आखिरकार टूट ही गया इंडिया टुडे से सुभाष मिश्र का नाता

E-mail Print PDF

लखनऊ से खबर आ रही है कि इंडिया टुडे से सीनियर एडिटर सुभाष मिश्र का नाता टूट गया है. प्रभु चावला के खास माने जाने वाले सुभाष मिश्र का तबादला प्रबंधन ने मार्च में विशाखापट्टनम के लिए की दिया था, लेकिन वे वहां नहीं गए. पत्‍नी के स्‍वास्‍थ्‍य को कारण बताते हुए उन्‍होंने प्रबंधन से लखनऊ छोड़ पाने में असमर्थता जता दी थी. पर उन्‍होंने अब वहां ज्‍वाइन नहीं किया था.

खबर है कि अब उनका इंडिया टुडे नाता पूरी तरह टूट गया है. वे पिछले डेढ़ दशक से इंडिया टुडे को लखनऊ में अपनी सेवाएं दे रहे थे. 1995 में इंडिया टुडे ज्‍वाइन करने बाद लगातार तरक्‍की करते करते सीनियर एडिटर बन गए थे. हिंदी के साथ अंग्रेजी में भी उनका नाम जाता था. सत्‍ता के गलियारों में उनकी खूब धमक थी. अब यह पता नहीं चल पाया है कि उन्‍होंने इस्‍तीफा दिया है या संस्‍थान ने उन्‍हें बाहर किया है. वे अपनी नई पारी कहां से शुरू करेंगे इसकी जानकारी भी नहीं मिल पाई है.


AddThis
Comments (1)Add Comment
...
written by A B Singh, September 12, 2011
A B Singh Lucknow

Subash Mishra Story is completely known. After assuming charge M J Akbar called Mishra in Taj Hotel & asked him to resign. Akbar blamed him that he is making money in name of India Today by arranging Football tournament & others.
Subash Mishra used legal loopholes in order to remain there.

In that meeting Akbar asked Farzand Ahmed hat as he is so old & senior so his contract is likely to not be resumed.




Write comment

busy