कासगंज में हिंदुस्‍तान की हालत खराब, बिना सेलरी दिए स्ट्रिंगर को हटाया गया

E-mail Print PDF

कासगंज में हिंदुस्‍तान के हालात खराब हैं. बीते दिनों पटियाली में ट्रेन हादसे की खबर में कुछ गल्तियां होने के बाद प्रबंधन ने यहां का प्रभार देख रहे स्ट्रिंगर अवधेश द‍ीक्षित समेत सभी को हटा दिया था. इसके बाद किसी तरह एक महीने तक कासगंज में इधर-उधर से खबरें लेकर काम चलाया गया. इसके बाद पीलीभीत से बुलाकर संजय अग्रवाल का प्रभार दे दिया गया है. उन्‍हीं के नेतृत्‍व में कासगंज कार्यालय का संचालन हो रहा है.

कासगंज कार्यालय का सुपरविजन एटा के ब्‍यूरोचीफ अनुज शर्मा कर रहे हैं. संजय के बाद अश्‍वनी कुमार तथा अभिषेक की नियुक्तियां क्रमश: स्ट्रिंगर तथा फोटोग्राफर के पद पर हुई. परन्‍तु इन लोगों ने सेलरी नहीं मिलने के बाद काम छोड़ दिया. इसके बाद चेतन यादव को स्ट्रिंगर बनाकर लाया गया. चेतन भी दो महीने तक कासगंज में अखबार का काम देखते रहे परन्‍तु उन्‍हें सेलरी नहीं मिली. उन्‍होंने जब अपने सेलरी की मांग की तो उन्‍हें हटा दिया गया.

चेतन ने आरोप लगाया कि प्रभार देख रहे संजय अग्रवाल ने उन्‍हें बेवकूफ बनाया तथा उनका नाम आगरा कार्यालय नहीं भेजा. पिछले एक महीने से लगातार टाल मटोल किया जा रहा था. मुझे बेवकूफ बनाकर काम कराया जा रहा था. उनका नाम कासगंज के संवाददाता के रूप में दर्ज नहीं हुआ जबकि वो आगरा यूनिट से एक दिन का प्रशिक्षण लेकर आए थे. मेरा दो माह का वेतन लगभग आठ हजार रुपये बनता है, जो मुझे नहीं मिला है. सेलरी मांगने के बाद मुझपर तमाम तरह के आरोप लगाए गए तथा हटा दिया गया. अब दूसरे अखबारों के लोगों से खबरें लेकर काम चलाया जा रहा है.

इस संदर्भ में जब कासगंज प्रभारी संजय अग्रवाल से बात की गई तो उन्‍होंने कहा कि चेतन ने डेढ़ महीने अखबार के लिए काम किया. उन्‍होंने ईमानदारी से काम किया. उन्‍हें सेलरी मांगने के चलते नहीं बल्कि अनुशासनहीनता के चलते हटाया गया है. कार्यालय में देर से आने तथा बात न सुनने के चलते यह कार्रवाई की गई है. मांगे जाने के बावजूद उन्‍होंने अपना पेनकार्ड नम्‍बर उपलब्‍ध नहीं कराया जिसके चलते उनकी सेलरी उन्‍हें नहीं दी जा सकी.


AddThis
Comments (4)Add Comment
...
written by sunil, October 09, 2011
pilibhit buero chif sandeep singh pr coment karne bala khud chor h iska amarujala jagran ka alag ithiash h dono papero se nikala gaya h. sandeep jese daveta pr coment kr raha h'khud no 1 ka dalal h iske baare me pilibhit ke sp rahe yk pachori ka kahna tha ki isme to saanp ke lachad h yeh kisi ka saga nahi ho sakta jo apne baap ka saga nahi hua voh kiska hoga'khud bechara pilibhit aana chahta h isliye aisi harkete kr raha h kai baar to laddu bhi baant chuka h. october me iska yeh haal h to june me kya hoga
...
written by sanjay gupta, October 02, 2011
kasganj ke patrakaroon ka hall kafi kharab hai hamam main sab nange hai amarujala ka ajay jhawar sab khata hai sab karta hai lekin chehra saaf rakhata hai;dainik jagran ka sanjay dhooper purana satoria hai uska bada bhai aaj bhi satte ka mafia hai isliye wo police aur etah beuro anil gupta ki gulami karta hai,kalptaru wala pushpendrasoni shatir aur dhokebaz hai bobby thakur gunda gyan tirvedi ayyash chor sharabi hai guddu yadav mafia shiv pratap solanki amanpur thane ka history sheetar aur thag hai rashid media ke naam par battrie ka mafia hai nakli ko asli banata hai,fahim akhatar fatoahai,kc varsney ayyasshi kartey pakda gaya tha ab patrakaraur neta hai
...
written by Arun, September 28, 2011
sanjay agarwal to purana chor hai. amar ujala se beyimani karne aur logon ko thagne me nikala gaya tha. Hindustan bareilly me bhi Pilibhit ka bureau incharge sandeep singh bhi 1no. ka chor hai. usne ek reportar tarik qureshi ko rakh liya jo ki taskar hai.reportar ram nivash sharma randibaji karta hai.amar ujala wale rajesh ke sang yes saala bhi lene gaya tha police chape se 5minute pahle hi lekar nikal bhaga tha varna ram nivash sharma bhi rajesh ke saath jail me hota. reporter furkan hashmi NGO chalane walo ka dalal hai. puranpur ka patrakar satish mishara tel mafiya hai aur khule aam dalali karta hai. bisalpur ka patrakar patiram gangwar to dalali kar kar ke kuch din pahle motorcycle khareed laya hai. sandeep singh khud hi doo kaudi ka inshan hai. saale ke pass se badboo aati hai. choron ka sargana bana baitha hai. in sabko bareilly me baitha NEWS EDITOR Yogendra singh rawat paise khakar paal raha hai. ashish vyas ji jaag jaiye varna yeh saale aapko barbad kar denge.
...
written by raja, September 28, 2011
भैया कहे को हिंदुस्तान की डेलि डेलि भड़ास पर लिखते हो जब एक बार हमने आपसे साफ साफ कह दिया हैं की हिंदुस्तान लाला का अखबार है। केवल पीसीसी पर ही चल रहा है। इसके बबजूद भी आप डेलि डेलि भड़ास पर लिख देते हो। अब चलो हिन्दी में कह देता हूँ की हिंदुस्तान की फिल्म पीट गयी है। मारे हुए साप को गले में लटकाए हुए क्यो डोल रहे हो।

Write comment

busy