राष्ट्रीय सहारा, लखनऊ में दयाशंकर राय डिमोट, मनोज तोमर नए आरई

E-mail Print PDF

सहारा समूह की रीति-नीति को सिर्फ भगवान समझ सकता है या फिर सहाराश्री. दूसरा कोई नहीं जानता. यहां कब किसका क्या कैसे कब तक कहां किधर हो जाए, ये कुछ नहीं कहा जा सकता. उपेंद्र राय जब सहारा मीडिया के हेड बनाकर आए तो पूरे घर को बदल डालूंगा वाले अंदाज में जमकर फेरबदल किया. हर कोने में साफ-सफाई शुरू की. अब जब उनके दिन पूरे हो गए और स्वतंत्र मिश्रा की ताजपोशी कर दी गई तो स्वतंत्र मिश्रा भला अपना पावर दिखाने से कहां चूकेंगे.

उन्होंने भी वही खेल तमाशे शुरू कर दिए हैं, जो उपेंद्र राय ने किए. ताजी सूचना राष्ट्रीय सहारा अखबार के लखनऊ आफिस से है. यहां नोटिस चस्पा कर दिया गया है कि अभी तक रेजीडेंट एडिटर के रूप में काम देख रहे दयाशंकर राय की हैसियत नंबर दो की कर दी गई है. माने उन्हें डमोट कर दिया गया है. मनोज तोमर जो नंबर दो की हैसियत में थे, को नया रेजीडेंट एडिटर बना दिया गया है.

उल्लेखनीय है कि मनोज तोमर पहले लखनऊ में आरई थे. उपेंद्र राय के समय में उनका तबादला गोरखपुर यूनिट में कर दिया गया था. स्वतंत्र मिश्रा ने उन्हें लखनऊ बुलाकर फिर से आरई का पद दे दिया है. इसी तरह रमेश चंद्र भाटी जो उपेंद्र राय से पहले लखनऊ में प्रोडक्शन मैनेजर थे, का तबादला उपेंद्र राय ने बनारस के लिए कर दिया था. अब स्वतंत्र मिश्रा ने उन्हें फिर से लखनऊ का प्रोडक्शन मैनेजर बना दिया है.

अपुष्ट जानकारी के मुताबिक सहारा प्रबंधन ने राष्ट्रीय सहारा, कानपुर के आरई नवोदित के खिलाफ जांच शुरू करा दी है. किन आरोपों के आधार पर जांच कराई जा रही है, यह पता नहीं चल पाया है.

इन सब बदलावों के बारे में स्वतंत्र मिश्रा से जब बात की गई तो उनका कहना था कि मनोज तोमर पहले से ही आरई थे. उन्हें कुछ समय के लिए दूसरी जिम्मेदारी दी गई थी. अब उन्हें फिर से मूल पद पर बहाल कर दिया गया है. राष्ट्रीय सहारा, कानपुर के आरई नवोदित के खिलाफ जांच शुरू होने संबंधी अफहावों को स्वतंत्र मिश्रा ने खारिज किया और कहा कि नवोदित हमारे यहां के अच्छे संपादकों में शुमार किए जाते हैं. स्वतंत्र मिश्रा ने अपील की कि सहारा से जुड़ी अफवाहों को खबर न बनाया जाए क्योंकि सहारा में कई लोग ऐसे हैं जो अफवाहों को बढ़ावा देते रहते हैं.


AddThis
Last Updated ( Tuesday, 30 August 2011 14:27 )