प्रभात खबर, भागलपुर संकट में : संपादक का तबादला, एनई समेत चार का इस्‍तीफा

E-mail Print PDF

भागलपुर में प्रभात खबर से मात खाने के बाद हिंदुस्‍तान अब सीधी लड़ाई में उतरता दिख रहा है. हिंदुस्‍तान प्रभात खबर के लोगों को ही तोड़कर अपने साथ जोड़ने में लगा हुआ है. प्रभात खबर में भागमभाग जैसी स्थिति बन गई है. कई लोगों ने अखबार को अलविदा कह दिया है. सबसे बड़ी खबर है कि भागलपुर के स्‍थानीय संपादक चंदन शर्मा का तबादला रांची के लिए कर दिया गया है. फिलहाल उन्‍होंने रांची ज्‍वाइन नहीं किया है. वे छुट्टी पर चल रहे हैं.

समाचार संपादक अजीत सिंह ने भी इस्‍तीफा दे दिया है. अभी उनकी कहीं ज्‍वाइनिंग नहीं हुई है. सिटी चीफ प्रसन्‍न सिंह प्रभात खबर छोड़कर हिंदुस्‍तान चले गए हैं. बांका के जिला प्रभारी संजय सिंह ने भी हिंदुस्‍तान ज्‍वाइन कर लिया है. डेस्‍क पर तैनात सफदर मोबिन भी यहां से इस्‍तीफा देकर लखनऊ में आई-नेक्‍स्‍ट ज्‍वाइन कर लिया है. खबर है कि कई अन्‍य प्रभात खबरियों के साथ हिंदुस्‍तान प्रबंधन संपर्क में है. कुछ और लोग प्रभात खबर को नमस्‍कार कर सकते हैं.

गौरतलब है कि भागलपुर में प्रभात खबर की लांचिंग के समय राघवेन्‍द्र को स्‍थानीय संपादक बनाया गया था तथा उनको अखबार लांच कराने की जिम्‍मेदारी सौंपी गई थी. लांचिंग से पहले ही राघवेन्‍द्र ने इस्‍तीफा देकर भास्‍कर ज्‍वाइन कर लिया. इसके बाद चंदन शर्मा को प्रभात खबर, भागलपुर का स्‍थानीय संपादक बनाया गया. चंदन शर्मा के नेतृत्‍व में प्रभात खबर की धमाकेदार लांचिंग हुई तथा प्रभात खबर ने जल्‍द ही भागलपुल में हिंदुस्‍तान तथा दैनिक जागरण को पछाड़ते हुए नम्‍बर एक की कुर्सी पर कब्‍जा जमा लिया. इसके बाद हिंदुस्‍तान ने इस टीम को ही तोड़ने की रणनीति तैयार कर ली.

इस संदर्भ में चंदन शर्मा से बात की गई तो उन्‍होंने कोई भी टिप्‍पणी करने से इनकार कर दिया. जब भड़ास की तरफ से प्रभात खबर के कारपोरेट एडिटर राजेन्‍द्र तिवारी से बात की गई तो उन्‍होंने भी कोई कमेंट करने से मना कर दिया.


AddThis
Comments (13)Add Comment
...
written by prabhat kabhar bhagalpur, September 24, 2011
DANIK JAGRAN KA MANAGAR AVBNISH DARU PE KAR OFFICE KARTA HAI AUR LOGO KO DRA KAR AD MANGATA HAI KAB TAK AISA KAROGO BAND KARO AISA
...
written by Richa, September 24, 2011
Prabhat khabar ek training school hai kam paise mil rahe hain to kya , sikhne ka achcha mauka hai kyuki yahaa kisi ko kuch nahi aata. sab mil k naaw paar lagane ki koshish mein hai par bedili se jise mauka milta hai ganga mein doobki laga leta hai .prabhat khabar mein na management hai aur na hi paisa. yeh ek anootha akhbaar jiski khabrein kisi alag hi duniya ki baat karti hai. In logo ko ye kab samajh aaega ki akhbaar ki quality uske panne ki quality nahi khabro ki quality se hoti hai. ek nihayat hi below standard product.
Shayad inko ye nahi pata ki 5000 salary pe inhe koi v talented bandaa nahi mil sakta. koi jankaar aadmi sirf shauk k liye patrakarita nahi karta., kuch bhautik zarooratein v hoti hain.
aur jahaa tak baat hai harivansh, goenka aur dutta ki tikri ka...yeh ganit jab tak inki samajh mein nahi aaega tab tak prabhat khabar ka bera paar lagana mushkil hi hai.....jiyo aur jine do. sabhi prabhat khabar karmi jo naukri badalna chahte ho.....unke liye aane wale samay mein bihar mein kai opprtunites aane wali hain...Best of Luck...








...
written by ritesh verma, September 23, 2011
Prabhat Khabar ko aisi stithi se nibatane ki aadat hai. sach hai ki Hindustan ne Ranchi main Prabhat Khabar ko kafi pareshaan kiya tha. Us waqt main Prabhat Khabar ka employee tha per Harivanshji, Duttaji aur Goenka ji ki tikdi ne Prabhat Khabar ko nayee bulandi per pahuncha diya. Bhagalpur main bhi aisa hi hoga.Prabhat Khabar jameen se juda akhbar hai aur ise aage badhne se koi nahin rok sakta.
...
written by roma , September 23, 2011
ye to bari ajeeb baat hai. ab log chahe cuchh bhi kahe. lekin ek jagah akhbaar ke ko stablish karna aur use sath jur kar saflta ke ji tor mehnat karne ka ye inaam milta hai ..? ye bari khudgarj duniya hai bhai. aur aise aise log comment karne wale? sharm!
...
written by kamaal hai, September 23, 2011
sushant jee
aap jo bhi hon apna sahi naam bata dete to aapka bhee bhala hota, tiwari ji aapko gaya kee kurshi de dete. khair aaapki suchna ke liya bata doon kee rastrapati wali galati chandan jee ke chhutti par jane ke baad huyee hai.
...
written by shiv shankar, September 22, 2011
paltu aur faltu hi ek jagah tikate hai
...
written by shiv shankar, September 22, 2011
paltu aur faltu do prakar ke log ak jagah per tikte hai baki batlte rahne ko majbur hai.
...
written by abhishek , September 22, 2011
भागलपुर में चन्दन शर्मा ने ऐसे वक़्त में प्रभात खबर को सफलता की ऊंचाइयों पर पहुचाया था जब हिंदुस्तान काफी मजबूत स्थिति में था. राघवेन्द्र दैनिक भास्कर जा चुके थे. उनके द्वारा तय किया गए काफी कम बजट की रूप रेखा के अनुसार न केवल हर जिले में ऑफिस खोला गया बल्कि कम संसाधनों में बेहतर एम्प्लोयी भी रखे गए. नतीजा जबरदस्त धमाके के साथ प्रभात खबर ने एंट्री की. चन्दन शर्मा के सौम्य स्वभाव के कारन सबने बेहतर आउट पुट दिया. हिंदुस्तान में विनोद बंधू चले गए. और भी कई तब्दीलियाँ की गयी. जागरण के संपादक बदले गए. इतनी - इतनी उपलब्धियों के बाद चन्दन शर्मा का तबादला गले के नीचे नहीं उतरता. क्या हरिवंश जी को इसकी खबर है? यकीन नहीं होता. वैसे अखबारी दुनिया में फायदा के अलावा भी कई बाते है.
...
written by abhishek , September 22, 2011
भागलपुर में चन्दन शर्मा ने ऐसे वक़्त में प्रभात खबर को सफलता की ऊंचाइयों पर पहुचाया था जब हिंदुस्तान काफी मजबूत स्थिति में था. राघवेन्द्र दैनिक भास्कर जा चुके थे. उनके द्वारा तय किया गए काफी कम बजट की रूप रेखा के अनुसार न केवल हर जिले में ऑफिस खोला गया बल्कि कम संसाधनों में बेहतर एम्प्लोयी भी रखे गए. नतीजा जबरदस्त धमाके के साथ प्रभात खबर ने एंट्री की. चन्दन शर्मा के सौम्य स्वभाव के कारन सबने बेहतर आउट पुट दिया. हिंदुस्तान में विनोद बंधू चले गए. और भी कई तब्दीलियाँ की गयी. जागरण के संपादक बदले गए. इतनी - इतनी उपलब्धियों के बाद चन्दन शर्मा का तबादला गले के नीचे नहीं उतरता. क्या हरिवंश जी को इसकी खबर है? यकीन नहीं होता. वैसे अखबारी दुनिया में फायदा के अलावा भी कई बाते है.
...
written by abhishek , September 22, 2011
भागलपुर में चन्दन शर्मा ने ऐसे वक़्त में प्रभात खबर को सफलता की ऊंचाइयों पर पहुचाया था जब हिंदुस्तान काफी मजबूत स्थिति में था. राघवेन्द्र दैनिक भास्कर जा चुके थे. उनके द्वारा तय किया गए काफी कम बजट की रूप रेखा के अनुसार न केवल हर जिले में ऑफिस खोला गया बल्कि कम संसाधनों में बेहतर एम्प्लोयी भी रखे गए. नतीजा जबरदस्त धमाके के साथ प्रभात खबर ने एंट्री की. चन्दन शर्मा के सौम्य स्वभाव के कारन सबने बेहतर आउट पुट दिया. हिंदुस्तान में विनोद बंधू चले गए. और भी कई तब्दीलियाँ की गयी. जागरण के संपादक बदले गए. इतनी - इतनी उपलब्धियों के बाद चन्दन शर्मा का तबादला गले के नीचे नहीं उतरता. क्या हरिवंश जी को इसकी खबर है? यकीन नहीं होता. वैसे अखबारी दुनिया में फायदा के अलावा भी कई बाते है.
...
written by sushant chandra, September 22, 2011
Isme pehli baat to yeh galat hai ki chandan sharmaji ka tabadla hua hai. Vo pichhale 15-18 din se awakash par the..Unke rehte akhbar me radhakrishnan ko desh ka pehla rashtrapati bataya gaya. Aisi galti par to dusre akhbar me ek din bhi kaam na klarne diya jaata. Khar..meri jankari ke mutabik chandanji ne istifa diya hai. unka transfere to hua nahi hai.
Dusari baat...chandan sharma jaise piddi ke jaane se prabhat khabar ka kuchh bigadne wala nahe...jinko yaad na ho unko yaad dila de ki 2000 me ranchi prabhat khabar ke executive editer hari narayan singh editorial ke 32 logo ko lekar bina notice diye raton rat hindustan chale gaye the lekin phir bhi prabhat khabar ka kuchh nahe bigda balki vo pehle jyada majbooti se aage badha aur aaj ke din desh ke teeno bade akhbaron ke pasine chuda raha hai...desh me koi aisa dusra akhbar nahe hai.
Ek baat aur galat chhapi hai yehan....ki log prabhat khabar chod kar ja rahe hai to aapko bata den ki yadi aisa hota to 700-800 log prabhat khabar me aise na bache hote jo 20 se jyada saal se jude hai aur dugne-tigune offer par bhi nahe gaye.Agar ye akhbaar achcha na hota to dusre bade akhbaaron ke senior log prabhat ko join na karte.
...
written by aftab alam, September 22, 2011
ऐसा लगता है कि पत्रकारिता में अब स्थायित्व का दौर समाप्त हो गया है। यही कारण है कि आए दिन पत्रकार एक-जगह से दूसरे जगह खिसक लेते हैं। इसमें पत्रकार और प्रबंधन दोनों की भूमिका होती है। कुछ लोग तंग होकर छोड़ जाते हैं तो कुछ लोगों को छोड़ने के लिए तंग कर दिया जाता है। वर्ष और महीने तरह लोग मीडिया हाउस लोग बदल रहे हैं। पता नहीं कब वो दौर आएगा जब पांच दस साल तक लोग एक ही मीडिया हाउस से जुड़े रहेंगे।
आफताब आलम, संपादक
पत्रकारिता कोश/मीडिया डायरेक्टरी
प्लॉट नं.4-जे-7, शिवाजी नगर, गोवंडी,
मुंबई-400043. महाराष्ट्र
मो. 09224169416
email: [email protected]
...
written by neeraj, September 22, 2011
bhagal[ur me kai aur bhagne ke phirak me hai bus mauka milne ki jarurat hai

Write comment

busy
Last Updated ( Thursday, 22 September 2011 17:41 )