBALI apko kitna aur kaha tk bardasht kar painge--ap unki TAQAT k aage apni zimmedari kitni nibha painge ye to ane wala waqt bataiga..filhaal nai aur anoki zimmedari (apke lie) ki tahe dil se Mubarakbaad.............FI Amaanallah..(God Bless U)
Zulaikha jabeen
Raipur Chhattisgarh
...
written by farzand , August 15, 2011
Dear sir: This message is in response to brother Sanjeev's message. I as a journalist appreciate his feelings & concerns.
Kaanton ka Taaj, yes I know. My email is: [email protected]. I would feel obliged if Sanjdeev ji helps me understand the situation.
But one would really know how deep rooted is the rot in Bihar RTI only after having an inside view. I should not comment at this moment because I am not at the moment as knowledgable as Sanjeevji's is. Better if he sends me papers and hv a meeting. I need a guide, a Guru.
I don't think I am going there to praise Nitish Kumar. I dont hold any degree in "Oil Technology". I am not made for that. I was happy as a journalist. I decided to accept this offer for two reasons: as a challenge & also as an oppofrtunity to gain first hand knowledge of functioning of SIC & bureaucracy.
SANJEEV JI PLZ DONT PRE-JUDGE THINGS. I DON'T RPT DON'T SUBSCRIBE TO ANY POLITICAL IDEOLOGY, I AM NOT MEMBER OF ANY PARTY. I AM ALSO NOT PART of ANY NGO. MY PHILOSOPHY HAS BEEN WRITE & BE DAMNED.
Also since I am in UP and watching UP Info Commision fuctioning and also frequently go to Orissa I would request Sanjeev and other RTI activist friends to study situation in Lucknow & Bhubneswar.
It help him undderstand ground realities.
Plz be in touch & send details if you trust me.
Regards
Farzand
...
written by vijay srivastava, August 15, 2011
farzand saheb ko meri dheron shubh kamnayen. achha laga ye dekh kar ki aapne bhadas par apni pratikriya di hai. aaj bihar me ek aur naya adhikar logon ko mila hai- right to service ka. sir, bihar me badi shuruaat ke baad soochna ka adhikar kund ho raha tha. soochna aayukton ki bhaari kami thi. adhikari aur karmchari mast ho rahe the to RTI activists ka vishwas dagmagane laga tha. darbhanga-samastipur ke kai aise activists ka dard sunne ka mauqa mila tha. khud maine kaam ke badle anaj yojna ke hazaron quintles anaj dealers dwara daba lene ke mamle par soochna ka adhikar ke tehat jankari maangi thi. lekin aaj tak wo file soochna aayog me dabi hai. lekin khushi is baat ki hai ki file bhale hi dab gayi par meri aawaz buland rahi. aaj zile me us anaj ka hisab-kitab liya ja raha hai. dealers par muqaddame ho rahe hain. aise anek maamle hain. jharkhand me vaidyanath mishra patrakar se soochna aayukt bane the. hamare samaj se bihar me aap jaisa vyakti soochna aayukt bana hai to hamari ummeeden phir badh gayi hain. meri dheron shubhkamnayen. vijay kr. srivastava, reporter, e tv news, darbhanga, bihar.
...
written by avinash aacharya, August 15, 2011
ye kaun sanjeev hai jo Farzand bhai ke baare me nahi jaanta. Vinamrta se kisi ke prati aabhar vyakt karna chaaplusi kanha se ho gay. us msg me sushil modi aur abdul baari siddqui ka bhi jikra hai. ab aap sushil modi ke liye unhey communal aur abdul baari siddqui ke liye muslmaan ka aarop mat lagane lagiyega.
...
written by पंकज झा., August 14, 2011
फरजंद साहब के लिखे को चाव से पढ़ने वाले लाखों पाठकों में से एक रहा हूं..उन्हें अशेष बधाई और ढेर सारी शुभकामना.
...
written by Prashant hardoi (u.p.), August 14, 2011
फरजंद अहमद सर को नई जिमेम्दारी के लिए ढेर सारी शुभकामनाये आठ ही नूतन जी आपको भी हार्दिक धन्यवाद जो शब्द अपने उनके लिए लिखे
प्रशांत
हरदोई
...
written by Sanjeev, August 14, 2011
भाई फरजंद, नयी जिम्मेवारी की बधाई। यह कांटों का ताज है। इसी रूप में पहनें तो बिहार का कुछ भला कर सकेंगे। क्योंकि सबसे पहले आपको इस भ्रम से बाहर निकलना होगा कि आपके ही शब्दों में BIHAR IS A STATE WHERE THANKS TO NITISH JI EVEN A PERSON LIVING IN REMOTE VILLAGE KNOWS THE POWER OF RTI.
सच तो यह है कि पूरे देश में आरटीआइ की सबसे बुरी हालत बिहार की है। इस संबंध में मणिकांत ठाकुर की रिपोर्ट आ चुकी है। बिहार सरकार ने सूचना कानून की जो नियमावली बनायी है, वह पूरी तरह से इस कानून की भावना और इसके प्रावधानों के खिलाफ है। उस वक्त इसे पटना हाईकोर्ट में चुनौती दी गयी थी। आरटीआइ विशेषज्ञों ने विस्तार से बताया था कि कैसे बिहार सरकार ने एक गैरकानूनी और बुरी नीयत वाला कानून बनाया है। आप अपना ई-मेल पता बतायें तो कुछ चीजें मैं ही आपको उपलब्ध करा दूंगा।
मेरी बात पर भरोसा न हो तो बिहार या देश के किसी भी आरटीआइ कार्यकत्र्ता से पूछ लें। आप खुद भी जब मामले की तह में जायेंगे तो समझ सकेंगे कि बिहार में आरटीआइ की असलियत क्या है। आपके सामने यह धर्मसंकट तो अवश्य रहेगा कि नीतिश के गुण गायें या कि आरटीआइ एक्ट 2005 की भावना और इसके प्रावधानों का सही अनुपालन करें। दोनों में एक ही चीज संभव होगा। जान लीजिये कि यह आपकी अग्निपरीक्षा होगी।
...
written by Sameer Qureshi, August 14, 2011
Farzand bhai bhaut-2 mubarak ho. hum sab ko aap ki taraf se Eidi mil gayi. & we belive that u desivered this.
Regards
Sameer Qureshi
Agra
...
written by MANISH DUBEY, August 14, 2011
nootan ji aap har baar khud ko ek nai jimmedari se kyo jod leti hai , kabhi samaj sevika , kabhi editor kabhi kuch kabhi kuch to ab isme kuch aur hai
...
written by Dr Maharaj singh Parihar, August 14, 2011
आदरणीय फरजंद साहब, इस महत्‍वपूर्ण पद पर नियुक्ति के लिए बधाई। आपने जिस निर्भीकता और निष्‍पक्षता के साथ पत्रकारिता में जो आयाम स्‍थापित किये, सूचना आयुक्‍त के पद पर भी इसे कायम रखें। आपकी कर्तव्‍यनिष्‍ठा और ईमानदारी ही हम पत्रकारों की अमूल्‍य पूंजी है।


डॉ. महाराज सिंह परिहार

ब्‍यूरो चीफ आगरा

जनसंदेश टाइम्‍स
...
written by pramodkumar.muz.bihar, August 14, 2011
farjand sahab ,nayee jimmewari milne par hardik subhakamnaye.samachar se india to day tak aapane ptrakarita ki jo sewa ki hai usaka yah samman hai.nutan ji ka badhai patra aur bhi achha hai.
...
written by farzand, August 14, 2011
respected nutanji, amitavji aur saare saathi.
Thanks for kind words. When I entered this profession I was told that journalism means nothing but TYAG & IMANDARI which means Sacrifice of worldly lust & honesty both physical and intellectual. Without these two words journalism becomes lifeless & looses credibility. I tried my best to uphold this for 35 years and you all will judge if I succeeded or failed in the world dominated by Radia type "stars".
But I am not poor. I have tried to create huge asset of love, respect & affection of friends. This is why when I was leaving India Today Mr Aroon Purie in a farewll msg called me "an institution in India Today". Whatever it means this was a rarest compliment.
I have well wishers and supporters as well as friends in media, bureaucracy and politics. This is the reason my name, I am told, for this post was unanimously supported by Nitishji, Sushil Modiji & RJD's leader of opposition Abdul Bari Siddiqui.
In fact Nitishji has honoured the entire press world.
NOW REALLY NEED YOUR GOOD WISHES TO PERFORM MY DUTY IN A STATE WHERE THANKS TO NITISHJI EVEN A PERSON LIVING IN REMOTE VILLAGE KNOWS THE POWER OF RTI.
Warm regards
Farzand
...
written by Vikas Kumar, August 14, 2011
Heartiest congratulations! People will believe that honesty is also rewarded. We grew up reading his articles in india today.
...
written by sudama roy, August 14, 2011
फरजंद सर को ढ़ेर सारी शुभकामनाएं। जिस ईमानदारी , पारदर्शिता और निर्भिकता पूर्वक फरजंद सर ने पत्रकारिता के प्रति अपने कर्तव्य का निर्वाहन किया है वो वाकई में काबिले तारीफ है। वाकई में बिहार सरकार ने फरजंद सर को एक जिम्मेवार पद पर नियुक्त कर बेहतर कदम उठाया है। फरजंद सर जैसे ईमानदार लोगों का ईश्वर जरुर साथ देते हैं और रमज़ान के पवित्र महीने में ये खुशखबरी इसी बात का सबूत है। बिहार सरकार और परजंद सर दोनों को बधाई और ढ़ेर सारी शुभकामनाएं।
सुदामा रॉय, पटना।
...
written by ajay ashk, August 14, 2011
BAHUT BAHUT VADHAI FURJAND BHAI KO, CHALIYE NAYI JIMEDARI KA VAHAN KARNEY KE LIYE, MERI SUBHKAMNAYE. AJAY ASHk, SAHARA SAMAY TV CHANNNEL, BOKARO
...
written by कुमार सौवीर, लखनऊ, August 14, 2011
रमजान के पवित्र महीने में इससे बड़ा तोहफा और क्‍या हो सकता है।
आ रहा हूं भाई साहब, मिठाई और कुछ नकदी मेरे लिए रख लीजिएगा।
मिठाई तो फौरन खाने के लिए और नकदी शाम की व्‍यवस्‍था के लिए।
आज तो मस्‍त-मस्‍त दिन है। पूरा बिहार जीत लिया है मैंने।

Write comment

busy