इनाम के नाम पर ठगी करता है इंडिया टीवी

E-mail Print PDF

मैं कानपुर से सौरभ ओमर हूं और मैं खबरिया टीवी चैनलों में सबसे अधिक इंडिया टीवी देखता था, लेकिन आज कल इंडिया टीवी का दर्शक नहीं हूं क्योंकि इंडिया टीवी वाले अपने ही दर्शकों को ठगने का काम करते हैं, जिसकी जालसाजी का मैं शिकार हूं.

हुआ यूं कि इंडिया टीवी ने अपने चैनल में एक प्रोग्राम चलाया था,  जिसका नाम था अलर्ट व्‍यूवर्स जिस में ऐसे लोग जो चैनल के दर्शक हों या फिर उनके पास कोई ऐसा वीडियो हो जो समय से पहले हो या फिर सिर्फ उन्हीं के पास हो यानी कि चैनल कि भाषा में एक्सक्लूसिव हो उसे इंडिया टीवी चैनल पर चल रहे प्रोग्राम अलर्ट व्‍यूवर्स के दिए फ़ोन नंबर पर बात करके बताये गए पते पर भेज दें,  अगर मोबाइल पर हो तो उसे ईमेल के जरिये सेंड कर दें, जिसके बाद आपकी खबर को आपके नाम से चलाया जायेगा और उसके बदले वीडियो भेजने वाले को इनाम दिया जायेगा.

जिस में कलर टीवी समेत कई इनाम थे तो मैंने भी प्रोग्राम देख कर ऐसे वीडियो कि तलाश में लग गया,  जो सिर्फ मेरे पास हो फिर एक दिन अपने नगर (कानपुर) के सरकारी स्कूल यानी कि प्राथमिक विद्यालय के पास खड़ा था,  उस समय मेरे पास न तो कैमरे वाला कैमरे वाला मोबाइल था और न ही कैमरा था.  मैंने उस दिन वहां देखा कि विद्यालय में मिड डे मिल योजना के नाम पर किस तरह धज्जियां उड़ाई जा रही है. बस क्या था.  मैंने अपने मन में तय कर लिया कि अगर आज विद्यालय में ऐसा हो रहा है तो हर दिन ऐसा होता होगा और मैंने तीसरे दिन अपने मित्र से एक वीडियो कैमरा लिया और उसे साथ लेकर विद्यालय चला गया, जहां थोड़ी देर इन्तजार किया और वैसा ही नजारा देखने को मिला जैसा दो दिन पहले था.

मैंने अपने आपको मीडिया का स्टूडेंट बता कर पूरा कालेज को शूट करना शुरू कर दिया, लेकिन मेरा ध्यान सिर्फ मिड डे मिल पर था और मेरा टारगेट पूरा हो गया.  मैंने घर आकर वीडियो देखा और इंडिया टीवी के पते पर भेज दिया,  जिसे 24 अगस्त को प्रसारित किया गया. जिस में मेरा नाम भी दिया गया जिसके बाद इंडिया टीवी से फ़ोन आया कि मैं इंडिया टीवी से शीतल बोल रही हूं,  आपने जो वीडियो भेजा था उस पर आपको चैनल की और से एक कलर टीवी दिया जाता है,  जिसको लेने के लिए आपको 2314 रुपये का टीडीएस जमा करना होगा.

जिस पर मैंने टीडीएस जमा करने से मना कर दिया और कहा कि आपने तो इनाम देने के बदले उल्टा पैसा ही मांग लिया. ये आपने अपने प्रोग्राम में तो प्रसारित नहीं किया था, जिसके बाद आज तक न तो कोई फोन आया है और ना ही मैंने किया. मैंने इसलिए अपनी भड़ास लिखी है कि अगर इंडिया टीवी वाले इनाम के नाम पर अपने दर्शक बढ़ाते हैं,  पर उनका इनाम भी उन तक नहीं पहुंचाते हैं.  मैं भड़ास4मीडिया से ये निवेदन करता हूं कि अपने भड़ास में ये प्रकाशित कर अन्य दर्शकों को इससे सावधान करने का काम करे।

सौरभ ओमर

This e-mail address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it


AddThis