'सर्वाधिक भ्रष्‍टाचार' लिखने पर पत्रिका ने राधेश्‍याम धामू की सेवा समाप्‍त की

E-mail Print PDF

पत्रिका, इंदौर से राधेश्‍याम धामू की सेवाएं समाप्‍त कर दी गई हैं. राधेश्‍याम इंदौर में संपादकीय पेज देखते थे. धामू को अखबार से निकाले जाने की सूचना पत्रिका के 31 अगस्‍त के प्रथम पेज पर प्रकाशित की गई है. इस सूचना में बताया गया है कि धामू ने पत्रिका की रीति नीति से परे जाकर लेखन किया जिसके चलते उनकी सेवाएं समाप्‍त की जा रही हैं. धामू काफी समय से पत्रिका को अपनी सेवाएं दे रहे थे.

धामू ने अखबार के प्रसंगवश कॉलम में 'सर्वाधिक भ्रष्‍टाचार' शीर्षक से एक टिप्‍पणी लिखी है. पत्रिका प्रबंधन का कहना है कि धामू ने इस खबर में अपने व्‍यक्तिगत विचार लिख दिए हैं, जो पत्रिका के स्‍वभाव से मेल नहीं खाता है. इसमें लिखे गए शब्‍द मर्यादित नहीं हैं, पत्रिका हमेशा अपनी राय निष्‍पक्ष और निर्भीक तरीके से रखती आई है, लेकिन इस तरह के भाषा के इस्‍तेमाल के पक्ष में कभी नहीं रही. लिहाजा प्रबंधन इसे गंभीर मानते हुए राधेश्‍याम धामू की सेवाएं समाप्‍त करती है.


AddThis
Comments (17)Add Comment
...
written by RAJESH CHOUHAN, September 06, 2011
SACH LEKHANE KI AGAR YE SAJAA HAI TOBHI KABHI SACH LEKHNE SE PEECHHE MAT HATANA DHAMU J.
I AM ALLWAYS WITH U.
...
written by shakuntala, September 05, 2011
dour hai aisa k shabdon k sahare ji rahe -
varna sikkon/ satta k zamane the zamane hi rahe.
a qalamkaron qalam se tumko kya hasil hua-
mufflisi k hum thikane the thikane hi rahe,
such or behter likhne ki saza maine b udaipur mei bhaskar me paii hai, daaru peene wale desk inchrge n editor rastogi k karan , jo muje keval ye kah paye k hum rajasthan se casuals ko hata rahe hai so plz no. hai chahenge to bula lenge! or fir 11ve din editor ko laqwa mara . dono gaye kaam se , k patrakar bhi nahi rahe , god bless them . ha ha
...
written by dhamu, September 02, 2011
thank u doston
sarvadhik bhrastachaar to media house hi karte hai,,, kama kamakar inhe dete raho to theek, verna inki najar me hum bhrust!!!!!!!!?????
dhamu
...
written by dhamu, September 02, 2011
पतिका समूह प्रबंधन से धामू के पञ्च सवाल
१. क्या किसी अख़बार की सम्पादकीय टिपण्णी में किसी के निजी विचार हो सकते है? यदि हा, तो पत्रिका में इतने साल से मध्यप्रदेश में मेरे बेनामी निजी विचार क्यों छाप रहे थे और वे क्यों अच्छे लग रहे थे? और जो विचार किसी को अच्छा नहीं लगा तो वह अचानक मेरा कैसे हो गया, पत्रिका का क्यों नहीं रहा?
२ क्या उच्च न्यायलय का फैसला मेरा निजी विचार था? यदि नहीं तो उस पर टिपण्णी लिखने पर बिना कोई नोतिसे दिए मुझे क्यों हटाया? क्या यह उच्च न्यायलय और मेरी दोनों की तौहीन नहीं है?
३ क्या इस टिपण्णी के लिए में ही दोषी हु? और यह कैसे तय किया? यदि हां, तो फिर पीआरबी एक्ट के तहत समाचार चयन के लिए जिम्मेदार मध्यप्रदेश के स्थानीय संपादक (इंदौर, भोपाल. ग्वालियर, जबलपुर और उज्जैन) क्या कर रहे थे? उन्होंने ठीक क्यों नहीं किया, जबकि आदिकारिक अंतिम जिम्मेदारी उन्ही की बनती है.
४ वो कौन से पक्छ थे जिन्हें प्रसंगवश ''सर्वाधिक भ्रस्ताचार'' में छपे विचारों से ठेस पहुची? और क्या वे मुझे हटाने से ही संतुस्ट हो गए?
५ यदि सत्ता पक्ष था तो पत्रिका झुक जाता, मुझे ही क्यों ईद के दिन बलि का बकरा बनाया? क्या पत्रिका मेरे इन सवालों का जवाब उसी जगह पर छाप कर वापस जन अदालत में जाने का साहस दिखायेगा जहा मेरी सेवाएँ समाप्त करने की खबर छपी थी? क्योंकि मेरा अपना कोई अख़बार. जो नहीं है?

आपका ही
राधेश्याम धामू
...
written by hari, September 02, 2011
dhiikar hai patrika prabahandhan ko aur eise sampadak ko jo apne upar naitik jimmedari nahi le saka. eise sampadak ko doob marna chahia. use pad par bane rahne main sarm nahi aa rahi kya.
...
written by ramesh takur, September 02, 2011
patrika ne sach ka gala ghontha h cm k khilaf kya likha DHAMUJI ko bahar ka rasta dikhana galat bat h Gulab KOTHARIJI m sach ka sath dene ki himmat nahi h neemuch-mandsour m NADAN Reporter- bearu kuch b likh rahe h uneh bahar kyo nahi karte h m RADEHSHYAM DHAMU k sath hu
...
written by anil, September 02, 2011
patrika ke liye ye koi nai baat nahi he acche kaam karne wale unko nahi chalte sirf gi hazuri wale unco raas aate fir wo ye nahi dekhte ki kya sahi he aur kya galat ager aisa hi chalta raha to jis bulandi ke sath patrika itni uchai par pahuch he usse doguna raftar se niche gir jaiga is sandesh ke jariye me shri gulab ji kothri ko sandesh dena chahta hu ki aise muddoko prathmikta se dekhe aur patrika me chal rahe bhai bhatija ,uthad patthe ki prath ko samapt kare nahi to m.p. he jis tarh se log sir par bithate he usi tarah girane me der nahi karte
...
written by rdx, September 02, 2011
roj kailash-ramesh (ye kaun si riti-niti hai?) likhne wale rajsthani oont cm se fati to mp ke dhakad patrakaar dhamu ko aage kar peechhe khade ho gai ki kahi apni nahi mar jaye....ye hai patrika ki spast aur nibheek patrakarita!!!!!!!!!!!!!!!
...
written by gaurav, September 01, 2011
sampadak jee kya aapne sambandhit editor ke naukri khai? wah bhee jimmedar hai. kya edit page unhone nahi dekha.

aapka shubhcintak
...
written by satya , September 01, 2011
galat kya likha samjh nahi aata mujhe ....dohra charitra wale hai patrika wale sala dar gaye cm se khi raj group ki trah in bhi band na baja de
...
written by rdx, September 01, 2011
patrkar dhamu ko ied ke din bali ka bakra banaya!!!!!!!!!!!!!!!!????????
padhen soorma ki fank
pradeshtoday.com, edit page no 6 meadia mirchi
...
written by ARUN JOSHI, September 01, 2011
DHAMUJI ANNA KE VAGHARIK ANDOLAN SE PRERIT HOKAR SACH LIKH GAYE SACH JO KADVA AND KROOR HOTA HE . PATRIKA SE YE UMEED NAHI THI KI CHAND LOGO KO KHUSH KARNE ME EK VAFADAR SIPAHI SE HATH DHO LANGE!
...
written by ARUN JOSHI, September 01, 2011
SACH KAHNE & LIKHNE KE SAHAS KO SALAM. PAR YE SHAHIDI HE
MP ME PATRIKA KO APNI POLICY PAR PUNARVICHAR KARANA CHAHIYEa VARNA NO 1 KA SAPNA KAGAJ PAR HI RAH JAYEGA
...
written by khabri, September 01, 2011
satyata janne ke liye padhen
pradeshtoday.com
edit page no. 6
meadia mirchi
''ied ke din patrkar dhamu ko bali ka bakra banaya''
soorma ki fank me.........
...
written by palangpolo, September 01, 2011
Isme kaunsi badi baat hai. Damage control (CM) ke liye apne kisi senior employee ke bali lena patrika ka liye koi badi baat nahi hai. patrika ke jo reporter sarkar ke ek dhade ko lagataar 'pin chubha rahe hai,' unhe is baare me ganbhirta se sochna chahiye.
...
written by palangpolo, September 01, 2011
Isme kaunsi badi baat hai. Damage control (CM) ke liye apne kisi senior employee ke bali lena patrika ka liye koi badi baat nahi hai. patrika ke jo reporter sarkar ke ek dhade ko lagataar 'pin chubha rahe hai,' unhe is baare me ganbhirta se sochna chahiye.
...
written by बिल्‍लू राम, September 01, 2011
पत्रिका और पत्रिका के मालिक सारे काम नैतिक ही करते हैं। वे राजा हरिश्‍चंद्र के वशंज है इसे धामू समझ नहीं पाए। राजस्‍थान के कर्मियों की सैलेरी ज्‍यादा बढाएंगे, मध्‍य प्रदेश वालों की कम। किसी से बदला लेना हो तो हटाओ मत, ट्रांसफर ट्रांसफर कर कुत्ते जैसी हालत कर दो कि किसी गली में टिक न सके। धामू ने जो लिखा उससे पत्रिका के हितों पर मध्‍य प्रदेश में चोट लगती, मुख्‍यमंत्री से लेकर दूसरे तक उसकी जड़े उखाड़ने में लग जाते। इससे डरकर हटाया गया है धामू को। भाई धामू चमचागिरी का लेखन करो, गुलाब कोठारी फिर से रख लेगा आपको।

Write comment

busy
Last Updated ( Thursday, 01 September 2011 12:52 )