जनता टीवी से पलायन जारी, छह वरिष्‍ठों ने दिया इस्‍तीफा

E-mail Print PDF

: अपडेट : अभी कुछ महीने पहले लांच हुए जनता टीवी से पूर्व चैनल हेड विवेक सत्‍यमित्रम के समय जोड़े गए सीनियर लोग इस्‍तीफा देकर दूसरे ठिकानों पर जा रहे हैं. नॉन मीडिया बैकग्राउंड वाले मालिक के चैनल हेड की भूमिका में उतर आने से सीनियर पत्रकार परेशान हैं. खबर है कि पिछले कुछ दिनों में चैनल आधा दर्जन वरिष्‍ठों ने अपना इस्‍तीफा सौंप दिया है.

यहां पर सीनियर करेस्‍पांडेंट के रूप में कार्यरत प्रमोद चतुर्वेदी ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे अब दिल्‍ली में ही मौर्य टीवी से जुड़ गए हैं. उन्‍हें यहां पर भी सीनियर करेस्‍पांडेंट बनाया गया है. प्रमोद ने अपने करियर की शुरुआत दूरदर्शन से की थी. इसके बाद वे एसवन न्‍यूज, आजाद न्‍यूज तथा सीएनईबी को भी अपनी सेवाएं दे चुके हैं. जनता टीवी में सीनियर एंकर आदर्श राठौड़ ने भी इस्‍तीफा दे दिया है. वे अब यूटीवी के साथ कुछ एसाइनमेंट कर रहे हैं. आदर्श इसके पहले एसवन, वॉयस ऑफ इंडिया एवं इंडिया न्‍यूज को अपनी सेवाएं दे चुके हैं. सीनियर प्रोड्यूसर के रूप में कार्यरत रमाकांत दुबे भी इस्‍तीफा देकर सीएनईबी ज्‍वाइन कर लिया है.

जनता टीवी में प्रोड्यूसर के पद पर कार्यरत अमित मंडल इस्‍तीफा देकर आजाद न्‍यूज चले गए हैं. उन्‍हें यहां भी प्रोड्यूसर बनाया गया है. वे जनता टीवी में रन डाउन संभालते थे. अमित आजाद न्‍यूज से ही जनता टीवी आए थे. उन्‍होंने वापस दुबारा आजाद ज्‍वाइन कर लिया. इसके पहले वे बीएजी, अमर उजाला, जनमत को भी अपनी सेवाएं दे चुके हैं.  एंकर के रूप में कार्यरत शशांक शुक्‍ला भी इस्‍तीफा देकर इंडिया न्‍यूज चले गए हैं. वे सीएनईबी से जनता टीवी आए थे. वे इंडिया न्‍यूज पंजाब को अपनी सेवाएं देंगे. एंकर के रूप में कार्यरत कृष्‍णा राजवंश ने भी जनता टीवी से इस्‍तीफा दे दिया है. उन्‍होंने अभी कहीं ज्‍वाइन नहीं किया है. वे इसके पहले इडिया न्‍यूज, न्‍यूज24 को भी अपनी सेवाएं दे चुके हैं.

इस संदर्भ में प्रबंधन का कहना है कि ऐसी कोई बात नहीं है. हम सभी का ख्‍याल रखते हैं. ये लोग पिछले एक से दो महीनों के भीतर छोड़ कर गए हैं. अगर हम किसी के काम से संतुष्‍ट नहीं हैं तो हमें उसे बताने का अधिकार है. हम किसी को प्रताडि़त नहीं कर रहे हैं किसी की सेलरी नहीं रोक रहे हैं. हर कोई अपने बेहतरी के लिए जाता है, ये लोग भी अपने हिसाब से बेहतर जगह गए होंगे. यहां सभी को बराबर मौके दिए जाते हैं पर हम सभी को संतुष्‍ट नहीं कर सकते. कई नए लोग संस्‍थान से जुड़े हैं, जो बेहतर कर रहे हैं.


AddThis
Last Updated ( Tuesday, 27 September 2011 19:22 )