अमर उजाला से सुनील कुमार ने दिया इस्‍तीफा, लगाए गंभीर आरोप

E-mail Print PDF

अमर उजाला, वाराणसी से सब एडिटर सुनील कुमार ने इस्‍तीफा दे दिया है. उन्‍होंने संपादक को भेजे गए इस्‍तीफे में प्रताडि़त करने का आरोप भी लगाया है. सुनील पिछले दस सालों से अमर उजाला को अपनी सेवाएं दे रहे थे. बताया जा रहा है कि बीमारी के चलते छुट्टी न मिलने तथा वेतन काट लिए जाने से नाराज होकर अपना इस्‍तीफा सौंपा है. पूछे जाने पर सुनील कुमार ने अपने इस्‍तीफे की पुष्टि की.

सुनील ने बताया कि मैं अप्रैल माह से ही सर्वाइकल स्पोंड्लाईटिस से गम्भीर रुप से पीड़ित हूं, बावजूद इसके सम्पादक डा. तीर विजय सिंह ने अवकाश मंजूर नहीं किया. ये बीमारी मुझे लगातार दस-दस घंटे काम करने के चलते हुई है. कार्यालय में मैंने उल्टियां की इसके बावजूद मुझे अवकाश नहीं दिया गया. मैं 14 अगस्त को अपने भाई को भेजकर 6 दिन की छुट्टी मांगी तो सम्पादक ने लीव बिदाउट पे कर दिया, जब कि मेरा 81 ईएल, 51 मेडिकल, 7 सीएल अभी भी शेष है.

सुनील का कहना है कि कार्यालय में कर्मचारियों के साथ भेदभाव किया जाता है. कई लोगों को दूसरे कामों के लिए भी मेडिकल लीव दिया गया, जबकि मैं सचमुच बीमार हूं तो मेरा उत्‍पीड़न किया जा रहा है. सुनील ने कहा कि मैं इस मामले में मानवाधिकार आयोग, लेबर कोर्ट तथा एससीएसटी आयोग को भी अपनी शिकायतें भेजूंगा तथा इसमें राजुल माहेश्‍वरी तथा स्‍थानीय संपादक को पार्टी बनाऊंगा.

नीचे सुनील द्वारा संपादक को भेजा गया पत्र.


AddThis
Last Updated ( Tuesday, 27 September 2011 13:34 )